इनपुट डिवाइस (input Device) क्या है। What is Input Device in Hindi

Date:

अगर आप टेक्नोलॉजी का थोड़ा सा भी ज्ञान रखते हैं तो अपने इनपुट आउटपुट का नाम जरुर सुना होगा क्योंकि जब हम कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं तो यह चीज किसी न किसी के मुंह से सुनने को मिलती है कि इनपुट डिवाइस (input Device) आउटपुट डिवाइस। आज का लेख भी कंप्यूटर की इनपुट डिवाइस (input Device) से संबंधित है हमारे इस ब्लॉक पर हमने एक पहले से आउटपुट डिवाइस क्या है ले ख पब्लिश किया हुआ है आप चाहो तो वहां जाकर आउटपुट डिवाइस के बारे में पढ़ सकते हो। 

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

आज के लेख में हम आपकों कंप्यूटर इनपुट डिवाइस (input Device) क्या होता है एवं इसकी परिभाषा क्या है इनपुट डिवाइस (input Device) के प्रकार कितने होते हैं एवं इनपुट डिवाइस (input Device) कैसे काम करती है के बारे में विस्तृत जानकारी बताने वाले हैं।

चलिए जानते हैं इनपुट डिवाइस (input Device) क्या है इसके प्रकार और कार्य क्या है (What is input device? What are its types and functions in Hindi?)।

इनपुट डिवाइस (input Device) क्या है। What is Input Device in Hindi

इनपुट डिवाइस (input Device) वह उपकरण होते हैं जो कंप्यूटर या इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में जानकारी, डेटा, या अन्य जानकारी को प्रविष्टि करने के लिए प्रयोग होते हैं। ये उपकरण इंसानी इनपुट को मशीनी भाषा में परिणत करने में मदद करते हैं ताकि कंप्यूटर उसे समझ सके और उसे संसाधित कर सके। इनपुट डिवाइस (input Device) के कुछ उदाहरण होते हैं: कीबोर्ड, माउस, टचस्क्रीन, स्कैनर, वेबकैम, और माइक्रोफोन।

इनपुट डिवाइस (input Device) संगणक या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण होते हैं जिनका मतलब होता है कंप्यूटर या डिजिटल उपकरणों में जानकारी को प्रविष्टि करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ये उपकरण इंसानी इनपुट को मशीनी भाषा में परिणत करते हैं ताकि कंप्यूटर उसे समझ सके और उसे संसाधित कर सके। इनपुट डिवाइस (input Device) के कुछ उदाहरण होते हैं: कीबोर्ड, माउस, टचस्क्रीन, स्कैनर, वेबकैम, और माइक्रोफोन। इनपुट डिवाइस (input Device) से उपयोगकर्ता जानकारी को कंप्यूटर तक पहुंचाते हैं ताकि उसे प्रोसेस किया जा सके और उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके।

Related – बायोटेक्नोलॉजी क्या है? What is Bio Technology in Hindi

इनपुट डिवाइस (input Device) के प्रकार। Types of input devices in Hindi

इनपुट डिवाइस कितने प्रकार के होते हैं निम्न टेबल में हमने आपको इनपुट डिवाइस के सभी प्रकारों के बारे में एवं उनका कार्य के बारे में बताया है ताकि आपको इनपुट डिवाइस के सभी प्रकार के बारे में अच्छे से पता चल सके –

इनपुट डिवाइसविवरण
कीबोर्डकंप्यूटर में पाठ, संख्या, या अन्य जानकारी दर्ज करने के लिए।
माउसकंप्यूटर पर कर्सर को नेविगेट और कार्यों को संपादित करने के लिए।
टचस्क्रीनउंगलियों या स्टाइलस का उपयोग करके स्क्रीन पर नेविगेशन करने के लिए।
स्कैनरदस्तावेज़, फोटो, या अन्य डेटा को स्कैन कर कंप्यूटर में प्रविष्टि करने के लिए।
वेबकैमछवियों या वीडियो को कंप्यूटर में प्रविष्टि करने के लिए।
माइक्रोफोनध्वनि या वॉयस को कंप्यूटर में दर्ज करने के लिए।
जॉयस्टिक और गेमिंग कंट्रोलर्सवीडियो गेम्स में उपयोग होने वाले इनपुट डिवाइस।
ट्रैकबॉल और ट्रैकपैडस्क्रीन पर ही नेविगेशन करने के लिए माउस के समान इनपुट डिवाइस।
इनपुट डिवाइस के प्रकार। Types of input devices in Hindi

