TCP क्या है, काम कैसे करता हैं? What is TCP in Hindi

Date:

TCP Kya Hai: आज आपको TCP का Full Form, TCP क्या है (What is TCS in Hindi), TCP का उद्देश्य, TCP कैसे काम करता है, TCP के प्रकार, TCP के फायदे, TCP और यूडीपी में अंतर, TCP के प्रयोग के बारे में विस्तृत जानकारी देने वाले हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

ताकि आपको टेक्नोलॉजी से जुड़े टीसीएस का मतलब यानि TCS का Meaning क्या होता हैं के साथ साथ टीसीएस के बारे में विस्तृत विवरण का पता चल पाए।

चलिए अब आपको TCS Kya Hota Hai और TCS Kam Kaise Karta Hai लेख को शुरु करते हैं।

TCP का Full Form (Meaning)

TCP का पूरा नाम “Transmission Control Protocol” है। TCP एक नेटवर्क प्रोटोकॉल होता है जो इंटरनेट और अन्य नेटवर्क्स में डेटा के सुरक्षित और संचालनसिल प्रेषण की सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। TCP डेटा के सेगमेंटेशन, फ्लो कंट्रोल, और डेटा के सही पहुंचने की प्रक्रिया को संचालित करने में मदद करता है ताकि जब एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम को डेटा भेजा जाता है, तो यह डेटा सुरक्षित और व्यवस्थित रूप से पहुंच सके। TCP इंटरनेट प्रोटोकॉल सुई (TCP/IP) का हिस्सा है और विभिन्न वेब और नेटवर्क सेवाओं को संचालित करने में इस्तेमाल होता है।

TCP क्या है । TCP Kya Hai। What is TCP in Hindi

टीसीपी (TCP), जिसे “ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल” के रूप में जाना जाता है, एक तरह का नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो इंटरनेट और अन्य नेटवर्क्स में डेटा को सुरक्षित और संचालनसिल तरीके से पहुंचाने में मदद करता है। इसका मुख्य उद्देश्य डेटा की सही पहुंचन और सुरक्षा को सुनिश्चित करना है, ताकि जब एक सिस्टम से दूसरे सिस्टम को डेटा भेजा जाता है, तो यह डेटा संचालन और व्यवस्थित तरीके से पहुंच सके।

इसका उपयोग वेब ब्राउज़िंग, ईमेल, ऑनलाइन गेमिंग, और अन्य इंटरनेट और नेटवर्क सेवाओं को संचालित करने के लिए किया जाता है, जब डेटा के सुरक्षित और स्थिर पहुंचने की जरूरत होती है।

Related … AnyDesk App क्या है, इस्तेमाल कैसे करें? What is AnyDesk in Hindi

TCP का उद्देश्य । Purpose of tcp in Hindi

TCP (Transmission Control Protocol) का मुख्य उद्देश्य नेटवर्क्स में डेटा के सुरक्षित, संचालनसिल, और सही पहुंचने को सुनिश्चित करना है। इसके उद्देश्यों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • डेटा के सेगमेंटेशन: TCP डेटा को छोटे सेगमेंट्स (भागों) में विभाजित करता है, ताकि इसे नेटवर्क पर सही तरीके से पहुंचाया जा सके।
  • फ्लो कंट्रोल: TCP नेटवर्क पर डेटा की गति को नियंत्रित करता है, ताकि अधिशेष ट्रैफिक से नेटवर्क का अधिकांश प्रयोग कर सके।
  • प्राथमिकता: TCP डेटा के पहुंचने की प्राथमिकता को सुनिश्चित करता है, ताकि डेटा के नुकसान या हानि की सम्भावना को कम किया जा सके।
  • हाथशेक (Handshaking): TCP कनेक्शन स्थापित करने के लिए हाथशेक प्रक्रिया का उपयोग करता है, जिससे सिस्टम एक दूसरे से संचालन क्या है यह जान सकते हैं।
  • डेटा के अद्यतन: TCP डेटा के अद्यतन को समर्थन करता है, जिससे डेटा को बार-बार अपडेट किया जा सकता है।

इन उद्देश्यों के साथ, TCP इंटरनेट प्रोटोकॉल सुई (TCP/IP) का हिस्सा है और इंटरनेट और नेटवर्क संचालन को सुविधाजनक बनाने में मदद करता है।

