सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? कार्य, भर्ती प्रक्रिया, योग्यता- Software Engineer Kaise Bane

Date:

नमस्कार दोस्तों! मुझे पता है आज आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? कार्य, भर्ती प्रक्रिया, योग्यता- Software Engineer Kaise Bane (How to become a software engineer? Job, Recruitment Process, Qualification in Hindi) के बारे में विस्तृत जानकारी जानने आए हैं। ओर हम आपको निराश नही करेंगे आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर के बारे में सही जानकारी बताने वाले हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

आज हम आपको बताएंगे की सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? Software Engineer Kaise Bane. और इसके अलावा हम आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर किसे कहते हैं? (What is a Software Engineer in Hindi) और सॉफ्टवेयर इंजीनियर की क्या योग्यता होनी चाहिए? (Software Engineer Qualification in Hindi) और इसके अलावा सॉफ्टवेयर इंजीनियर के बारे में (About Software Engineer in Hindi) और सॉफ्टवेयर इंजीनियर से सम्बंधित बहुत सी जानकारी आपको देने वाले हैं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ियेगा।

आज के समय में टेक्नोलॉजी का महत्व बढ़ता ही जा रहा है। सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग (Software Engineering), इंजीनियरिंग की शाखाओं में से सबसे उच्च शाखाओं में से एक है। यह पाठ्यक्रम वैज्ञानिक सिद्धांतों की मदद से सॉफ्टवेयर्स के विकास से जुड़ा हुआ पाठ्यक्रम है। 

सॉफ्टवेयर इंजीनियर सिस्टम (Software Engineer Systems) के शुरुआती चरणों से लेकर उसके उपयोग के बाद System को सुव्यवस्थित रखने के लिए Software तैयार करने के लिए आवश्यक सभी पहलुओं के अध्ययन से संबंधित विषय है। टेक्नोलॉजी के विकसित होने ये युग डिजिटल होता जा रहा है और टेक्नोलॉजी के विकसित होने से कंप्यूटर, मोबाइल, लैपटॉप जैसे उपकरण आज के लोगों के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गए हैं। 

यह सारे उपकरण को बनाने के लिए सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है जो सॉफ्टवेयर इंजीनियर के द्वारा बनाया जाता है। यदि आप भी सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं और यह खोजते हुए यहाँ तक पहुँचे है की सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? Software Engineer Kaise Bane तो आप बिल्कुल सही जगह पर आयें हैं इस लेख में बताया गया है की सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? Software Engineer Kaise Bane 

और इसके अलावा हम आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर किसे कहते हैं? (What is a Software Engineer in Hindi) और सॉफ्टवेयर इंजीनियर की क्या योग्यता होनी चाहिए? (Software Engineer Qualification in Hindi) और इसके अलावा सॉफ्टवेयर इंजीनियर के बारे में (About Software Engineer in Hindi) और सॉफ्टवेयर इंजीनियर से सम्बंधित बहुत सी जानकारी आपको देने वाले हैं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ियेगा।

Table of Contents

सॉफ्टवेयर क्या होता है? (What is Software in Hindi)

सॉफ़्टवेयर एक कंप्यूटर प्रोग्राम या कंप्यूटर प्रोग्रामों का सेट है जिसका उपयोग किसी कंप्यूटर या अन्य डिजिटल डिवाइस को किसी विशिष्ट कार्य को करने का निर्देश देने के लिए किया जाता है। यह उपकरण संचालित करने, उसे संचालित करने और सरल प्रक्रियाओं को पूरा करने में मदद करता है। 

