पटवारी कैसे बनें? – Patwari Kaise Bane (भर्ती प्रक्रिया, सैलरी, योग्यता)

Date:

*जय हिन्द दोस्तों! क्या आप जानते हैं पटवारी कैसे बने Patwari Kaise Bane (how to become a patwari in Hindi), अगर नही जानते तो कोई बात नहीं आज हम आपको बताएंगे की पटवारी कैसे बनते हैं पटवारी की भर्ती कैसे होती है पटवारी की सैलरी कितनी होती है एवं पटवारी का काम क्या होता है पटवारी से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर इस लेख में देने वाले हैं ताकि आपको पटवारी क्या होता है कैसे बनता है पटवारी के बारे में अच्छे से जानकारी मिल सके।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

आज हम आपको एक ऐसे सरकारी पद के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें आप अपने करियर को बना सकते हैं और अपने भविष्य को सुधार सकते हैं। हम इसका पूरा मतलब हिंदी में समझाएंगे, तो यह पोस्ट आपके लिए है। इस पद को पटवारी भी कहा जाता है, और यदि आप 12वीं पास हैं और सरकारी नौकरी की तलाश में हैं, तो पटवारी (लेखाकार) की नौकरी आपके लिए एक बहुत अच्छा विकल्प हो सकता है।

आज के समय में नौकरी पाना काफी मुश्किल हो गया है, खास कर सरकारी नौकरी। काफी युवा बेरोजगार हैं जिसमें कुछ युवा अपना धंधा पानी या छोटा मोटा बिज़नेस करके पैसा कमा रहे हैं, और कुछ युवा अपनी shiksha के साथ चलते हुए सरकारी नौकरी पाने की चाह रखते हैं और वे कम्पटीशन एग्जाम की तैयारी करते हैं, जिसमें बहुत से युवाओं का ध्यान पटवारी की ओर होता है की हम पटवारी का परीक्षा पास करके पटवारी बनेंगे।

जिसमें से कुछ युवा पटवारी तो बनना चाहते हैं लेकिन कुछ युवाओं को पता नहीं होता की पटवारी कैसे बने, पटवारी की भर्ती कैसे होती है, पटवारी की सैलरी कितनी होती है एवं पटवारी का काम क्या होता है तो दोस्तों आज इस लेख में हम आपको पटवारी से सम्बंधित जानकारी देने वाले हैं। तो अगर आप भी सरकारी नौकरी की चाह रखते हैं तो आपको यह पोस्ट जरूर पढ़ना चाहिए। क्योंकि आज के

इस पोस्ट में हम Patwari Kaise Bane, Patwari Kaun Hota Hai, Patwari Ki Salary Kitni Hoti Hai, Patwari Ki Bharti Kaise Hoti Hai, Patwari Ka Kam Kya Hota Hai की सही जानकारी देने वाले हैं।

Table of Contents

पटवारी क्या होता है? (What is Patwari in Hindi)

पटवारी को लेखपाल भी कहा जाता है। यह सरकारी पद भारत के विभिन्न राज्यों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है, जैसे कि कारनाम अधिकारी, शानबोगरु, लेखपाल आदि। यह ग्रामीण क्षेत्रों में सरकार का एक प्रशासनिक पद होता है।

पटवारी आमतौर पर भूमि और खेती से जुड़े कार्यों का प्रबंधन करता है, और यह सरकार के अधीन रहकर जमीनी जानकारी को संग्रहित करता है और उस पर उपयुक्त कार्रवाई करता है। पटवारी के पास आमतौर पर 4-5 गांवों की जमीनों का प्रबंधन होता है, और वह राजस्व विभाग (Revenue Department) के अंतर्गत गवर्नमेंट ऑफिसर के रूप में कार्य करता है।

पटवारी कैसे बनें? (How to become a Patwari in Hindi)

दोस्तों सबसे पहले तो आपको ग्रेजुएट होना आवश्यक है, और आप किसी भी क्षेत्र में ग्रेजुएट हो सकते हैं। आपके पास 1 साल की कंप्यूटर की प्रमाणपत्र (Certificate) होनी चाहिए, और कंप्यूटर के अच्छे ज्ञान का होना आवश्यक हैं।