TCP कैसे काम करता है | How Tcp Works in Hindi

टीसीपी (TCP) एक तरह का नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो इंटरनेट और अन्य नेटवर्क्स में डेटा को सुरक्षित तरीके से भेजने का काम करता है, और यह कुछ आसान चरणों में काम करता है:

डेटा को बाँटना: सबसे पहला कदम है डेटा को छोटे-छोटे टुकड़ों में बाँटना। इससे डेटा को बेहतर तरीके से ट्रांसमिट किया जा सकता है।

सफ़र्सता की जांच: टीसीपी यह सुनिश्चित करता है कि हर टुकड़ा सही तरीके से पहुंचा है, और यदि कुछ खो गया है तो वह इसे फिर से पुन: मांग लेता है।

गति नियंत्रण: टीसीपी यह भी देखता है कि डेटा कितनी तेज़ी से भेजा जा रहा है ताकि नेटवर्क अधिपूर्ण हो सके, और डेटा के गुम हो जाने का खतरा नहीं हो।

हाथशेक (Handshaking): सिस्टम एक-दूसरे के साथ संचालन करने की प्राथमिकता को स्थापित करने के लिए एक प्रक्रिया का अभिवादन करते हैं, जिसे हाथशेक कहा जाता है।

डेटा का पहुंचना: एक बार हाथशेक होने के बाद, डेटा भेजने का प्रक्रिया शुरू होता है, जिसमें डेटा नेटवर्क के जरिए प्रेषित किया जाता है।

पुनर्प्रेषण (Retransmission): यदि कुछ डेटा कहीं गम हो जाता है, तो टीसीपी उसे फिर से पुन: भेज सकता है, इससे डेटा का गुम होने का खतरा कम होता है।

इस तरीके से, टीसीपी डेटा को सुरक्षित तरीके से नेटवर्क पर पहुंचाता है और नेटवर्क के संचालन को सुविधाजनक बनाता है।

Related ….. पिंट्रेस्ट क्या है इसके कार्य और उपयोग जानिए | What is Pinterest in Hindi

TCP के प्रकार | Types of TCP in Hindi

TCP के विभिन्न प्रकार होते हैं:

TCP — यह साधारण TCP है, जिसे हम सब डेटा के सुरक्षित प्रेषण के लिए इस्तेमाल करते हैं।

TCP-R — इसे “TCP-आर” कहा जाता है और यह डेटा को बार-बार पढ़ने और लिखने के लिए होता है।

TCP-W — इसे “TCP-डब्ल्यू” कहा जाता है और यह डेटा को बार-बार पढ़ने और लिखने के लिए होता है, लेकिन इसमें कुछ तकनीकी बदलाव हो सकते हैं।

TCP-Z: — इसे “TCP-ज़ेड” कहा जाता है और यह डेटा को बहुत तेज़ी से पढ़ने और लिखने के लिए होता है।

TCP-D — इसे “TCP-डी” कहा जाता है और यह डेटा को बार-बार पढ़ने और लिखने के लिए होता है, लेकिन इसमें कुछ तकनीकी अंतर हो सकते हैं।

इन प्रकारों में से हर एक का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए होता है, जैसे कि डेटा को सुरक्षित रूप से पहुंचाना या डेटा को अद्यतित करना।

TCP के फायदे | Benefits of TCP in Hindi

TCP के कुछ मुख्य फायदे होते है जो कि निम्न है –

सुरक्षित डेटा प्रेषण: TCP डेटा को सुरक्षितीकृत रूप से नेटवर्क पर पहुंचाने में मदद करता है, इससे डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित होती है।

डेटा की प्राथमिकता: TCP प्राथमिकता की सुनिश्चिति करता है, इससे महत्वपूर्ण डेटा को अधिशेष डेटा के साथ प्रेषित किया जा सकता है।

फ्लो कंट्रोल: TCP नेटवर्क पर डेटा की गति को नियंत्रित करता है, इससे नेटवर्क का अधिपूर्ण होने से बचा जा सकता है।

हाथशेक (Handshaking): TCP हाथशेक प्रक्रिया का उपयोग करके सिस्टम के साथ संचालन की प्राथमिकता स्थापित करता है, जिससे सुरक्षित कनेक्शन स्थापित होता है।

डेटा के अद्यतन: TCP डेटा को बार-बार अद्यतन कर सकता है, जिससे नवीनतम जानकारी को प्रेषित करने की क्षमता रहती है।

विफलता की स्थितियों का प्रबंधन: TCP यदि किसी कारणवश डेटा को गम कर देता है, तो वह उसे पुन: प्रेषित कर सकता है, इससे डेटा के गुम होने का खतरा कम होता है।