उदाहरण के लिए:- एमएस ऑफिस, एंटीवायरस, नोटपैड, वर्डपैड आदि। आप मोबाइल फोन और कंप्यूटर का इस्तेमाल तो जरूर करते हैं, लेकिन आप जानते हैं कि सॉफ्टवेयर के बिना मोबाइल फोन और कंप्यूटर खाली डिब्बे की तरह होते हैं। जिस प्रकार मछली के लिए पानी और कंप्यूटर सिस्टम के लिए सॉफ्टवेयर महत्वपूर्ण है, उसी प्रकार उपयोगकर्ता कंप्यूटर और मोबाइल फोन पर सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर का उपयोग नहीं कर सकते हैं।

सॉफ़्टवेयर निर्देशों और प्रोग्रामों का एक समूह है जिसका उपयोग कंप्यूटर पर कुछ कार्यों को करने के लिए किया जाता है। सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का एक ऐसा महत्वपूर्ण भाग है जिसके बिना कंप्यूटर एक प्लास्टिक के डिब्बे जैसा दिखेगा। 

जिस प्रकार हम कंप्यूटर के हार्डवेयर को देख और छू सकते हैं, उसी प्रकार हम सॉफ्टवेयर को देख और छू नहीं सकते क्योंकि इसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है, बल्कि यह केवल मूर्त और समझा जा सकता है। उदाहरण के लिए, एक कंप्यूटर दो भागों से बना होता है: हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर। 

तो, समझें कि हमारे हाथ, पैर, आंखें और कान हमारे शरीर के हार्डवेयर हैं जिन्हें हम छू सकते हैं, देख सकते हैं और प्यार कर सकते हैं। ये सभी सॉफ्टवेयर हमारे शरीर में होते हैं, जिन्हें हम सिर्फ महसूस कर सकते हैं, लेकिन छू नहीं सकते। यदि हम हार्डवेयर को कंप्यूटर के शरीर के रूप में सोचते हैं, तो हम कह सकते हैं कि सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का मस्तिष्क है, जैसे मस्तिष्क के बिना किसी व्यक्ति का अस्तित्व नहीं है, जैसे सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर मृत है।

Related – टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान Advantages and Disadvantages of Technology in Hindi

सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Software in Hindi)

दोस्तों, सॉफ्टवेयर तो कई प्रकार के होते हैं लेकिन मुख्य रूप से सॉफ्टवेयर तीन प्रकार के होते हैं-

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility Software)

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software)

सिस्टम सॉफ़्टवेयर वह सॉफ़्टवेयर है जो अन्य सॉफ़्टवेयर को चलाने के लिए एक प्लेटफ़ॉर्म प्रदान करता है। इसे कंप्यूटर सिस्टम का होस्ट सिस्टम और ऑपरेटिंग सिस्टम भी कहा जाता है क्योंकि यह एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर, यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर और अन्य सॉफ़्टवेयर चलाने के लिए एक प्लेटफ़ॉर्म प्रदान करता है।

सिस्टम सॉफ़्टवेयर में सभी macOS, Linux, Android, Microsoft Windows ऑपरेटिंग सिस्टम, कंप्यूटर, औद्योगिक स्वचालन उपकरण और अन्य सेवा अनुप्रयोगों के लिए सॉफ़्टवेयर शामिल हैं। सिस्टम सॉफ़्टवेयर के बिना एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर, यूटिलिटीज़ या अन्य सॉफ़्टवेयर का उपयोग नहीं किया जा सकता है। सिस्टम सॉफ़्टवेयर उपयोगकर्ता को हार्डवेयर और अन्य सॉफ़्टवेयर के साथ सीधे इंटरैक्ट करने की अनुमति देता है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर के कुछ प्रमुख उदाहरण निम्नलिखित है-

1. बेसिक इनपुट आउटपुट सिस्टम (BIOS) – BIOS भी एक प्रकार का सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो आपको सिस्टम समस्याओं, बूट प्राथमिकता और आंतरिक सिस्टम सेटिंग्स को बदलने की अनुमति देता है।