इसके बाद, आपको सरकार की रिक्तियों का इंतजार करना होगा, फिर आप पटवारी के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। पटवारी के पद के लिए आपको एक परीक्षा देनी होगी, जो दो भागों में होती है –

लिखित परीक्षा (Written Test): इस परीक्षा में बहु विकल्पीय प्रश्न (Multiple Choice Questions) पूछे जाते हैं और आपको 90 मिनट का समय दिया जाता है। आपको इसमें कम से कम 80 अंक प्राप्त करने होते हैं ताकि आप पास हो सकें और इससे ज्यादा भी अंक लाना होता है जिससे आप मेरिट में आ सकें।

इंटरव्यू (Interview): अगर आप लिखित परीक्षा में पास (Qualified) होते हैं, तो आपको राज्य के बोर्ड से इंटरव्यू के लिए कॉल लेटर मिलेगा। इंटरव्यू में, आपकी पर्सनालिटी और मानसिक क्षमता को देखा जाएगा, और आपको पटवारी के कार्यों के बारे में सवाल किए जाएंगे। इंटरव्यू के बाद, आपका डॉक्यूमेंट सत्यापन किया जाएगा और फिर आप पटवारी के पद के लिए चयनित हो सकते हैं।

पटवारी बनना कोई आसान काम नहीं है और इसके लिए बहुत मेहनत और कठिन अध्ययन की आवश्यकता होती है। तभी आपका सपना साकार हो सकता है क्योंकि जब भी पटवारी आवेदन पत्र जारी होते हैं तो हजारों लोग आवेदन करते हैं और परीक्षा में बैठते हैं। इसलिए आप यह परीक्षा तभी पास करेंगे जब आप कड़ी मेहनत करेंगे। आप एक पटवारी के रूप में उसका भविष्य संभालेंगे।

Related – सीबीएसई क्या है, इसके कार्य क्या है? -What is CBSE in Hindi

पटवारी के क्या कार्य होते हैं? (Patwari’s Work in Hindi)

लेखपाल या पटवारी गांव स्तर पर सरकार के प्रशासनिक पद पर काम करते हैं। उनका मुख्य कार्य खेती बाड़ी की जमीन और उसकी उपज के लेखाजोखे को बनाए रखना होता है। वे जमीन की मापदंड भी निकालते हैं और जमीन से संबंधित लेन-देन की जानकारी को भी संचित रखते हैं।

पटवारी अपने पटवार कार्यालय में गांव की जमीन के नक्शे, कृषि भूमि की गिरदावरी रिपोर्ट, जमाबंदी की ब्रिक्री, राजस्व वसूली पत्र, और खसरा नंबर जैसे अभिलेखों को सुरक्षित रखते हैं।

उनका काम आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र बनवाने और फसल नुकसान के मुआवजे के लिए सर्वे करने में भी शामिल होता है। वे कृषि और जमीन से संबंधित विवादों को सुलझाने में भी मदद करते हैं। इसलिए, यह पद लाभकारी माना जाता है, और पटवारी की भर्ती के लिए बड़ा मांग होता है।

Related – SDM कैसे बने? एसडीएम के कार्य, सैलरी, भर्ती प्रक्रिया, अधिकार – SDM in Hindi

पटवारी बनने के लिए शैक्षिक योग्यता क्या होनी चाहिए? (Educational Qualification to become Patwari in Hindi)

पटवारी पद के लिए आवेदन करने के लिए आपको किसी भी मान्यताप्राप्त विश्वविद्यालय से कम से कम बाहरवी पास होना अनिवार्य होता है। इसके साथ ही, आपके पास राज्य सरकार या केंद्र सरकार से मान्यता प्राप्त कंप्यूटर कोर्स का सर्टिफिकेट होना भी आवश्यक होता है। इसके बाद, आप पटवारी पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

यह ध्यान देने वाली बात है कि कई राज्यों में पटवारी पद के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता के रूप में स्नातक की डिग्री की आवश्यकता होती है, तो यदि आप इन राज्यों में हैं, तो आपको किसी भी मान्यताप्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक होना आवश्यक होता है, फिर ही आप पटवारी पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।