इन फायदों के साथ, TCP इंटरनेट और नेटवर्क कंप्यूटिंग के कई पहलुओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और डेटा को सुरक्षितीकृत तरीके से प्रेषित करने में मदद करता है।

Related….. IPv4 और IPv6 में अंतर? Difference Between IPv4 vs IPv6 in Hindi

TCP का इतिहास

TCP (Transmission Control Protocol) और इसके साथ ही जुड़े इंटरनेट प्रोटोकॉल्स का इतिहास इंटरनेट के विकास के साथ जुड़ा है। यहां TCP के महत्वपूर्ण इतिहासिक मोमेंट्स हैं:

  • 1960s – आरम्भिक विचारधारा: TCP का विचार पहले 1960s में डॉगलस एंड्रु और रॉबर्ट टेलर द्वारा प्रस्तुत किया गया था, लेकिन इसके असली विकास 1970s में आरंभ हुआ।
  • 1974 – TCP प्रस्तावना: विंटन सर्फ और रॉबर्ट कैन ने 1974 में TCP के प्रस्तावना को दिलाई और इसे “TCP प्रस्तावना” के रूप में प्रकाशित किया।
  • 1970s – TCP/IP का जन्म: TCP को बाद में इंटरनेट प्रोटोकॉल सुई (TCP/IP) का हिस्सा बनाया गया, जिसे विंटन सर्फ, बॉब कैन, और दूसरे वैज्ञानिकों ने मिलकर विकसित किया।
  • 1983 – TCP/IP विचारधारा का प्रयोग: 1983 में ARPANET (प्रारंभिक इंटरनेट) नेटवर्क पर TCP/IP विचारधारा का प्रयोग हुआ, जिससे इंटरनेट का आधार बना।
  • 1980s – RFCs और मानकीकरण: अनेक RFCs (Request for Comments) में TCP/IP प्रोटोकॉल्स के मानकीकरण का काम हुआ, जिससे ये प्रोटोकॉल्स आपसी समझने और इस्तेमाल करने में सहयोगी बने।
  • 1990s – इंटरनेट का व्यापक प्रसार: 1990s में इंटरनेट का व्यापक प्रसार हुआ, जिससे TCP/IP डेटा की गति में सुधार और सुरक्षा के साथ अधिक प्रयोगी हुआ।
  • 2000s – इंटरनेट का मानव सभ्यता में प्रवृत्ति: 2000s में इंटरनेट ने मानव सभ्यता में क्रांति ला दी, और TCP/IP इसके पीछे महत्वपूर्ण भूमिका निभाया, इसे संचालनिक रूप से और अधिक ज्ञाति का स्रोत बनाया।

FAQ,s

कंप्यूटर में TCP क्या है?

कंप्यूटर में TCP (Transmission Control Protocol) एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो डेटा के सुरक्षित और संचालनसिल प्रेषण की सुनिश्चिति करता है। यह इंटरनेट और नेटवर्क कंप्यूटिंग में डेटा को सही तरीके से पहुंचाने का काम करता है।

TCP Kya Hai?

TCP (Transmission Control Protocol) एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जो इंटरनेट और अन्य नेटवर्क्स में डेटा के सुरक्षित और संचालनसिल प्रेषण की सुनिश्चिति करता है। यह डेटा को सेगमेंट करता है, फ्लो कंट्रोल करता है, और सही पहुंचने की प्रक्रिया को संचालित करता है ताकि डेटा सुरक्षित रूप से पहुंच सके।

निष्कर्ष

उक्त लेख में हमने आपको TCP क्या होता है TCP कैसे काम करता है TCP कितने प्रकार का होता है एवं टच के क्या विशेषताएं हैं के बारे में विस्तृत जानकारी देकर समझने का प्रयास किया है ताकि आपको सभी टीसी पर संबंधित जानकारी अच्छे से समझ में आ सके।

हिंदी में इंडिया ब्लॉक का हमेशा यही प्रयास रहता है कि पाठकों को अच्छी सच्ची इनफॉरमेशन मिले और वह हमारे इसी लेख से संतुष्ट हो और दूसरी जगह जाकर ढूंढने की आवश्यकता ना पड़े। निवेदन है कि लेख को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म माध्यम के सभी दोस्तों को शेयर करें ताकि उनको भी पता चले कि टीसीपी क्या होता है।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...