आईपीएस ऑफिसर कैसे बनें ? योग्यता, सैलरी, अधिकार- IPS Officer Kaise Bane

Date:

  नमस्कार दोस्तों। इस लेख आईपीएस [IPS] ऑफिसर कैसे बनें? योग्यता, सैलरी, अधिकार, कर्त्तव्य, भर्ती प्रक्रिया आईपीएस का फुल फॉर्म [How to become an IPS officer? Qualification, Salary, Rights, Duties, Recruitment Process, IPS Full Form in Hindi] के बारे में विस्तृत जानकारी देने वाले हैं, ताकि आपको IPS OFFICER Kaise Bane? की सही जानकारी पता चले।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

दोस्तो ज्यादातर सभी मां बाप का सपना होता होता है की उनके बच्चें एक ऑफिसर बने और उनका और देश का नाम रोशन करे। और यही सपने लेके बच्चे अपने तैयारी में जुट जाते है और अपने सपने को साकार करते है। समाज में अधिकारी रैंक पर नौकरी कर रहे लोगो का एक अलग रुतबा और सम्मान होता है। और हां ये बात सच है की एक ऑफिसर रैंक की नौकरी लोगो को बहुत जिम्मेदार और न्यायपूर्ण इंसान बना देती है। आज हम बात करेंगे एक ऐसे सर्विस की जिसको पाना हर किसी का सपना होता है लेकिन उसको पाने वाले बहुत ही कम निकलते है। जी हां दोस्तो आज हम बात करेंगे IPS officer के बारे में।

IPS,IAS और IFS के साथ तीन All India Service में से एक माना जाता है। यह देश में law और system को बनाए रखने के लिए एक जिम्मेदार वाली नौकरी है और इसे भारत में सबसे प्रतिष्ठित और विशिष्ट सर्विसेज में से एक माना जाता है।

देश को British शासन से स्वतंत्रता मिलने के बाद सन 1948 में IPS का organized किया गया था। इस Service का Leadership राज्य स्टेट लेवल पर Director General of police जिसको DGP करते है और नेशनल लेवल पर DGP, Central Reserve Police Force (CRPF) करते हैं। IPS OFFICER की नियुक्ति UPSC द्वारा एक कठीन सिलेक्शन प्रोसेस के माध्यम से की जाती है जिसमें एक ए Exam, medical test और Training और एक interview शामिल होता है।

IPS क्या होते है? 

IPS एक जिम्मेदारी वाली नौकरी है जो अधिकारी रैंक पर मानी जाती है। यह सर्विस law और order बनाए रखने, क्राइम को रोकने और उसका पता लगाने और मामलों की जांच करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। वे डिजास्टर मैनेजमेंट और आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। IPS Officer को अलग अलग लेवल पर तैनात किया जाता है जिनमें Superintendent of Police (SP), Deputy Inspector General of Police (DIG), Inspector General of Police (IGP), Additional Director General of Police (ADG) और Director General of police (DGP) शामिल है।

IPS officer का National और State Level पर पॉलिसी को बनाना और उसे अच्छी तरह से इंप्लीमेंट करना आदि काम शामिल होते हैं। वे अन्य law enforcement agencies, जैसे Central Bureau of Investigation (CBI) Intelligence Bureau (IB) और National Investigation Agency (NIA) के साथ मिलकर काम करते हैं।

IPS Officer बनने के लिए UPSC द्वारा आयोजित civil Services Exam को पास करना होती है। कैंडिडेट्स को भारत का नागरिक होना चाहिए और किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से Bachelor की Degree पूरी करनी चाहिए।  Exam में बैठने के लिए age limit 21 से 32 year है। सिलेक्शन प्रॉसेस में Preliminary Exam,Mains Exam और Interview शामिल है।

Related – Ti Full Form in Police :टीआई का फुल फॉर्म क्या होता हैं?

IPS Officer कैसे बने? 