2. BOOT PROGRAM – बूट प्रोग्राम वह प्रक्रिया है जो कंप्यूटर को प्रारंभ करती है। इसे हार्डवेयर द्वारा शुरू किया जा सकता है, जैसे बटन दबाकर, या सॉफ़्टवेयर कमांड द्वारा। जब कंप्यूटर को पहली बार चालू किया जाता है, तो कंप्यूटर के ROM में निर्देश स्वचालित रूप से निष्पादित होते हैं, जिससे कंप्यूटर के स्टार्टअप प्रोग्राम को मेमोरी में लोड करने और उसके निर्देशों को पूरा करने के लिए कहा जाता है। 

3. DEVICE DRIVER – डिवाइस ड्राइवर भी एक प्रकार का सिस्टम सॉफ्टवेयर है। जब आप किसी डिवाइस को अपने सिस्टम से कनेक्ट करते हैं, तो वह डिवाइस एक हार्डवेयर डिवाइस होता है और आपके सिस्टम के सॉफ़्टवेयर के साथ सीधे इंटरैक्ट नहीं कर सकता है। ऐसा करने के लिए, आपके सिस्टम पर कुछ ड्राइवर इंस्टॉल होने चाहिए। कई ऑपरेटिंग सिस्टम आवश्यक ड्राइवरों के साथ पहले से इंस्टॉल आते हैं, जो उपयोगकर्ता को उच्च स्तर की सुविधा प्रदान करते हैं।

Related – Mobile Number Se Location Kaise Pata Kare? मोबाइल नंबर से लोकेशन कैसे पता करे

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर वह सॉफ़्टवेयर है जो उपयोगकर्ता को उपयोगकर्ता-उन्मुख कार्य करने की अनुमति देता है जैसे वर्ड दस्तावेज़ बनाना, गेम खेलना, गाने सुनना, इंटरनेट ब्राउज़ करना आदि। एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर को किसी विशिष्ट कार्य को करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर के कुछ उदाहरण: एमएस वर्ड, एक्सेल, मोज़िला, क्रोम, वीएलसी, आदि।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को कुछ प्रमुख वर्गों में बांटा गया है जोकि निम्नलिखित हैं-

1. Word processing – इस श्रेणी में वैश्विक प्रसंस्करण के लिए उपयोग किए जाने वाले एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर शामिल हैं। दूसरे शब्दों में, आप इसमें शब्दों के साथ काम कर सकते हैं। विश्व प्रोसेसिंग सॉफ्टवेयर के विशिष्ट उदाहरण माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, वर्डपैड और नोटपैड हैं।

2. Presentation – ऐसा सॉफ़्टवेयर प्रेजेंटेशन के वर्ग से संबंधित है जिसके साथ आप स्कूल कार्यालय या अन्य कार्यों के लिए प्रेजेंटेशन तैयार कर सकते हैं। इसका मुख्य उदाहरण MS PowerPoint है।

3. Spreadsheet – सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम जो गणना की सुविधा के लिए पंक्तियों और स्तंभों में डेटा प्रदर्शित करते हैं, इस श्रेणी में आते हैं। स्प्रेडशीट सॉफ़्टवेयर का एक विशिष्ट उदाहरण MS Excel है।

4. Development Software – सॉफ़्टवेयर जो उपयोगकर्ता को अपने स्वयं के प्रोग्राम विकसित करने की अनुमति देता है, इस श्रेणी में आता है, उल्लेखनीय उदाहरण हैं Turbo C , Turbo C++, MSVS, Netbeans आदि।

5. Web Browser – वेब ब्राउज़र एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर की एक श्रेणी है जिससे अधिकांश लोग परिचित हैं। इस वर्ग में सॉफ्टवेयर शामिल है जो उपयोगकर्ताओं को इंटरनेट से जुड़ने में सक्षम बनाता है। सामान्य वेब ब्राउज़र उदाहरणों में इंटरनेट एक्सप्लोरर, विंडोज 10 एज, क्रोम, फ़ायरफ़ॉक्स और नेविगेटर शामिल हैं। ओपेरा, सफ़ारी, आदि।

