कंप्यूटर के 50 पार्ट के नाम और उनके कार्य

Date:

आज लेट में कंप्यूटर के सभी 50 पार्ट के नाम और उनके कार्य (Names of 50 parts of computer and their functions in Hindi) के बारे में जानकारी सम्मिलित की गई है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

कंप्यूटर टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में या फिर डिजिटल विश्व के क्षेत्र में सबसे बड़ी क्रांति का प्रमुख हथियार है। एक कंप्यूटर ही ऐसी चीज है जिसके द्वारा आज हम पूरी दुनिया का टेक्नोलॉजी का एक बहुत ही डेवलपमेंट वाला रूप देख पा रहे हैं। पुराने समय में जब कंप्यूटर नहीं था उसे समय पूरे विश्व में ना तो एक दूसरे से कोई संपर्क था ना ही इतना डेवलप था। जो भी लिखा पड़ी की चीज थी वह सब मैन्युअल रूप से आदान-प्रदान होती थी जिसमें बहुत ही समस्या होती थी। 

कंप्यूटर के बारे में तो आजकल हर कोई जानता है क्या कभी आपने यह सोचा है जिस कंप्यूटर का हम इस्तेमाल करते हैं क्या उसमें कितनी टेक्नोलॉजी का उसे किया होगा और कितने पार्ट्स होंगे उसके अंदर तब जाकर वह कम कर रहा है। जी हां आज के लेख में आपको कंप्यूटर एवं कंप्यूटर के अंदर जितने भी पार्ट से उन सभी पार्ट्स के नाम एवं उन सभी पाठ के कार्य क्या-क्या है उनके बारे में विस्तृत जानकारी बताने वाले हैं ताकि आपके कंप्यूटर के सभी प्रमुख भागों के नाम और उनके कार्य के बारे में अच्छे से जानकारी मिल सके।

कंप्यूटर के कुछ भारी पार्ट्स होते हैं तो कुछ आंतरिक पाठ सोते हैं कंप्यूटर के बाहर के पार्ट्स को यानी जिसको हम कस सकते हैं उसको हार्डवेयर कहते हैं और जिसको हम छू नहीं सकते उसको सॉफ्टवेयर कहते हैं तो दोनों प्रकार के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर सभी पार्ट्स के नाम एवं कौन सा पार्ट क्या काम करता है उनके बारे में विस्तृत जानकारी बताने वाले हैं। 

चलिए अब Computer Ke Parts Ke Unke Naam Aur Unke Karya के बारे में जानकारी शुरु करते हैं। 

Table of Contents

कंप्यूटर के 50 पार्ट के नाम? Names of 50 Parts of Computer in Hindi

यहां कंप्यूटर के 50 मुख्य पार्ट्स की सूची है:

  1. AC Adapter
  2. BIOS (Basic Input/Output System)
  3. Blu-ray Drive
  4. Case Fan
  5. CD-ROM Drive
  6. Central Processing Unit (CPU)
  7. Computer Case
  8. Cooling System
  9. DVD Drive (Digital Versatile Disc Drive)
  10. Ethernet Port
  11. Expansion Card
  12. Fan
  13. Floppy Disk Drive
  14. Graphics Card
  15. Hard Disk Drive (HDD)
  16. Heat Sink
  17. Input Devices
  18. Joystick
  19. Keyboard
  20. LAN Port (Local Area Network Port)
  21. Liquid Cooling System
  22. Memory Card Reader
  23. Microphone
  24. Monitor
  25. Motherboard
  26. Mouse
  27. Network Card
  28. Optical Drive
  29. PC Speaker
  30. Power Supply Unit (PSU)
  31. Printer
  32. RAM (Random Access Memory)
  33. Scanner
  34. Sound Card
  35. Speaker
  36. SSD (Solid State Drive)
  37. System Fan
  38. Touchpad
  39. USB Hub
  40. USB Port (Universal Serial Bus Port)
  41. VGA Port (Video Graphics Array Port)
  42. Webcam
  43. Wi-Fi Card
  44. Wireless Router (not technically a part but a key component)
  45. Xbox Controller (less common)
  46. Yoke Controller (less common)
  47. Zip Drive (less common)
  48. UPS (Uninterruptible Power Supply)
  49. Router (not technically a part but a key component)
  50. UPS Battery

Barcode क्या है (What is Barcode in Hindi)