Related – Output Device Kya Hai? इसके प्रकार जानिए – Output Device in Hindi

इनपुट डिवाइस (input Device) के कार्य। functions of input devices in Hindi

अब हम आपके कंप्यूटर इनपुट डिवाइस के कार्य क्या होते हैं के बारे में बताने जा रहे हैं एक तरफ हम आपके कंप्यूटर इनपुट डिवाइस का नाम बताएंगे और दूसरी तरफ उसके क्या कार्य हैं वह बताएंगे –

कीबोर्ड

कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है जो कंप्यूटर या डिजिटल डिवाइस में जानकारी डालने के लिए इस्तेमाल होता है। यह इनपुट डिवाइस विभिन्न कुंजी या बटनों का समूह होता है जिन्हें दबाकर विभिन्न कार्य किया जा सकता है।

कुंजीबोर्ड के कुछ मुख्य कार्य हैं:

टाइपिंग – इससे टेक्स्ट, संख्याएं, और संकेत इनपुट किया जा सकता है जो डॉक्यूमेंट्स, ईमेल, सोशल मीडिया, और अन्य जगहों में डाला जा सकता है।

नेविगेशन – कुंजीबोर्ड द्वारा कंप्यूटर स्क्रीन पर कर्सर को नेविगेट करने के लिए अल्टर्नेटिव हो सकता है।

कंट्रोल – कुंजीबोर्ड के कुछ बटन या कुंजियाँ विशेष कार्यों को करने के लिए होती हैं, जैसे कि कॉपी, पेस्ट, डिलीट, और अन्य कार्रवाइयाँ।

शॉर्टकट्स – कुंजीबोर्ड शॉर्टकट्स के रूप में भी इस्तेमाल होता है, जो विभिन्न सॉफ्टवेयर और ऐप्स में फ़ंक्शन को तेज़ी से एक्सेस करने के लिए होते हैं।

माउस

माउस एक इनपुट डिवाइस है जो कंप्यूटर या डिजिटल डिवाइस को नेविगेट करने और कार्यों को संपादित करने के लिए इस्तेमाल होता है। माउस द्वारा कई कार्य किए जा सकते हैं:

कर्सर नेविगेशन – माउस का प्रमुख कार्य होता है कर्सर को स्क्रीन पर नेविगेट करना।

फ़ाइल और फ़ोल्डरों को खोलना – माउस के द्वारा किसी फ़ाइल या फ़ोल्डर को खोलने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

डाउनलोड और अपलोड – इंटरनेट पर कुछ भी डाउनलोड करने या अपलोड करने के लिए माउस का इस्तेमाल होता है।

डॉक्युमेंट्स को संपादित करना – टेक्स्ट, इमेजेस, और अन्य डॉक्युमेंट्स को संपादित करने के लिए माउस का इस्तेमाल होता है।

गेमिंग

गेमिंग माउस विशेष रूप से वीडियो गेम्स के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह उपकरण खेलने के अनुकूल होता है और गेमिंग अनुभव को बेहतर बनाने के लिए कई विशेष फ़ंक्शन्स और विशेषताएं प्रदान करता है।

डिजाइन – गेमिंग माउस का डिज़ाइन इस्तेमालकर्ता की आरामदायकता और सुविधा को ध्यान में रखते हुए डिज़ाइन किया जाता है।

बटन्स और डिज़ाइन – गेमिंग माउस में अधिक बटन होते हैं, जो खिलाड़ी को अधिक कंट्रोल और विकल्प प्रदान करते हैं।

डिज़ाइन एन्हांसमेंट – कुछ माउस आपके खेलने के तरीके के हिसाब से कस्टमाइज़ किए जा सकते हैं, जैसे कि जोस्टिक बटन, ऑप्टिकल सेंसर्स, और गति की विशेषता।