IPS Officer बनने के लिए किसी को नीचे दिए गए steps को फॉलो करना होगा :

• पात्रता मानदंडों को पूरा करे : Candidates को इंडियन नागरिक होना चाहिए और किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से Bachelor की degree पूरी करनी चाहिए।  परीक्षा में शामिल होने के लिए age limit 21 से 32 year के बीच होनी चाहिए।

• सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करे : कैंडिडेट्स को एग्जाम के तीन स्टेप्स को पास करना होता है और यह एग्जाम UPSC के जरिए आयोजित की जाती है और एग्जाम में तीन स्टेप होते हैं जिसमे से pre Exam, mains Exam और interview होता है।

CSE (Civil Services Examination) तीन स्टेप्स वाली एग्जाम प्रोसेस है जिसमें शामिल हैं :

1. प्रारंभिक परीक्षा : यह objective type की परीक्षा होती है जो General Knowledge,Current affairs और Reasoning सहित अलग अलग subjects में कैंडिडेट्स के knowledge और ability को परखा जाता है। यह एक screening test है जिसमें दो objective type के पेपर होते हैं पहला General Studies Paper I और दूसरा General Studies Paper II (CSAT) होता है। इस step को पास करने के लिए कैंडिडेट्स को एग्जाम की cut off clear करने की आवश्यकता है।

2. मुख्य परीक्षा : यह एक subjective type की परीक्षा है जिसमें total 9 paper होते हैं, जिसमें कैंडिडेट्स द्वारा चुने गए 2 optional paper शामिल होते हैं। Main Exam language,Literature, History, Geography, Economics और Science सहित अलग अलग subjects में कैंडिडेट्स के knowledge और understanding को परखा जाता है। Mains Exam में 2 Qualifying Paper और 7 merit based paper होता है। इस step को पास करने के लिए कैंडिडेट्स को Qualifying paper और merit based paper में मिनिमम qualifying marks प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।

3. व्यक्तित्व परीक्षण या चिकित्सा परीक्षण : यह step सिलेक्शन प्रॉसेस का लास्ट स्टेप होता है, जहां experts के एक बोर्ड द्वारा आयोजित personal interview के माध्यम कैंडिडेट्स के personality character,communication skills और नौकरी के लिए वह कैंडिडेट्स suitable है की नही इसका आकलन किया जाता है। यदि किसी कैंडिडेट्स को मेडिकल टेस्ट में किसी कमी के कारण उसको out कर दिया जाता हैं तो उसको 2 से 3 महीने का समय दिया जाता है ताकि वो अपनी शारीरिक कमी को दूर कर सके और फिर मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है।

उपर्युक्त तीनों स्टेप को पास करने के बाद कैंडिडेट्स को इस नौकरी के लिए पात्र समझा जाता है और फिर उसके बाद कैंडिडेट्स को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।

•  साक्षात्कार स्पष्ट करना : यह selection process का last step होता है। कैंडिडेट्स को UPSC बोर्ड द्वारा आयोजित Personal Interview के लिए प्रेजेंट होना होगा। Interview में कैंडिडेट्स के personality, communication skill और current affairs knowledge का परीक्षण किया जाता है।

• प्रशिक्षण : सिलेक्शन प्रॉसेस के सभी steps को पास करने के बाद कैंडिडेट्स को एक IPS Officer के रूप में select किया जाता है और फिर ट्रेनिंग स्टार्ट होती है।

कुल मिलाकर IPS Officer बनना किसी चुनौतीपूर्ण से कम नही है लेकिन फायदेमंद कैरियर का ऑप्शन है। Selection process को पास करने और एक law enforcement officer के रूप में देश की सेवा करने के लिए hard work,sacrifice और determination की जरूरत होती है।

Related – पत्रकार कैसे बनें? How to Become a Journalist in Hindi

IPS Officer बनने किए Eligibility Criteria क्या है? 

एक IPS Officer बनने के लिए नीचे दिए गए eligibility criteria पूरा करना जरूरी है।

• नागरिकता: Candidates को इंडियन सिटिजनशिप होना चाहिए।

• आयु सीमा: कैंडिडेट की आयु 21 year से 32 year होनी चाहिए। हालाँकि कुछ कैटेगरी जैसे SC/ST/OBC आयु में छूट मिलती है।

• शिक्षा योग्यता : कैंडिडेट्स को किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से Bachelor (BA,BSc,BBA,BCom आदि) की डिग्री पूरी करनी होगी। 