पटवारी बनने के लिए उम्र सीमा (Age Limit to become a Patwari in Hindi)

पटवारी की पोस्ट के लिए आवेदन करने के लिए आपकी न्यूनतम आयु 18 वर्ष होनी चाहिए और अधिकतम आयु 40 वर्ष तक होनी चाहिए। इसके अलावा, इस पोस्ट में आरक्षित वर्गों को आयु में छूट भी दी जा सकती है, जैसे:

  • ओबीसी वर्ग (OBC) के उम्मीदवारों को 3 वर्ष की छूट प्रदान की जाएगी।
  • एससी (SC) और एसटी (ST) वर्ग के उम्मीदवारों को 5 वर्ष की छूट प्रदान की जाएगी।

इसका मतलब है कि अगर आप ओबीसी, एससी या एसटी वर्ग के हैं, तो आपकी आयु में उक्त छूटें जोड़ी जा सकती हैं और आपकी अधिकतम आयु सीमा उसके अनुसार बढ़ सकती है।

Related – आईपीएस ऑफिसर कैसे बनें ? योग्यता, सैलरी, अधिकार- IPS Officer Kaise Bane

पटवारी के लिए आवेदन कैसे करें? (Apply for Patwari in Hindi)

पटवारी पद के लिए आवेदन करने के लिए राज्य सरकार द्वारा आवेदन पत्र निकाले जाते हैं, जिसमें आपको ऑनलाइन आवेदन करने का मौका मिलता है। इसके बाद, आप पटवारी की चयन प्रक्रिया में शामिल हो सकते हैं और पटवारी के पद के लिए चयनित हो सकते हैं।

इस आवेदन की जानकारी आपको समाचार पत्रिकाओं, इंटरनेट, सोशल मीडिया, रोजगार समाचार, आदि के माध्यम से प्राप्त होती है, और जब भी इसमें आवेदन की तारीखें घोषित होती हैं, तो आप इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं।

पटवारी की चयन प्रक्रिया (Patwari Selection Process in Hindi)

जब आप इसके लिए आवेदन करते हैं, तो इसके बाद आपको इसकी चयन प्रक्रिया से होकर गुजरना होता है। इसकी चयन प्रक्रिया 2 अलग-अलग प्रकार से आयोजित की जाती है, जिसे पास करने के बाद आप एक पटवारी बन सकते हैं। इसकी चयन प्रक्रिया निम्नलिखित प्रकार से होती है:

  1. पटवारी की ऑनलाइन परीक्षा (CBT Exam) या लिखित
  2. पटवारी का साक्षात्कार (Interview)

पटवारी की लिखित परीक्षा या ऑनलाइन परीक्षा (Patwari Written Exam or Online CBT Exam)

जब आप आवेदन करते हैं, तो इसके बाद सबसे पहले आपको एक लिखित परीक्षा या ऑनलाइन (CBT Exam) देनी होती है। इस परीक्षा में आपको 200 अंकों का पेपर दिया जाता है, जिसमें 200 ऑब्जेक्टिव टाइप के सवाल होते हैं। इस परीक्षा में प्रत्येक सवाल 1 अंक का होता है।

आपको इस परीक्षा को पूरा करने के लिए 3 घंटे का समय दिया जाता है, और इस परीक्षा में किसी भी प्रकार की नेगेटिव मार्किंग नहीं रखी जाती। इसलिए, इस परीक्षा को पास करना आपके लिए थोड़ा आसान हो सकता है, हालांकि इस परीक्षा में सफल होने के लिए आपको मेहनत करनी होगी।

Related – साइबर अपराध/क्राइम क्या हैंं, बचाव के उपाय और प्रकार क्या हैंं? What is Cyber Crime in Hindi 

पटवारी का साक्षात्कार (Patwari’s Interview)

जब आप लिखित परीक्षा में सफल हो जाते हैं, तो इसके बाद आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इसमें आपको एक पैनल के सामने इंटरव्यू देना होता है, जिसमें सामान्य ज्ञान से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं, जिनके आपको सही उत्तर देना होता है। आपके प्रदर्शन के आधार पर आपको इंटरव्यू में अंक दिए जाते हैं, और इन अंकों को आपकी मेरिट में भी जोड़ा जाता है, इसलिए आपको इंटरव्यू में अच्छे अंक प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए।

