Output Device Kya Hai? इसके प्रकार जानिए – Output Device in Hindi

Date:

क्या आप जानते हैं “आउटपुट डिवाइस क्या है और यह कितने प्रकार के होते है /What is output device and its types in Hindi” अगर आप नही जानते कि “Output Device Kya Hai? Output Device Kitne Prakar Ke Hote Hai ” तो आप सही आर्टिकल Read कर रहे हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

आज आपको ‘Output Device Kya Hota Hai, Output Device ke Kitne Prakar Hote Hai ‘ के बारे में सही जानकारी हिंदी में बताने वाले हैं।

दोस्तों Computer में सारे कंपोनेंट अलग-अलग दिए गये हैं। जैसा हम कंप्यूटर को आदेश देते हैं उसी के अनुसार उसका Device हमें Output देता है। बिना Component के कंप्यूटर चलाना संभव नहीं है। मान लीजिए आपने Computer में कोई Word File बनाई और उसका Print Out आपको चाहिए। उसके लिए आपने प्रिंट फाइल पर क्लिक कर दिया पर अगर आपके पास प्रिंटर नहीं है तो प्रिंट आउट नहीं निकलेगा।

तो दोस्तों आज के इस लेख इसी तरह बिल्कुल सरल भाषा में हम आपको बताएँगे कि आउटपुट डिवाइस आखिर हैं क्या? आउटपुट डिवाइस का इस्तेमाल क्या है? आउट पुट डिवाइस के प्रकार, 10 डिवाइसेस के नाम और ये सारे के सारे कंपोनेंट आखिर काम कैसे  करते सब कुछ डीटेल में आपको बताने वाले हैं। तो आप इस लेख को पूरा पढ़ें, जिससे आपको आउटपुट डिवाइस की पूरी जानकारी प्राप्त होगी। 

Output Device Kya Hai?

दोस्तों Output Divices Computer System के वे उपकरण हैं, जो कंप्यूटर स्टोरेज पर स्टोर इनफॉर्मेशन या डिजिटल रिजल्ट को हमें दिखाते हैं। किसी भी निर्देश या कमांड को जब कम्युटर अपने अंदर स्टोर करता है, तो उसका रिज़ल्ट हमें आपत्तिजनक रूप से इफेक्ट करता है।

दोस्तों आपको बता दें कि कंप्यूटर सिस्टम के अधिकतर इस्तेमाल किये जाने वाले Device Monitor और Printer हैं। मॉनिटर में जो प्रिंट रिजल्ट हमें दिखाता है उसे हम सॉफ्ट कॉपी कहते हैं, क्योंकि दोस्तों Moniter में सिर्फ हम रिजल्ट देखते हैं इसलिए Soft Copy कहा जाता है जबकि उसी रिजल्ट को प्रिंट से प्रिंट मिलता है किसी पेपर पर, तो उसे हम Hard Copy कहते हैं। वैकल्पिक रूप से हार्ड कॉपी के लिए कोई भी जानकारी उपलब्ध नहीं है जो Paper पर छपी होती है। 

उदाहरण, माना कि हमें कंप्यूटर पर फ्लाइट की टिकट बुक करनी है, तो हम कंप्यूटर में एंटरप्राइज़ डेटा को अपलोड करेंगे, जैसे कि कोचिंग क्लास, सीट नंबर, नाम, एड्रेस आदि। जिसे कंप्यूटर एसोसिएट कर के, हमें टिकट्स का पासपोर्ट रिजल्ट देखने से पहले देखें, जो हमें सॉफ्टकॉपी रिजल्ट मिला। उसी तरह हमें पुराने टिकट प्रिंट करना है, तो हम प्रिंटर की मदद से उसे प्रिंट करेंगे, जिससे हमें हार्ड कॉपी मिलेगी। हार्ड कॉपी में हम सब कुछ पढ़ सकते हैं और उस पर हम सिग्नेचर कर सकते हैं बिना कम्प्यूटर के।