स्क्रोलिंग व्हील – गेमिंग माउस में अक्सर अनुप्रयोगों को तेज़ी से स्क्रोल करने के लिए विशेष स्क्रोलिंग व्हील शामिल होता है।

डायल/क्लिक व्हील – कुछ माउस गेमिंग माउस में डायल या क्लिक व्हील शामिल किया जाता है, जो खिलाड़ियों को अधिक कंट्रोल प्रदान करता है।

ऑप्टिकल/लेज़र सेंसर्स – ये सेंसर्स माउस की सही और तेज़ प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने में मदद करते हैं।

कस्टमाइजेशन – कुछ गेमिंग माउस यूजर्स को अपने खेलने के अनुसार माउस को कस्टमाइज़ करने की सुविधा देते हैं।

शॉर्टकट्स

शॉर्टकट्स विभिन्न कार्यों को तेजी से करने के लिए बनाए गए होते हैं। ये कुंजीबोर्ड या माउस के संयोजन से चलाये जाते हैं और कुछ मुख्य कार्यों में मदद करते हैं:

कॉपी, पेस्ट, और कट (Ctrl + C, Ctrl + V, Ctrl + X) – ये शॉर्टकट्स टेक्स्ट या अन्य डेटा की कॉपी, पेस्ट, और कट करने के लिए होते हैं।

अनडू (Ctrl + Z) – पिछली कार्रवाई को रद्द करने के लिए होता है।

विंडो बंद करें (Alt + F4) – इसे उपयोग करके वर्तमान विंडो को बंद किया जा सकता है।

सभी का चयन (Ctrl + A) – यह सभी वस्तुओं का चयन करने के लिए होता है।

प्रिंट (Ctrl + P) – इसे उपयोग करके किसी दस्तावेज़ को प्रिंट किया जा सकता है।

खोज (Ctrl + F) – इसे उपयोग करके किसी विशिष्ट शब्द या वस्तु को खोजा जा सकता है।

डेस्कटॉप पर जाएं (Windows Key + D) – डेस्कटॉप पर सीधे जाने के लिए होता है।

स्विच विंडो (Alt + Tab) – यह विंडोज के बीच में स्विच करने के लिए होता है।

टचस्क्रीन

टचस्क्रीन एक इनपुट डिवाइस होता है जो इंटरैक्टिव इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को संचालित करने में मदद करता है। यह उपकरण उपयोगकर्ता को डिस्प्ले पर हाथ या स्टाइलस का इस्तेमाल करके सीधे नेविगेशन करने की अनुमति देता है।

टचस्क्रीन का प्रमुख कार्य निम्नलिखित होता है:

नेविगेशन: यह उपकरण स्क्रीन पर उपस्थित ऑप्शन्स, मेन्यू, और एप्लिकेशन्स में नेविगेट करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

इंटरैक्टिविटी: टचस्क्रीन उपयोगकर्ता को इंटरैक्टिविटी अनुभव कराता है, जिससे वे स्क्रीन पर उपस्थित ऑब्जेक्ट्स को सीधे छू सकते हैं और वहां क्लिक कर सकते हैं।

सॉफ्टवेयर इंटरैक्टिविटी: टचस्क्रीन उपकरणों पर सॉफ्टवेयरों और ऐप्स में इंटरैक्टिविटी बढ़ाता है, जिससे उपयोगकर्ता आसानी से विभिन्न ऑप्शन्स का उपयोग कर सकते हैं।

मल्टी-टच क्षमता: कुछ टचस्क्रीन उपकरणों में मल्टी-टच क्षमता होती है, जो कई उंगलियों के साथ स्क्रीन पर सिमल्टेनियसली इंटरैक्ट करने की अनुमति देती है।

विभिन्न उपयोगों: यह उपकरण कई विभिन्न सेक्टर्स में उपयोग होता है, जैसे कि स्मार्टफोन, टैबलेट, कियोस्क, स्मार्टबोर्ड्स, विज़ुअल डिस्प्ले, और अन्य डिजिटल उपकरणों में।