6. Educational Software – शैक्षिक सॉफ़्टवेयर में वह सॉफ़्टवेयर शामिल होता है जो उपयोगकर्ता को शिक्षा से संबंधित जानकारी एकत्र करने की अनुमति देता है। इसका एक प्रमुख उदाहरण MATLAB सॉफ़्टवेयर है, जो उपयोगकर्ता को गणित से संबंधित जानकारी प्राप्त करने की अनुमति देता है। सिस्टम सॉफ़्टवेयर केवल अन्य सॉफ़्टवेयर को चलाने के लिए एक प्लेटफ़ॉर्म प्रदान करता है, लेकिन एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर कोई भी विशिष्ट कार्य कर सकता है।

Related – डीजल इंजन और पेट्रोल इंजन में अंतर क्या होता है?

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility Software)

एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर का मुख्य कार्य आपके सिस्टम को प्रबंधित करना और आपके सिस्टम में होने वाली समस्याओं को ठीक करना है। यह सिस्टम टूलबॉक्स है जिसका उपयोग सॉफ्टवेयर स्तर पर सिस्टम को संशोधित करने के लिए किया जा सकता है। यह आपके सिस्टम को गति दे सकता है, आपको वायरस और अन्य परेशानियों से बचा सकता है, और एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर कई कार्यों को आसान बनाता है। इसका स्पष्ट उदाहरण एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर है जो आपके कंप्यूटर को वायरस से बचा सकता है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर की कुछ श्रेणियाँ निम्नलिखित है-

1. कम्प्रेशन टूल (Ex. Winzip, Winrar) – यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण tool है, इस टूल से आप किसी भी फॉर्मेट जैसे MP3, MP4, JPG आदि की फाइल साइज को कम कर सकते हैं। और बाद में कभी भी उपयोग के लिए इसे छोटे आकार में साझा करें। उन्हें निकालने का तरीका यहां बताया गया है।

2. फाइल मैनेजमेंट टूल – विंडोज़ फ़ाइल एक्सप्लोरर एक फ़ाइल प्रबंधन tool है जो फ़ाइलों को ढूंढना, स्थानांतरित करना, कॉपी करना, हटाना, नाम बदलना और अधिक फ़ाइलों को ढूंढना आसान बनाता है।

3. डिस्क मैनेजमेंट – डिस्क मैनेजमेंट यूटिलिटी से आप, अपनी ड्राइव को नए पार्टीशन में sync कर सकते हैं।

4. डिस्क क्लीनअप – यह भी एक महत्वपूर्ण उपयोगिता है जिसका उपयोग आप अपने सिस्टम पर किसी भी हार्ड ड्राइव को साफ करने के लिए कर सकते हैं। इससे आपके सिस्टम की स्पीड बढ़ जाती है. उदाहरण:-  example:- क्लीनअप ccleaner.

5. बेकअप यूटिलिटी – बैकअप सॉफ्टवेयर से महत्वपूर्ण फाइलों का बैकअप लिया जा सकता है। यदि किसी कारण से फ़ाइल हटा दी जाती है, तो उसे सिस्टम में वापस जोड़ा जा सकता है।

6. एंटीवायरस – एंटीवायरस प्रोग्राम ऐसी उपयोगिताएँ हैं जो आपके सिस्टम को बाहरी वायरस हमलों से बचाती हैं। माइक्रोसॉफ्ट डिफेंडर नेट प्रोटेक्टर, McAfee, आदि। एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर के प्रमुख उदाहरण हैं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग क्या है? Software Engineering Kya Hai

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कंप्यूटर इंजीनियरिंग के क्षेत्रों में से एक है। दूसरे शब्दों में, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग सूचना प्रौद्योगिकी की एक शाखा है जो सभी प्रकार के सॉफ्टवेयर के डिजाइन, विकास, रखरखाव, परीक्षण, प्रोग्रामिंग आदि सिखाती है। 