• फिजिकल मानक  : Candidates को Height,Weight और Ches के मीजरमेंट्स जैसे कुछ फिजिकल फिटनेस को पूरा करना होता है। Male कैंडिडेट्स के लिए minimum height 165 cm और female कैंडिडेट्स के लिए 150cm होनी चाहिए। Male कैंडिडेट्स के लिए Chest का measure कम से कम 84cm होनी चाहिए

• चिकित्सा आवश्यकताएं : IPS Officer के duties को निभाने के लिए कैंडिडेट्स को medically फिट होना चाहिए। Medical test में vision test, hearing test और अन्य general health checkup शामिल हैं।

• प्रयासों की संख्या : IPS Officer के लिए attempts की ज्यादा से ज्यादा संख्या General Candidates के लिए 6, OBC Candidates के लिए 9 और SC/ST कैंडिडेट्स के लिए कोई लिमिट नही है।

• दूसरी आवश्यकताएँ : Candidates को किसी crime के लिए दोषी नहीं ठहराया गया हो या किसी crime मामले में शामिल नहीं होना चाहिए। कैंडिडेट्स के पास अच्छा मोरल कैरेक्टर भी होना चाहिए।

Related – Bullet Train क्या है, स्पीड/रफ्तार कितनी होती है? – Bullet Train in Hindi

IPS Officer की क्या Duties या जिम्मेदारी होती है? 

• कानून व्यवस्था बनाए रखना  : एक IPS OFFICER अपने Jurisdiction में law और order को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होता है। वे सुनिश्चित करते है कि लोग सरकार द्वारा बनाए गए rules को फॉलो कर और rules को न मानने वालों के खिलाफ जरूरी एक्शन ले।

• अपराधो को रोकना और पता लगाना  : IPS OFFICER क्रमिनल एक्टिविटीज को identify करते है और उन्हें होने से पहले रोकने के लिए उचित उपाय सोचते है और crime को रोकने के लिए काम करते हैं। वे पहले से घट चुके क्राइम की भी जांच करते हैं फिर सबूत इकट्ठा करते हैं और criminals पर मुकदमा चलाते हैं।

• नागरिकों के अधिकार एवं हित की रक्षा करना  : IPS OFFICER नागरिकों के rights के रक्षा के लिए जिम्मेदार होते हैं। वे clarify करते हैं कि लोगों के fundamental rights का उल्लंघन न हो और उनके साथ उचित व्यवहार किया जाए।

• पब्लिक सेफ्टी बरकरार रखना  : IPS OFFICER accidents,disasters और अन्य emergency state को रोकने के उपाय करते है जिससे पब्लिक की सेफ्टी पर कोई आंच न आए। वे emergency condition पर भी तुरंत reaction देते हैं और लोगों उनकी संपत्ति की सुरक्षा के लिए आवश्यक कार्रवाई करते हैं।

• पुलिसकर्मियों का प्रबंधन और रखरखाव : IPS OFFICER अपने Jurisdiction में policeman के मैनेजमेंट और ऑब्जर्वेशन के लिए जिम्मेदार होते है। अर्थात उनकी देख रेख में Police officer अपने duties को अच्छे से करने के लिए trained और inspired हों।

• क्राइम की जांच करना : IPS OFFICER crimes की जांच करते हैं उससे जुड़े सबूत इकट्ठा करते हैं और prosecution के लिए मामले तैयार करते हैं। वे कठिन मामलों को सुलझाने और क्रिमिनल्स को justice के कटघरे में लाने के लिए CBI जैसे एजेंसीज साथ मिलकर काम करते हैं।

• आतंकवाद को काउंटर करना : IPS OFFICER नेशनल सिक्योरिटी बनाए रखने और terrorism से निपटने के लिए CBI के साथ मिलकर काम करते हैं। वे खुफिया जानकारी को collect करते हैं और अनजान हलचल पर निगरानी करते हैं और terror attack को रोकने के लिए सही  उपाय करते हैं।

• आपातकाल के दौरान सार्वजनिक व्यवस्था बनाए रखना : IPS OFFICER नेचुरल डिजास्टर या सिविल वॉयलेशन जैसी इमरजेंसी  स्थिति के दौरान पब्लिक ऑर्डर बनाए रखने के लिए जाने जाते हैं। वे समस्याओं से प्रभावित लोगों को relief और help देते है और जल्दी से जल्दी कंडीशन को नॉर्मल करने के लिए दूसरी agencies के साथ काम करते हैं।