Types of Output Devices | आउटपुट डिवाइस के प्रकार

दोस्तों नार्मली, आउटपुट डिवाइस को एक रिजल्ट देने वाले डिवाइस के रूप में उपयोग करने का लक्ष्य होता है जिसे उपयोगकर्ता द्वारा प्रोसेस डेटा को पुनः प्राप्त करने के लिए ऑपरेट किया जाता है। आउटपुट डेटा किसी भी फॉर्मेट का हो सकता है, इसलिए हर आउटपुट डेटा के फॉर्मेट के हिसाब आउटपुट डिवाइस का अलग अलग प्रकार के हो सकते हैं । आउटपुट डिवाइस के नाम या कई प्रकार के आज आउटपुट डिवाइस होते हैं, जिनमें दस आउटपुट डिवाइस के नाम नीचे आप पढ़ें:

1.) मॉनिटर | Monitor

2.) स्पीकर | Speaker

3.) प्रिंटर | Printer

4.) हैडफ़ोन | Headphone

5.) प्रोजेक्टर | Projector

6.) जीपीएस | GPS

7.) प्लॉटर | Plotter

8.) 3D प्रिंटर | 3D Printer

9.) साउंड कार्ड | Sound card

10) वीडियो कार्ड | Video Card

Related – Diesel Engine aur Petrol Engine Mein Antar Kya Hai

1.) मॉनिटर। Monitor

दोस्तों आपको बता दें कि मॉनिटर एक Output Device है, जो आपको स्क्रीन पर किसी चीज़ को टेक्स्ट या इमेज के रूप में दिखाता है। “मॉनिटर” शब्द का प्रयोग अक्सर “कंप्यूटर स्क्रीन” या “डिस्प्ले” के समानार्थक रूप में किया जाता है। दोस्तों, मॉनिटर मतलब पूरा मॉनिटर बॉक्स, जबकि डिस्प्ले स्क्रीन का मतलब सिर्फ स्क्रीन होता है।

दोस्तों पुराने कंप्यूटर मॉनीटर कैथोड रे ट्यूब (CRTs) का उपयोग करके बनाए गए थे, जिससे वे काफी Heavy होते थे जिस कारण कम्प्यूटर में बहुत ज्यादा स्पेस की ज़रूरत पड़ती थी।

आजकल अधिकतर Modern मॉनिटर, LCD Technique  का इस्तेमाल करके बनाए जाते हैं और इन्हें आमतौर पर फ्लैट स्क्रीन डिस्प्ले के रूप में हम जानते हैं। ये पतले मॉनिटर पुराने CRT डिस्प्ले (टीवी की तरह) की तुलना में बहुत कम जगह लेते हैं।

आज की डिजिटल दुनिया में कई तरह के मानीटर आ गये हैं। हम अपना Maximum Work कई तरह के मॉनिटर के सामने बैठकर काम करते हैं, इन Works में से कंप्यूटिंग करना, जैसे गेम खेलना, मूवी देखना और कई अन्य कई ऐसे चीजें है जो हम मॉनिटर पर काम करते है। Monitor कई प्रकार के होते हैं जिन्हें आप नीचे पढ़ सकते हैं।

मानीटर के प्रकार। Types Of Monitor 

  • Cathode Ray Tube (CRT) Monitors
  • LCD Monitors
  • TFT Monitors
  • LED Monitors
  • OLED Monitors
  • Touch Screen Monitors
  • Plasma Screen Monitors
  • Quantum dot display

2.) स्पीकर। Speaker

अब स्पीकर के बारे में क्या बताउँ। इसका नाम सुनते ही आप सब समझ गये होंगें। आज इंटरनेट के ज़माने में बच्चा-बच्चा स्पीकर जानता होगा। दोस्तों आपको फिर भी बता दूँ कि कंप्यूटर सिस्टम का एक हार्डवेयर डिवाइस स्पीकर, एक Output Device होता है जो आवाज़ पैदा करने के लिए कंप्यूटर से जोड़ा जाता है। कंप्यूटर से आवाज़ को पैदा करने के लिए स्पीकर का Use किया जाता है जो की साउंड कार्ड द्वारा सिग्नल उत्पन्न होता है । कंप्यूटर का साउंड कार्ड एक सिग्नल को बनाता है जिसका Voice उत्पन्न करने के लिए use किया जाता है। कुछ Speaker किसी भी प्रकार के साउंड सिस्टम डिवाइस से कनेक्ट करने के लिए Design किए जाते हैं, जबकि कुछ स्पीकर को केवल कंप्यूटर से कनेक्ट किया जा सकता है। स्पीकर आज बहोत प्रकार से बाजार में मिल जाएँगें आपके जरुरत के हिसाब से। आप कई प्रकार के स्पीकर को चुन सकते हैं। जैसे कि-