स्कैनर

स्कैनर एक इनपुट डिवाइस होता है जो चित्रों, फ़ोटोग्राफ़ों, दस्तावेज़ों और अन्य प्रिंटेड सामग्री को डिजिटल रूप में स्कैन करके कंप्यूटर में भेजता है। यह कार्य निम्नलिखित होते हैं:

डाक्यूमेंट्स को डिजिटलाइज़ करना: स्कैनर दस्तावेज़ों और प्रिंटेड सामग्री को डिजिटल फॉर्मेट में कन्वर्ट करके कंप्यूटर में स्टोर करता है।

फोटो और इमेजेज स्कैन करना: यह फोटोग्राफ़ों और इमेजेज को स्कैन करके डिजिटल फॉर्मेट में बदलता है।

ओप्टिकल चरण करना: स्कैनर चित्रों के हर पिक्सल की जानकारी को स्कैन करके कंप्यूटर में शामिल करता है।

टेक्स्ट रिकग्निशन (OCR): कुछ स्कैनर्स टेक्स्ट को डिजिटल रूप में शामिल करने के लिए OCR तकनीक का इस्तेमाल करते हैं, जिससे उपयोगकर्ता डॉक्युमेंट में शामिल टेक्स्ट को संपादित कर सकते हैं।

कलर और रेजोल्यूशन: स्कैनर उच्च रेजोल्यूशन और विभिन्न रंगों में सामग्री को स्कैन करने की क्षमता रखता है।

डोक्युमेंट्स की सहेजाता: स्कैनर डिजिटल फॉर्मेट में बचाई गई सामग्री को कंप्यूटर में सहेजता है, ताकि उपयोगकर्ता इसे बाद में इस्तेमाल कर सकें।

वेबकैम

वेबकैम (Webcam) एक इनपुट डिवाइस होता है जो वीडियो और चित्रों को कैप्चर और डिजिटल रूप में कंप्यूटर में स्टोर करता है। इसके कुछ मुख्य कार्य निम्नलिखित होते हैं:

वीडियो कॉलिंग: यह इंटरनेट के माध्यम से वीडियो कॉल के लिए उपयोग किया जाता है, जिससे दूरस्थ व्यक्तियों के साथ संवाद किया जा सकता है।

वीडियो रिकॉर्डिंग: यह वीडियो रिकॉर्ड करके और इसे कंप्यूटर में सहेजकर रखने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

वीडियो स्ट्रीमिंग: वेबकैम वीडियो स्ट्रीम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जैसे कि गेमिंग, व्लॉगिंग, लाइव संगीत, और अन्य मल्टीमीडिया कंटेंट के लिए।

फोटोग्राफी: इसका उपयोग चित्रों और सेल्फीज़ खींचने के लिए भी किया जाता है।

वीडियो कैप्चरिंग: वेबकैम वीडियो कैप्चर करके वीडियो फाइलें बनाने में मदद करता है, जो उपयोगकर्ताओं को वीडियो बनाने में मदद करता है।

वीडियो कन्फ्रेंसिंग: इसे व्यापारिक और शिक्षा क्षेत्र में दूरस्थ संवाद के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

वेबकैम डिजिटल मीडिया को कंप्यूटर में स्टोर करने का और वीडियो संचार के एक अहम साधन होता है।

माइक्रोफोन

माइक्रोफोन एक इनपुट डिवाइस होता है जो ध्वनि को ग्रहण करता है और इसे डिजिटल रूप में कंप्यूटर या अन्य उपकरणों में संग्रहित करता है। यह ध्वनि को विभिन्न फॉर्मेटों में बदलकर उपयोगकर्ता को सुनने या संवाद करने की सुविधा प्रदान करता है।

माइक्रोफोन के कुछ मुख्य कार्य निम्नलिखित होते हैं:

आवाज को ग्रहण करना: माइक्रोफोन आवाज को ग्रहण करता है और इसे डिजिटल फॉर्मेट में कंप्यूटर या अन्य उपकरणों में स्टोर करता है।

वाणिज्यिक और व्यक्तिगत उपयोग: इसे व्यापारिक और व्यक्तिगत उपयोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जैसे कि वीडियो कॉल, संगीत रिकॉर्डिंग, पॉडकास्टिंग, और अन्य ऑडियो गतिविधियों के लिए।