• क्राइम को रोकने के लिए प्रोग्राम चलाना : IPS OFFICER अपने Jurisdiction में crime rate को कम करने के उद्देश्य से crime को रोकने से जुड़े programs में भी शामिल हो सकते हैं। वे लोगों को crime को नष्ट करने के बारे में बताते है और उन्हें suspicious activity की रिपोर्ट करने के लिए encourage करने के लिए schools,business और दूसरे organizations के साथ काम करते हैं।

Related – Mobile Number Se Location Kaise Pata Kare? मोबाइल नंबर से लोकेशन कैसे पता करे

IPS Officer के लाभ क्या होते है? 

एक IPS OFFICER के लिए लाभ इस प्रकार हैं :

• Salary (तनख्वा) : IPS OFFICER अच्छे सैलरी के हकदार हैं, जो सरकार द्वारा निर्धारित किया जाता है। एक IPS OFFICER की सैलरी लाखों में होती है।

• Residence (आवास) : IPS OFFICER को उनके Rank और Posting स्थान के आधार पर free quarter या quarter allowance दिया जाता है।

• Medical Facility (स्वास्थ्य सुविधा) : IPS OFFICER और उनके परिवार के सदस्य Gov Hospitals में free मेडिकल सुविधाओं के हकदार होते है।

• Travel allowance (यात्रा भत्ता) : IPS OFFICER को ऑफिशियली टूर और ट्रांसफर के लिए travel allowance दिया जाता है।

• Pension (पेंशन): IPS OFFICER अपने retirement के बाद pension के हकदार होते हैं। उनकी पेंशन एक पैमाने पर तय होती है जो की उनके last salary और Service time के आधार पर की जाती है।

• Security (सुरक्षा) : IPS OFFICER को उनकी rank और danger के आधार पर security cover प्रदान किया जाता है जिसमें उनके पास  पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर व्यक्तिगत (PSO) और Guard शामिल होते हैं।

• Training (प्रशिक्षण) : IPS OFFICER को crime investigation, intelligence information को इक्कठा करने और anti terrorism सहित अलग अलग क्षेत्रों में अपने skill और knowledge को बढ़ाने के लिए regular Training दिया जाता है।

• Facilities (सुविधाएँ) : IPS OFFICER कई तरह की सुविधाएं के लिए हकदार होते है जैसे free electricity, telephone और internet connection आदि।

• Respect  (आदर) : एक IPS OFFICER को law और order बनाए रखने और citizens की सुरक्षा करने के लिए उनको समाज में High level का respect प्राप्त होता है।

• Job security (नौकरी की सुरक्षा)  : IPS OFFICER को job security मिलती है क्योंकि उन्हें एक certain tenure के लिए appoint किया जाता है और कानून द्वारा तय किए गए मुख्य कारणों से ही उन्हें Service से remove किया जा सकता है।

Related – GRP Full Form in Hindi And English – जीआरपी का फुल फॉर्म क्या होता है?

IPS Officer की सैलरी कितनी होती है? 

एक IPS Officer की सैलरी उनकी Rank और Service के लिए दिया गए समय पर निर्भर करता है। 

1. Junior Level : जूनियर लेवल के IPS Officer में ASP और DSP शामिल है। इनकी सैलरी लगभग 56,100 रुपए से 1,77,500 रुपए per month होती है।

2. Medium Level : Medium level के IPS Officer में SP और SSP शामिल होते हैं। इनकी सैलरी 67,700 रुपए से लेकर 2,08,700 रुपए per month होती है।

3. Senior level : Senior level के IPS Officer में DIG, IG और ADG रैंक के ऑफिसर्स शामिल होते है। इनकी सैलरी 1,18,500 रुपए से लेकर  2,14,100 रुपए per month होती है।

4. Top level : इस तरह के लेवल में IPS Officer में DGP और DIB शामिल होते हैं।  इनकी सैलरी 2,25,000 रुपए से लेकर  2,50,000 रुपए per month होती है।

Basic salary के अलावा,IPS Officer अलग अलग allowances जैसे dearness allowance, home rent allowance,travel allowance,Medical allowance और भी बहुत कुछ के हकदार होते हैं। उन्हें Pension,Awards और provident fund जैसे लाभ भी मिलते है।

Related – Aluminium Ka Business Kaise Shuru Karen?- खिड़की दरवाजे से लाखों कमाए

IPS Officer का प्रमोशन कैसे होता है? 