  • Computer Speaker
  • Loud Speaker
  • Subwoofers
  • Studio Monitors
  • Bluetooth Speaker
  • Outdoor Speaker
  • Floor Standing Speaker
  • Satellite Speaker
  • In-Wall/Ceiling Speaker
  • Bookshelf Speaker

3.) प्रिंटर | Printer

प्रिंटर के बारे में तो ऊपर चर्चा हो ही चुकी है दोस्तों। आपको बता दूँ कि ये सबसे लोकप्रिय आउटपुट डिवाइस है और सबसे ज्यादा Official Work में प्रिंटर ही काम आता है। निजी तौर पर पंजीकृत रूप से जानकारी प्रदान करते हैं। प्रिंटर कंप्यूटर से टेक्स्ट और Images files को पेपर या Other Media पर प्रिंट करके हार्डकॉपी तैयार की जाती है।

मूल आकार, गति, और उपयोग के खाते से बहुत प्रकार के अलग-अलग मूल्य होते हैं। सामान्य तौर पर, अधिक निबंधन मुद्रण या  High Resolution मुद्रण रंग का Use किया जाता है। पर्सनल कंप्यूटर में लीज वाला प्रिंटर को इम्पैक्ट  या  नॉन-इम्पैक्ट  प्रिंटर के रूप में पेश किया जाता है।

  • इम्पैक्ट प्रिंटर्स 
  • नॉन-इम्पैक्ट प्रिंटर्स

4.) हैडफ़ोन | Headphone

दोस्तों इस डिवाइस के बारे में भी आज का बच्चा-बच्चा जानता है। फ़ॉर्मूला में Normally छोटे Instrument की एक जोड़ी होती है, जिसका  use कंप्यूटर ,  म्यूजिक प्लेयर  या Other किसी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण से ऑडियो सुनने के लिए किया जाता है। Headfones, Headsets  या यहां तक ​​कि ‘ कैन ‘ के रूप में ऑर्डर किया जा सकता है। हेडफोन के Ear buds को कान में डाला जाता है। दोस्तों ये एक कंप्यूटर सिस्टम में आउटपुट डिवाइस होता है जो कंप्यूटर लाइन आउट या स्पीकर पोर्ट में Complex किया  जाता है। 

  • ईयर (इन-ईयर) हेडफ़ोन के प्रकार:
  • सर्कमौरल ओवर-ईयर हेडफ़ोन
  • सुप्रा-ऑरल हेडफ़ोन
  • ईरफ़ोन
  • इन-ईयर हेडफ़ोन
  • खुला- या बंद-वापस

5.) प्रोजेक्टर। Projector

दोस्तों प्रोजेक्टर एक आउटपुट डिवाइस  होता है जो  कंप्यूटर ,  डीवीडी प्लेयर , या  ब्लू-रे प्लेयर  से जुड़ा होता है जिससे जुड़े हुए videos, Texts या Photos को  लगाया जाता है और उन्हें बड़े स्क्रीन, दीवार या Other किसी सपाट सतह पर प्रोजेक्शन द्वारा बड़े पैमाने पर पेश किया जाता है। यह बड़ी संख्या में लोगों को दिखाता है। जब किसी भी Powerful Electronics  प्रेजेंटेशन या फिल्म वगैरह दिखानी होती है तो प्रोजेक्टर का इस्तेमाल किया जाता है। आपने शायद देखा भी होगा। कम्प्यूटर को प्रोजेक्टर से Connect कर दिया जाता है और फिर कोई Presentation या Film कम्प्यूटर पर चला दी जाती है। उसके बाद प्रोजेक्टर से सामने किसी दीवार पर फोकस किया जाता है और वो फिल्म सामने दीवार पर दिखाई देती है।

Modern Time में CRT प्रोजेक्टर अब उपयोग में नहीं आता है; क्योंकि उनमें लाइट कम होती है और वो बड़े आकार वाले होते थे। प्रोजेक्टर कितने प्रकार के होते हैं ये आप नीचे पढ़ सकते हैं:

  • सीआरटी प्रोजेक्टर
  • एल सी डी प्रॉजेक्टर
  • डीएलपी प्रोजेक्टर

6.) जीपीएस। (GPS)

GPS यानी ग्लोबल मार्केटिंग सिस्टम, जिसे Normally नेवस्टार जीपीएस के रूप में जाना जाता है, एक उपग्रह-आधारित रेडियो नेविगेशन सिस्टम है जो संयुक्त राज्य अमेरिका सरकार के स्वामित्व में है और इसे संयुक्त राज्य अंतरिक्ष बल द्वारा संचालित किया जाता है। इसकी भूमि, समुद्र और वायु में निगलने, समय और वनस्पति का पता लगाने के लिए उपयोग किया जाता है। किसी भी प्रकार के मौसम की स्थिति में काम करता है। ये कई प्रकार के होते हैं-

  • सहायक जीपीएस (ए-जीपीएस)
  • एक साथ जीपीएस (एस-जीपीएस)
  • विभेदक जीपीएस (डी-जीपीएस)
  • गैर-विभेदक जीपीएस
  • जीपीएस मैपिंग
  • नॉन-मैपिंग जीपीएस

7.) प्लॉटर | Plotter

दोस्तों आपको बता दें कि प्लॉटर एक  प्रिंटर  की तरह एक आउटपुट डिवाइस ही होता है जिसे प्रोटोटाइप को प्रिंट करने के लिए Use किया जाता है। प्लॉटर एक एसोसिएशन एप्लिकेशन के लिए बड़े प्रिंटर हैं, यह पैरामप्रिक प्रिंटर की तरह, टोनर इंक का उपयोग नहीं करते हैं। प्लॉटर पेपर पर कई, निरंतर रेखाएं खींचने के लिए पेन, पेंसिल, पेंसिल, नाइफ या किसी अन्य लेखन उपकरण का उपयोग किया जाता है।

प्लॉटर आवेदन के खाते अलग-अलग प्रकार के होते हैं, जो निम्नलिखित इस प्रकार हैं:

  • ड्रम प्लॉटर
  • फ़्लैटबेड प्लॉटर
  • प्लॉटर काटना
  • इंकजेट प्लॉटर
  • इलेक्ट्रोस्टैटिक प्लॉटर

8.) 3D प्रिंटर | 3D Printer

दोस्तों आपको बता दें कि कंप्यूटर में, एक 3D प्रिंटर एक आउटपुट डिवाइस  है जो किसी ऑब्जेक्ट को 3D CAD  (कंप्यूटर एडेड डिज़ाइन) Photos के रूप में प्रिंट करने की Permissions देता है। इसे एड सैम्युअल मैन्युफैक्चरिंग भी कहा जाता है, 3डी प्रिंटिंग एक Modern Technique होती है जो लागत में कटौती करने और प्रोडक्ट बनाने में नये-नये Concept बनाने की क्षमता बनाता है।

9.) साउंड कार्ड | Sound card

दोस्तों साउंड कार्ड एक ऐसा  डिवाइस  है जो  कंप्यूटर  में डाउनलोड किया जाता है और मदरबोर्ड में स्थापित किया जाता है। यह एक विस्तार स्लॉट  का Constituent है। जब साउंड कार्डबोर्ड में स्थापित और स्थिर जगहें होती हैं और एक  सॉफ्टवेयर  उपकरण और एक प्लास्टिक ड्राइवर की मदद से साउंड कार्ड पर हम दर्शकों की नजरें रखते हैं।

10.) वीडियो कार्ड | Video Card

दोस्तों एक वीडियो कार्ड को  ग्राफिक्स कार्ड, डिस्प्ले कार्ड, ग्राफिक्स एडॉप्टर, जीपीयू, वीजीए कार्ड, वीजीए, वीडियो एडॉप्टर, वीडियो कंट्रोलर  या  डिस्प्ले एडॉप्टर  भी कहा जाता है, यह एक  एक्सपेंशन कार्ड  है जो कंप्यूटर में डिस्प्ले जैसे कि  मॉनिटर  या  प्रोजेक्टर  पर आधारित होता है। इमेज की दुकान चलती है। यह कंप्यूटर  केमबोर्ड  में  एक्सपेंशन स्लॉट  में कनेक्ट होता है।