कंप्यूटर के पार्ट के नाम और उनके कार्य – Names of computer parts and their functions in Hindi

यहां कंप्यूटर के 50 मुख्य पार्ट्स के नाम और उनके कार्य हैं:

  1. Central Processing Unit (CPU) – डेटा प्रोसेसिंग और कंप्यूटर के सभी कार्यों का निष्पादन।
  2. Motherboard – सभी कंप्यूटर कंपोनेंट्स को जोड़ता है और इन्टरकनेक्ट करता है।
  3. Random Access Memory (RAM) – तात्काल डेटा संग्रहण करता है, जिसका उपयोग कार्यों के लिए किया जाता है।
  4. Hard Disk Drive (HDD) – डेटा को स्थायी रूप से संग्रहित करता है।
  5. Solid State Drive (SSD) – तेजी से डेटा एक्सेस करने और संग्रहित करने के लिए उपयोग होता है।
  6. Graphics Processing Unit (GPU) – ग्राफिक्स का प्रोसेसिंग करता है और वीडियो प्रदर्शित करता है।
  7. Power Supply Unit (PSU) – बिजली की आपूर्ति प्रदान करता है।
  8. Computer Case – सभी हार्डवेयर कंपोनेंट्स को सुरक्षित रखता है और ठंडा रखता है।
  9. Monitor – डेटा और ग्राफिक्स को प्रदर्शित करता है।
  10. Keyboard – टेक्स्ट और कमांड इनपुट करने में मदद करता है।
  11. Mouse – उपयोगकर्ता के द्वारा इंटरफेस करने में मदद करता है।
  12. Optical Drive – सीडी, डीवीडी, और ब्लू-रे डिस्क्स को पठने और लिखने के लिए।
  13. Network Card – कंप्यूटर को नेटवर्क से जोड़ता है।
  14. Sound Card – ध्वनि को कंप्यूटर से प्रक्षिप्त करता है और ध्वनि उत्पन्न करता है।
  15. Speakers – ध्वनि को सुनाते हैं।
  16. Microphone – ध्वनि को रिकॉर्ड करता है।
  17. Webcam – वीडियो कॉल और वीडियो रिकॉर्डिंग के लिए उपयोग होता है।
  18. Wi-Fi Card – वायरलेस इंटरनेट कनेक्टिविटी के लिए।
  19. USB Port (Universal Serial Bus Port) – डेटा और डिवाइस को कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए।
  20. Ethernet Port – नेटवर्क केबल के माध्यम से नेटवर्क से कनेक्ट होता है।
  21. Battery – लैपटॉप को ऊर्जा प्रदान करता है।
  22. Bluetooth Module – ब्लूटूथ डिवाइस के साथ कनेक्ट होने के लिए।
  23. Card Reader – मीडिया कार्ड को पठने और लिखने के लिए।
  24. Heat Sink – CPU को ठंडा करने के लिए।
  25. Heat Pipes – ऊर्जा को ठंडा करने के लिए।
  26. Northbridge – डेटा को CPU और RAM के बीच संचालन करता है।
  27. Southbridge – संदर्भन डेटा को प्रोसेसिंग

टीआरपी क्या है (What is TRP) – टीआरपी के बारे में जानकारी

कंप्यूटर के पार्ट के नाम और उनके कार्य

1. Central Processing Unit (CPU)

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit – CPU) कंप्यूटर का एक मुख्य हार्डवेयर कंपोनेंट है जो कंप्यूटर की मानक ब्रेन के रूप में कार्य करता है। CPU का प्रमुख कार्य है डेटा प्रोसेसिंग, जिसमें गणना, तर्क लगाना, और निर्णय लेना शामिल है। यह कंप्यूटर के सभी कार्यों को निष्पादित करता है, जैसे कि एप्लिकेशन चलाना, वेब ब्राउज़ करना, गेम्स खेलना, और डेटा प्रोसेसिंग करना। CPU के विभिन्न भाग, जैसे कि अलुग-अलग कोर्स और कैश मेमोरी, कंप्यूटर के प्रदर्शन और प्रदर्शन क्षमता को बढ़ाते हैं। CPU को कंप्यूटर के “मानक ब्रेन” के रूप में समझा जाता है, जो सभी कंप्यूटर कार्यों के निर्देश और निष्पादन का मुख्य जिम्मेदार होता है।