इसमें HTML, JAVA, PHP, C++, Python और कई अन्य प्रोग्रामिंग भाषाएं शामिल हैं। सॉफ्टवेयर डेवलपर बनने के लिए इन सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को जानना बहुत जरूरी है। सॉफ़्टवेयर डेवलपर वह व्यक्ति होता है जो उपयोगकर्ता की ज़रूरतों के आधार पर विभिन्न प्रोग्रामिंग भाषाओं को प्रोग्राम करके सॉफ़्टवेयर विकसित करता है।

परीक्षणों से अपडेट रहें, सॉफ्टवेयर डेवलपर बनने के लिए इन सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को जानना बहुत जरूरी है। प्रोग्रामिंग भाषा सीखना उतना कठिन नहीं है। सॉफ्टवेयर डेवलपर बनने के लिए भाषा सीखना बहुत जरूरी है। भाषा के बिना आप सॉफ्टवेयर डेवलपर नहीं बन सकते।

Related – UPS क्या है, यूपीएस कैसे काम करता है? What is UPS in Hindi

सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? Software Engineer Kaise Bane

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए आपको पहले किसी मान्यता प्राप्त स्कूल बोर्ड से कम से कम 50% क्रेडिट के साथ 12वीं कक्षा विज्ञान उत्तीर्ण करनी होगी। यदि आप स्तर 12 उत्तीर्ण करते हैं, तो आपको कंप्यूटर विज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री की आवश्यकता होगी। 

स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद, आपको अपनी बी.टेक या एम.टेक की डिग्री हासिल करनी चाहिए और फिर अपने किसी शैक्षणिक संस्थान में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम के लिए आवेदन करना चाहिए। वर्तमान में, भारत में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के छात्रों को जेईई मेन, जेईई एडवांस, एमएचटी सीईटी, ओजेईई और बीसीईसीई जैसी प्रवेश परीक्षाएं उत्तीर्ण करना आवश्यक है।

आप भारत में अपने पसंदीदा विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट पर क्यों गए हैं जहाँ आप सॉफ़्टवेयर डेवलपर बनने के लिए प्रासंगिक योग्यताओं, डिग्री, पाठ्यक्रमों और योग्यताओं के आधार पर सॉफ़्टवेयर विकास पाठ्यक्रम लेना चाहते हैं, आधिकारिक वेबसाइट पर एक खाता बनाएं और अपने उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड के साथ लॉग इन करें। यहां आपको सॉफ्टवेयर डेवलपर बनने के लिए कोर्स तय करना होगा। कौशल्या के माध्यम से जाने के बाद आपके सामने आवेदन पत्र खुल जायेगा। आवेदन पत्र में सभी महत्वपूर्ण जानकारी भरें और संबंधित आवश्यक दस्तावेज भी अपलोड करें।

आपको मुख्य पृष्ठ पर प्रदर्शित आवेदन शुल्क के रूप में निर्धारित राशि का ऑनलाइन भुगतान करना होगा और आवेदन पत्र और जमा किए गए दस्तावेजों में दर्ज की गई जानकारी को दोबारा जांचना होगा। फिर अपना अनुरोध सबमिट करें। प्रत्येक विश्वविद्यालय में प्रवेश परीक्षाएँ अलग-अलग होती हैं। 

परीक्षा की तारीख अलग से घोषित की जाएगी, इस दिन आप विस्तृत परीक्षा की लिखित परीक्षा दे सकते हैं। कड़ी परीक्षाओं के बाद, आवेदन स्वीकार किए जाते हैं और सॉफ्टवेयर विकास पाठ्यक्रम पेश किए जाते हैं। इस कोर्स को पूरा करने के बाद आपको सॉफ्टवेयर डेवलपर बनने के लिए अलग-अलग कंपनियों में काम करना होगा।