जब आप दोनों टेस्ट में सफल हो जाते हैं, तो इसके बाद एक मेरिट जारी की जाती है, उस मेरिट में सभी कैंडिडेट को प्राप्त अंकों के आधार पर अलग-अलग रैंक दी जाती है। इस रैंक के आधार पर ही किसी भी कैंडिडेट को पटवारी पद के लिए चयन किया जाता है। इसके बाद उन्हें ट्रेनिंग के लिए आगे भेजा जाता है, और जब इनकी ट्रेनिंग पूरी हो जाती है, तो उन्हें संबंधित पद पर नियुक्ति दी जाती है।

पटवारी की तैयारी कैसे करे? (Patwari Preparation in Hindi)

इस लेख में, हमने एमपी पटवारी की तैयारी के लिए कुछ उत्कृष्ट सुझाव प्रस्तुत किए हैं, जिन्हें आप परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले देख सकते हैं।

पटवारी का सिलेबस और परीक्षा पैटर्न को समझें

परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले, आपको पटवारी सिलेबस और परीक्षा पैटर्न समझना अत्यंत महत्वपूर्ण है। सिलेबस को पूरी तरह से अपडेट किया जाना चाहिए, ताकि आप परीक्षा में शामिल होने वाले सभी विषयों को ठीक से समझ सकें और उनकी तैयारी कर सकें। साथ ही, परीक्षा पैटर्न को जानना भी बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह आपको विषयों के आधार पर वेटेज, परीक्षा की अवधि, और अन्य विवरणों की समझ प्रदान करता है।

पिछले वर्ष के प्रश्न हल करें

सबसे पहले, आपको पटवारी के पिछले साल के प्रश्नपत्रों को देखना होगा और सब्जेक्ट-वाइज हल करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। अधिक अभ्यास करने से प्रश्नों को हल करने में आपको सरलता मिलेगी और उन्हें टेस्ट सीरीज़ के साथ एक समय में हल करने की आवश्यकता होगी, ताकि आप परीक्षा के माहौल को पहचान सकें और संभावित रूप से पूछे जाने वाले विषयों और प्रकार के प्रश्नों से अधिक परिचित हो सकें।

अपना टाइम टेबल बनाए

आपकी सुविधा और आवश्यकता के आधार पर अपनी पढ़ाई की योजना तैयार करें। यह सुनिश्चित करें कि आप उन विषयों को प्राथमिकता दें जिन्हें समझने में आपको कठिनाई होती है। हालांकि, तैयारी के दौरान थोड़ा आराम करें और अपने मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का ध्यान रखें, क्योंकि सबसे अच्छी तैयारी के लिए आपको अपने मानसिक संतुलन रखने और अपने शारीरिक स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने की आवश्यकता है।

पुस्तकों की संख्या सीमित रखे

जब आप पढ़ाई करते हैं, तो आप हजारों वीडियो वेबसाइटों पर खोज करते हैं कि पटवारी की तैयारी के लिए सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों की सूची क्या है? और इस बड़ी संख्या में, आप किताबों की भंडार बना लेते हैं, यह बिल्कुल सही है। उम्मीदवारों को पटवारी परीक्षा की दिशा में सुझाई गई पुस्तकों को चुनने के लिए सीमित संसाधनों का होना चाहिए। इससे आपको भ्रमित होने से बचाया जा सकता है और इस तरीके से आपके मूल सिद्धांतों को सरल और स्पष्ट तरीके से समझने में मदद मिलेगी।

कठिन से लेकर आसान तक के विषयों पर तैयारी शुरू करें

अब आपको इसमें पहचान नहीं होगी कि कौनसा विषय आपके लिए कठिन है और कौनसा सरल है, इसलिए विशेष ध्यान देना चाहिए वो विषयों पर जो आपके लिए कठिन हैं और पहले इन विषयों की तैयारी शुरू करें। और परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के प्रकार का अंदाजा लगाने के लिए पटवारी के पिछले वर्षों के प्रश्नपत्रों का अभ्यास करें। इससे आपको अपनी समस्या-समाधान क्षमता को बेहतर बनाने में भी मदद मिलेगी।