Central Processing Unit (CPU) के कार्य

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit – CPU) के कार्य निम्नलिखित हैं:

  • डेटा प्रोसेसिंग: CPU डेटा प्रोसेस करता है, जिसमें गणना, तर्क लगाना, और निर्णय लेना शामिल होता है। यह कंप्यूटर के मुख्य काम को करता है और उपयोगकर्ता के द्वारा दी गई निर्देशों का पालन करता है।
  • इंस्ट्रक्शन्स की निष्पादन: CPU कंप्यूटर की मेमोरी से इंस्ट्रक्शन्स (निर्देश) पढ़ता है और उन्हें निष्पादित करता है।
  • कार्य के क्रम का पालन: CPU कंप्यूटर के भिन्न कार्यों को उनके क्रम में पालन करता है, जिससे कंप्यूटर निर्देशों के अनुसार काम कर सकता है।
  • डेटा संग्रहण और प्राप्ति: CPU डेटा को मेमोरी से पठने और लिखने के लिए भी उपयोग करता है।
  • कंप्यूटर के अन्य हार्डवेयर कंपोनेंट्स के साथ संचालन: CPU कंप्यूटर के अन्य हार्डवेयर कंपोनेंट्स के साथ संचालन करता है, जैसे कि मेमोरी, ग्राफिक्स कार्ड, और संदर्भन डिवाइसेस।
  • कंप्यूटर के द्वारा आवश्यक कार्यों का प्राथमिकता क्रम निर्धारित करना: CPU विभिन्न कार्यों की प्राथमिकता क्रम को निर्धारित करके उन्हें क्रमबद्ध और तीव्रता क्रम में कार्यान्वित करता है।

इसके अलावा, CPU के विभिन्न प्रकार के कोर्स होते हैं, जो कार्यों को पैरलल तरीके से निष्पादित करने में मदद करते हैं, जिससे कंप्यूटर की कार्य क्षमता बढ़ती है।

2. Motherboard (मदरबोर्ड)

मदरबोर्ड (Motherboard) कंप्यूटर का वह मुख्य हार्डवेयर कंपोनेंट है जिसपर सभी अन्य हार्डवेयर कंपोनेंट्स को जोड़ा जाता है और उनके बीच संचालन किया जाता है। यह कंप्यूटर की बनावट का मूल होता है जिस पर CPU, RAM, ग्राफिक्स कार्ड, स्टोरेज डिवाइसेस (जैसे HDD और SSD), ऑडियो कार्ड, नेटवर्क कार्ड, और अन्य कंपोनेंट्स को स्थापित किया जाता है।मदरबोर्ड का प्रमुख कार्य कंप्यूटर के विभिन्न कंपोनेंट्स के बीच डेटा और डिजिटल संकेतों की पारंपरिक स्थान और संचालन देना है। यह डेटा की प्रेमिक्षा और प्रेमिक्षा कार्यों को प्रबंधित करता है और CPU के और अन्य कंपोनेंट्स के बीच संचालन की स्थापना करता है।