एक IPS Officer का प्रमोशन उनकी Service के समय, प्रदर्शन और वेकेंसी की availability पर आधारित होती है। Promotion प्रक्रिया में साधारण तौर पर एक written Exam शामिल होती है जिसके बाद interview होता है और ऑफिसर के प्रेजेंटेशन और अगली रैंक के वह योग्य है की नही इसकी नोटिस किया जाता है।  

एक IPS Officer के लिए उनका प्रमोशन इस प्रकार होता है :

1. सहायक पुलिस अधीक्षक (ASP)

2. पुलिस उपाधीक्षक (DSP)

3. पुलिस अधीक्षक (SP)

4. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP)

5. पुलिस उप महानिरीक्षक (DIG)

6. पुलिस महानिरीक्षक (IG)

7. अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (ADG)

8. पुलिस महानिदेशक (DGP)

9. DIB

एक Rank से दूसरे Rank पर Promotion में लगने वाला समय उनका बैकग्राउंड और vacancy की उपलब्धता पर depend करता है। हालाँकि एक ASP को DSP बनने में करीबन 5 से 6 साल, एक DSP को SP बनने में 8 से 10 साल और एक SP को DIG बनने में लगभग 15 से 20 साल लग जाते है। Promotion के साथ साथ सैलरी और लाभों में बढ़ौतरी होती है।

IPS officer की ट्रेनिंग कहा होती है? 

IPS Officer को अलग अलग राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में तैनात होने से पहले उन्हें हैदराबाद में Sardar Vallabhbhai Patel National Police Academy में एक कठीन ट्रेनिंग से गुजरना पड़ता है। जिससे वे इतने कठोर बन जाते है की उन्हें किसी भी प्रकार के जोखिम को उठाने का साहस प्राप्त हो जाता है।

FAQ,s

IPS के लिए पहले कौन सी पढ़ाई करें?

कैंडिडेट्स को किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से Bachelor (BA, BSc, BBA, BCom आदि) की डिग्री पूरी करनी होगी।।

IPS बनने के लिए कितने साल पढ़ाई करनी पड़ती है?

IPS Officer के लिए attempts की ज्यादा से ज्यादा संख्या General Candidates के लिए 6, OBC Candidates के लिए 9 और SC/ST कैंडिडेट्स के लिए कोई लिमिट नही है। अब मेहनत करने वाले 2 साल में भी निकाल लेते हैं तो कुछ को 6 से 9 साल भी लग जाते है।

आईपीएस बनने में कितना खर्च आता है?

आईपीएस बनने के लिए कंडीशन के ऊपर खर्चा होता है। अगर आप एक अच्छे Coaching Center से Ips की तैयारी करेंगे तो 2 से 3 लाख तक का खर्चा आ सकता है।

आईपीएस बनने के लिए 12वीं के बाद कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है?

12वी के बाद किसी भी विषय से ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद आईपीएस का एग्जाम दे सकते हैं।

निष्कर्ष  –

IPS OFFICER के बारे में उपलब्ध जानकारी को पढ़ने के बाद, मैं यह निष्कर्ष निकाल सकता हूँ कि वे देश में law and order व्यवस्था बनाए रखने में महत्वपूर्ण रोल अदा करते है। वे पब्लिक सेफ्टी को सेफ करने के लिए,crime रोकने और शांति बनाए रखने के लिए जाने जाते हैं।  IPS OFFICER को इस Post के लिए eligible बनने के लिए hard Training से गुजरना पड़ता है और अलग अलग Exams को पास करना पड़ता है। Justice दिलाने के लिए वे अन्य agencies जैसे CBI और सरकार के साथ मिलकर काम करते हैं। कुल मिलाकर IPS OFFICER Indian administrative system का एक अनिवार्य हिस्सा है और समाज में उनका योगदान अमूल्य और कीमती है।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...