Related – Database क्या है कैसे काम करता है? What is Database in Hindi

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के लिए कोर्स (Software Engineering Course)

डिप्लोमा कोर्स (Diploma Course)

12th पास करने के बाद आप इनमें से कोई सा भी डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं-

  • Certificate course in digital signal processing
  • Short course on developing industrial internet of things
  • Certificate in responsive website basics – code with HTML, CSS, and JavaScript
  • Certificate in java programming – solving problems with software
  • Java, Python, C, C++, SQL, HTML and other language embedded course
  • Software Testing
  • Data Visualization Course
  • Mobile app development Course
  • DBA
  • MySQL

बैचलर्स कोर्स (Bachelors Course)

12th पास करने के बाद आप इनमें से कोई सा भी बैचलर्स कोर्स कर सकते हैं-

  • Bachelor of Software Engineering (BSE)
  • Bachelor in Software Development
  • Bachelor in Software and Data Engineering
  • Software Development and Entrepreneurship (Professional Higher Education)
  • BSc in Computer Science and Engineering
  • B.Tech. Software Engineering

मास्टर्स कोर्स (Masters Course)

बैचलर्स कोर्स करने के बाद आप इनमें से कोई सा भी मास्टर्स कोर्स कर सकते हैं- 

  • MTech in Information Technology
  • MBA in Information Technology
  • MBA in Quality Management
  • MBA in Marketing
  • MBA in Finance
  • MBA in Operations
  • ME in Software Engineering
  • M.Sc. in Software Systems
  • MTech. Software Engineering
  • Post Graduate Diploma in Wireless and Mobile Computing

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के लिए कॉलेज (Colleges for Software Engineering)

भारत में सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए कुछ टॉप कॉलेजेस के नाम नीचे दिए गए हैं-

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, मद्रास
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, बॉम्बे
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस
  • मणिपाल एकेडमी ऑफ़ हाईयर एजूकेशन
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, दिल्ली
  • जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी
  • कोलकाता यूनिवर्सिटी
  • बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  • होमी भाभा नेशनल यूनिवर्सिटी
  • केरला यूनिवर्सिटी
  • गुजरात यूनिवर्सिटी
  • अमिता विश्वविद्यापीठ

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में करियर (Career in Software Engineering)

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में इन दिनों करियर की कई संभावनाएं हैं। इस क्षेत्र में हर दिन नए और बेहतर सॉफ्टवेयर और एप्लिकेशन बनाए जा रहे हैं। इस वजह से यह इंडस्ट्री तेजी से बढ़ रही है और इस क्षेत्र में करियर के ज्यादा मौके हैं। नीचे कुछ नौकरियाँ दी गई हैं-

  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer)
  • सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट (Software Architect)
  • सॉफ्टवेयर एक्सपर्ट (Software Expert)
  • चीफ टेक्निकल ऑफीसर (Chief Technical Officer)
  • सॉफ्टवेयर ट्रेनी डेवलपर (Software Trainee Developer)
  • साइबर सिक्योरिटी मैनेजर (Cyber Security Manager)
  • सॉफ्टवेयर डेवलपर (Software Developer)
  • सेल्स मैनेजर (Sales Manager)
  • वीडियो गेम डिजाइनर (Video Game Designer)
  • नेटवर्क सिक्योरिटी इंजीनियर (Network Security Engineer)
  • बिग डाटा इंजीनियर (Big Data Engineer)

टॉप भर्तीकर्ता कंपनियां (Top Recruiters)

Software Engineer Kaise bane जानने के बाद अब यह जानना जरूरी है कि इस पेशे में सबसे अच्छे रिक्रूटर्स कौन हैं, जिनके नाम नीचे सूचीबद्ध हैं-

  • Google
  • Amazon
  • Microsoft 
  • Oracle
  • IBM
  • Tata Consultancy Services (TCS)
  • IMB
  • HCL
  • CISCO
  • Accenture
  • Capgemini
  • Intel