आउटपुट डिवाइस की परिभाषा। Definition of output device

दोस्तों आउटपुट डिवाइस एक ऐसा उपकरण है जो कंप्यूटर से डेटा को ऐसी जानकारी में स्थानांतरित करता है जिसे इंसानों द्वारा पढ़ा जा सकता है।

कंप्यूटर के “आउटपुट डिवाइस” का मुख्य इस्तेमाल कंप्यूटर से उपयोगकर्ताओं को Adverse results देता है। इसमें ग्राफिक Output result जैसे सी रिटेल मॉनिटर, एलसीडी, मॉनिटर सॉफ्ट कॉपी इनफॉर्मेशन को दर्शाया गया है। ऑड आउटपुट डिवाइस जैसे की साउंडट्रैक और लाउडस्पीकर साउंड इंस्ट्रूमेंट्स को एक्सेस किया जाता है। एक अन्य प्रकार के कॉपीराइटर पर प्रतिबंध लगाया गया है, जिसका उपयोग हार्ड कॉपी के लिए किया जाता है जो कागज पर पाठ और या कच्चे माल का प्रिंट बनाता है।

कंप्यूटर के लिए आउटपुट डिवाइस क्यों जरूरी है?

दोस्तों अभी तक आप समझ ही गये होंगे कि एक कंप्यूटर बिना आउटपुट डिवाइस के भी अपना काम करता है। लेकिन जब आप अपने कंप्यूटर को कमांड देंगे, और आपको रिज़ल्ट नहीं मिलेगा, तो आप कंप्यूटर में काम कैसे करेंगे? है ना? तो इसलिए एक कंप्यूटर सिस्टम में आउटपुट डिवासेज़ का होना बहुत ज़रूरी है। For Example आपको Music आइडिया है, तो आपको दो आउटपुट डिवाइस की Need होगी, एक मॉनिटर और दूसरा Speaker। आप बिना मॉनिटर के म्यूजिक प्लेयर का कमांड नहीं दे सकते हैं, इसलिए आप पहले मॉनिटर में बैंड फिर से म्यूजिक का प्लेयर्स बैंड में बैंड बजाएंगे।

Related –

FAQ,s

  • आउटपुट डिवाइस से क्या समझते हैं?

    आउटपुट डिवाइसेज़ कंप्यूटर सिस्टम के वे उपकरण हैं, जो कंप्यूटर स्टोरेज पर स्टोर इनफॉर्मेशन या डिजिटल रिजल्ट को हमें दिखाते हैं। किसी भी निर्देश या कमांड को जब कम्युटर अपने अंदर स्टोर करता है, तो उसका रिज़ल्ट हमें आपत्तिजनक रूप से इफेक्ट करता है।

  • आउटपुट डिवाइस कौन कौन सी है?

    आउटपुट डिवाइस के नाम या कई प्रकार के आज आउटपुट डिवाइस होते हैं, जिनमें दस आउटपुट डिवाइस के नाम नीचे आप पढ़ें:-

    1. मॉनिटर | Monitor
    2. स्पीकर | Speaker
    3. प्रिंटर | Printer
    4. हैडफ़ोन | Headphone
    5. प्रोजेक्टर | Projector
    6. जीपीएस | GPS
    7. प्लॉटर | Plotter
    8. 3D प्रिंटर | 3D Printer
    9. साउंड कार्ड | Sound card
    10. वीडियो कार्ड | Video Card

आपने आज क्या सीखा –

तो दोस्तों इस लेख में आज के Modern Time में Use होने वाले इलेक्ट्रानिक टेक्नोलॉजी के Maximum आउटपुट डिवाइस की जानकारी दे दी गई है। 

 क्या आपको आउटपुट डिवाइस पसंद है? आप कौन-कौन से डिवाइस इस्तेमाल करते है? हमें नीचे कमेंट करके ज़रूर बताएँ। ये लेख आपको कैसा लगा? अगर अच्छा लगा तो हमें सब्सक्राइब करें कुछ कमियाँ हों तो वो भी बताएँ ताकि हम उस पर अमल करके और जानकारियाँ इकट्ठा करके आपको बता सकें। तो ये लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर करें ताकि उन्हें भी पूरी जानकारी मिल सके, धन्यवाद।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...