ध्वनि नकलीकरण: यह ध्वनि को ग्रहण करके उसे अन्य उपकरणों या नेटवर्क के साथ साझा करने की सुविधा प्रदान करता है।

रिकॉर्डिंग: इसका उपयोग वॉयस रिकॉर्डिंग और ऑडियो प्रोजेक्ट्स के लिए भी किया जाता है।

ध्वनि पहचान: कुछ संदर्भों में, माइक्रोफोन ध्वनि पहचान या गुणकारी तत्वों को ग्रहण करने में मदद कर सकता है।

माइक्रोफोन से ध्वनि को संग्रहित करने का एक सरल और अत्यंत महत्वपूर्ण तरीका है जो आवाज को इंटरनेट, संचार, और व्यक्तिगत उपयोग के लिए सुलभता से उपलब्ध कराता है।

जॉयस्टिक और गेमिंग कंट्रोलर्स

जॉयस्टिक और गेमिंग कंट्रोलर्स वीडियो गेम्स खेलने के लिए इनपुट डिवाइस होते हैं।

जॉयस्टिक: यह एक डिवाइस है जो एक या अधिक आक्रामक या निर्देशित करने वाले बटन्स और एक छोटे से लम्बे बेस पर खड़ा होता है। इसका उपयोग अक्सर फ्लाइट सिम्युलेटर्स, रेसिंग गेम्स और अन्य खेलों में किया जाता है।

गेमिंग कंट्रोलर्स: ये कंट्रोलर्स गेमर्स को वीडियो गेम्स में खेलने के लिए विभिन्न ऑप्शन्स देते हैं। ये बटन्स, जॉयस्टिक्स, डी-पैड्स, ट्रिगर्स, अनलॉग स्टिक्स और अन्य कंट्रोलर्स का समूह होते हैं जो गेमिंग में इस्तेमाल होते हैं।

गेमिंग कंट्रोलर्स बहुत से रूपों और स्टाइल्स में उपलब्ध होते हैं, जैसे कि वायर्ड, वायरलेस, जॉयपैड्स, गेमिंग माउस, गेमिंग स्टीयरिंग व्हील्स, और अन्य। इन्हें वीडियो गेम्स को खेलने के लिए बनाया गया है और वे विशेष रूप से खेलने का अनुभव बेहतर बनाने में मदद करते हैं।

ट्रैकबॉल और ट्रैकपैड

“ट्रैकबॉल” और “ट्रैकपैड” दोनों ही इनपुट डिवाइस हैं जो कंप्यूटर पर नेविगेशन और कंट्रोल के लिए इस्तेमाल होते हैं।

ट्रैकबॉल (Trackball): ट्रैकबॉल एक गोल बॉल होती है जो एक निश्चित सतह पर रखी जाती है। उपयोगकर्ता इसे उंगलियों की मदद से घुमाता है, जिससे माउस की तरह कंप्यूटर को कंट्रोल किया जा सकता है।

ट्रैकपैड (Trackpad): ट्रैकपैड एक सतह होती है जो माउस की तरह काम करती है। यह सतह उपयोगकर्ता के उंगलियों को स्लाइड करने या घुसाने के लिए उपयोग होती है और कंप्यूटर पर नेविगेशन करने में मदद करती है।

ट्रैकबॉल और ट्रैकपैड दोनों ही उपकरण इस्तेमाल करने में सुविधाजनक होते हैं, लेकिन उनके डिज़ाइन और इस्तेमाल में थोड़ी भिन्नता होती है।

Related – टेक्नोलॉजी के फायदे और नुकसान Advantages and Disadvantages of Technology in Hindi

अंतिम पेराग्राफ –

उक्त लेख में हमने आपको इनपुट डिवाइस क्या है और इनपुट डिवाइस के प्रकार, इनपुट डिवाइस के प्रकार Input Device Kya Hai, Input Device Ke Prakar, Input Device Ke Karya के बारे में विस्तृत जानकारी बताई। अगर आपको इनपुट डिवाइस के बारे में जानकारी पसंद आई हो तो सभी सोशल मीडिया पर शेयर करें।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...