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है? (Software Engineer Salary)

सॉफ्टवेयर डेवलपर एक महत्वपूर्ण पद है जिसकी इन दिनों काफी मांग है। आज आप बिना किसी कंपनी से जुड़े सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट का कोर्स करके और अपनी ऑनलाइन प्रोफाइल बनाकर अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

सॉफ्टवेयर विकास इन दिनों आवश्यक है। विभिन्न प्रकार की कंपनियाँ अपने मोबाइल ऐप और सॉफ़्टवेयर बनाती हैं, और सॉफ़्टवेयर डेवलपर भी विभिन्न प्रकार की वेबसाइटें बना सकते हैं। 

आमतौर पर भारत में एक सॉफ्टवेयर डेवलपर आसानी से प्रति वर्ष 1,500,000 रुपये कमा सकता है। हम आपको सूचित करते हैं कि यदि आप भारत में रहते हैं, तो भारत में एक सॉफ्टवेयर डेवलपर प्रति माह 25,000 रुपये से 45,000 रुपये कमाता है। उसके बाद सॉफ्टवेयर डेवलपर के अनुभव के आधार पर यह सैलरी धीरे-धीरे बढ़ती जाती है। इसके अलावा एक सॉफ्टवेयर डेवलपर का वेतन अनुभव, पद, कंपनी और उद्योग पर भी निर्भर करता है। अगर आप विदेश की कोई बड़ी कम्पनी में काम करते हैं तो आप साल भर में करोड़ो की कमाई कर सकते हैं।

Related – StarLink internet क्या है? भारत में कब आएगा। StarLink Internet in Hindi

Robot Kya Hai Aur Kaise Kam Karta Hai??

FAQ,s –

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी होती है?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए आपको पहले किसी मान्यता प्राप्त स्कूल बोर्ड से कम से कम 50% क्रेडिट के साथ 12वीं कक्षा विज्ञान उत्तीर्ण करनी होगी। यदि आप स्तर 12 उत्तीर्ण करते हैं, तो आपको कंप्यूटर विज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री की आवश्यकता होगी। 

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?

आमतौर पर भारत में एक सॉफ्टवेयर डेवलपर आसानी से प्रति वर्ष 1,500,000 रुपये कमा सकता है। हम आपको सूचित करते हैं कि यदि आप भारत में रहते हैं, तो भारत में एक सॉफ्टवेयर डेवलपर प्रति माह 25,000 रुपये से 45,000 रुपये कमाता है।

मैं 12वीं के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कैसे कर सकता हूं?

12th पास करने के बाद आप इनमें से कोई सा भी डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं-
• Certificate course in digital signal processing
• Short course on developing industrial internet of things
• Certificate in responsive website basics – code with HTML, CSS, and JavaScript
• Certificate in java programming – solving problems with software
• Java, Python, C, C++, SQL, HTML and other language embedded course
• Software Testing
• Data Visualization Course
• Mobile app development Course
• DBA
• MySQL

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में कितना खर्च आता है?

यदि कोई अभ्यार्थी “Graduation in Software Engineering” किसी भी Government College से करता हैं तो इस कोर्स में 1 वर्ष की फीस करीबन 18000 रू से 26000 तक होती है।

निष्कर्ष-

तो इस तरह से आज आपने जाना की सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? (Software Engineer Kaise Bane) साथ ही आज आपको बताया गया है की सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग क्या है? (Software Engineering Kya Hai) और सॉफ्टवेयर इंजीनियर (About Software Engineer in Hindi) के बारे में और भी कई बाते पता चली होगी।

अगर आपको कोई चीज़ जो आज हमने बताई वो समझ में न आई हो, तो आप हमसे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। और अगर आपको ये लेख सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बनें? (Software Engineer Kaise Bane) पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें। इस लेख को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद। जय हिन्द!

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...