रिविज़न करते रहें

उम्मीदवारों को पटवारी की तैयारी के साथ-साथ संशोधन (रिवीजन) करना भी बहुत महत्वपूर्ण होता है। जितना आप पढ़ाई का लक्ष्य निर्धारित करते हैं, उसके अनुसार हफ्ते में संशोधन जरूर करें।

मॉक टेस्ट हल करें (Mock Test)

अपने अभ्यास कार्यक्रम को पूरी तरह से मजबूत बनाएं, यह केवल अधिक अभ्यास और समय प्रबंधन कौशल की मदद के साथ ही कमजोरियों को भी प्रकट करेगा, ताकि आप कठिन मेहनत कर सकें और अपने प्रदर्शन में सुधार कर सकें।

Related – लोको पायलट कैसे बने?,, भर्ती प्रक्रिया, सैलरी, काम – Loco Pilot Kaise Bane

पटवारी का सिलेबस क्या है? (Patwari Syllabus in Hindi)

पटवारी की परीक्षा में सफल होने के लिए, आपको इसके सिलेबस के बारे में जानकारी होनी चाहिए कि आखिरकार पटवारी के परीक्षा में किस विषय से सवाल पूछे जा सकते हैं। हम आपको कुछ विशेष विषयों के बारे में बता रहे हैं, जिनमें से पटवारी की परीक्षा में सवाल पूछे जा सकते हैं। ये सब्जेक्ट निम्नलिखित प्रकार हैं:

  • हिंदी
  • जनरल नॉलेज
  • पंचायती राज सिस्टम
  • गणित
  • कंप्यूटर

पटवारी की परीक्षा में आपको निम्नलिखित सब्जेक्ट से सवाल पूछे जा सकते हैं, इसलिए इसकी परीक्षा में सफल होने के लिए पहले आपको इसका सिलेबस विस्तार से समझ लेना चाहिए, और उसके आधार पर ही आपको पटवारी परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए, ताकि आप इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सकें।

पटवारी की सैलरी कितनी होती है? (Patwari’s Salary in Hindi)

सभी राज्यों में पटवारी पद का वेतन वहां के नियमों के अनुसार भिन्न होता है। पटवारी बनने के बाद, आपको सामान्यत रूप से 5200/- रुपए से लेकर 20,200/- रुपए तक का मासिक वेतन दिया जाता है, और साथ ही आपको महंगाई भत्ता, यात्रा भत्ता, और आवास आदि जैसी अद्भुत सुविधाएं और भत्ते भी प्रदान किए जाते हैं। इसके अलावा, आपका वेतन समय-समय पर बढ़ाया जाता है।

पटवारी को कौन-कौन सी सुविधाएं मिलती हैं?

पटवारी को निम्नलिखित लाभ और भत्ते प्रदान किए जाते हैं:

  • मकान किराया भत्ता
  • चिकित्सा सुविधाएं
  • महंगाई भत्ता
  • अवकाश यात्रा भत्ता
  • यात्रा भत्ता
  • निर्वहन भत्ता
  • बच्चों की शिक्षा भत्ता
  • जलपान भत्ता
  • सेवानिवृत्त होने पर TA
  • स्थानांतरण पर TA

निष्कर्ष-

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको पटवारी कैसे बने इसके विषय में जानकारी मिल गई होगी। क्योंकि आज के इस पोस्ट में हमने जाना की पटवारी कौन होता है? पटवारी क्या काम करता है? पटवारी किस तरीके से बन सकते है? पटवारी की तैयारी कैसे करे? पटवारी की परीक्षा में कौन-कौन से सिलेबस आते हैं? पटवारी को कौन-कौन सी सुविधाएं मिलती हैं? पटवारी की सैलरी कितनी होती है?

HindiMeIndia के इस लेख Patwari Kya Hai, Patwari Kaise Bane से संबंधित इस लेख को अपने सभी सोशल मीडिया इस्तेमाल करने वाले दोस्तों को शेयर करें ताकि उनको भी पटवारी के बारे में पूरी जानकारी का पता चल सके।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...