ISI MARK क्या है, किस उत्पाद पर होता है? What is ISI MARK in Hindi

Motherboard (मदरबोर्ड) के कार्य

मदरबोर्ड (Motherboard) के प्रमुख कार्य निम्नलिखित हैं –

  • कंप्यूटर के हार्डवेयर कंपोनेंट्स को जोड़ना: मदरबोर्ड पर CPU, RAM, ग्राफिक्स कार्ड, स्टोरेज डिवाइसेस (जैसे HDD और SSD), ऑडियो कार्ड, नेटवर्क कार्ड, USB पोर्ट्स, और अन्य हार्डवेयर कंपोनेंट्स को जोड़ने के स्लॉट्स और सोकेट्स होते हैं।
  • डेटा की पारंपरिक स्थान और संचालन: मदरबोर्ड उपयोगकर्ता के द्वारा दी गई निर्देशों के अनुसार डेटा और डिजिटल संकेतों की पारंपरिक स्थान और संचालन की स्थापना करता है। यह CPU के और अन्य कंपोनेंट्स के बीच डेटा पर्याप्तता को सुनिश्चित करता है और उनके साथ संचालन करने में मदद करता है।
  • एक्सपैंशन कार्डों को स्थापित करना: मदरबोर्ड पर PCIe स्लॉट्स होते हैं, जिनका उपयोग ग्राफिक्स कार्ड, साउंड कार्ड, वीडियो कैप्चर कार्ड, और अन्य एक्सपैंशन कार्डों को स्थापित करने के लिए होता है।
  • BIOS/UEFI के साथ प्रारंभिक कॉन्फ़िगरेशन: मदरबोर्ड पर BIOS (Basic Input/Output System) या UEFI (Unified Extensible Firmware Interface) होता है, जिसका उपयोग सिस्टम की प्रारंभिक कॉन्फ़िगरेशन और स्थापना को संचालित करने के लिए किया जाता है।
  • सभी हार्डवेयर कंपोनेंट्स के साथ संचालन: मदरबोर्ड कंप्यूटर के सभी हार्डवेयर कंपोनेंट्स के साथ संचालन करता है और उनके बीच संचालन की स्थापना करता है ताकि कंप्यूटर निर्देशों के अनुसार काम कर सके।
  • विभिन्न विशेषताओं का समर्थन: मदरबोर्ड विभिन्न विशेषताओं को समर्थन कर सकता है, जैसे कि ऑवरक्लॉकिंग, RAID (Redundant Array of Independent Disks), और अद्वितीय ग्राफिक्स कार्ड कॉन्फ़िगरेशन।

3. Random Access Memory (RAM)

रैंडम एक्सेस मेमोरी (Random Access Memory – RAM) कंप्यूटर का एक प्रमुख हार्डवेयर कंपोनेंट है जो कंप्यूटर में तात्काल डेटा संग्रहित करता है और तात्काल डेटा प्रोसेसिंग के लिए उपयोग होता है। RAM कंप्यूटर की कार्यक्षमता और प्रदर्शन के लिए महत्वपूर्ण है, और यह डेटा को विशेष रूप से तेजी से पठने और लिखने में सहायक होता है।

Random Access Memory (RAM) के कार्य

रैंडम एक्सेस मेमोरी (RAM) का मुख्य कार्य है कंप्यूटर में तात्काल डेटा संग्रहित करना और तात्काल डेटा प्रोसेसिंग के लिए उपयोग होना। यह कंप्यूटर की कार्यक्षमता और प्रदर्शन को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। RAM के कार्य निम्नलिखित होते हैं:

  • तात्काल डेटा एक्सेस: RAM कंप्यूटर के तात्काल उपयोग के लिए डेटा संग्रहित करता है, जिसका उपयोग कंप्यूटर के वर्तमान कार्यों के लिए किया जाता है। यह तात्काल पठने और लिखने में अत्यधिक तेजी के साथ डेटा को उपलब्ध कराता है।
  • कार्यक्षमता बढ़ाना: अधिक RAM कंप्यूटर की कार्यक्षमता और प्रदर्शन को बेहतर बनाता है, क्योंकि यह कंप्यूटर को अधिक डेटा संग्रहित करने की अनुमति देता है और इसे तेजी से प्रोसेस करने में मदद करता है।
  • स्पेस फॉर टेम्पररी संग्रहण: RAM कंप्यूटर के वर्तमान कार्यों के लिए स्थायी संग्रहण स्थल के रूप में कार्य करता है, जिससे कंप्यूटर डेटा को तात्काल उपयोग कर सकता है और इसे तुरंत मिटा देता है जब कार्य समाप्त होता है।
  • डेटा प्रोसेसिंग का समर्थन: RAM कंप्यूटर के सभी कार्यों के लिए डेटा प्रोसेसिंग का समर्थन करता है, जैसे कि एप्लिकेशन चलाना, गेम्स खेलना, वीडियो बनाना, और वेब ब्राउज़ करना।
  • सांचा: RAM कंप्यूटर के वर्तमान कार्यों के साथ संचालन करने के लिए सांचा की भूमिका निभाता है, जिससे डेटा को तेजी से प्राप्त किया जा सकता है और कंप्यूटर के वर्तमान कार्यों को पूरा करने में मदद करता है।

इसके अलावा, RAM कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम, एप्लिकेशन, और उपयोगकर्ता डेटा को स्थानिक संग्रहण से अलग करके कंप्यूटर की प्रदर्शन क्षमता को बढ़ाता है, और यह सुनिश्चित करता है कि कंप्यूटर तेज़ और स्मूथ रूप से काम करता है।

बुलेट प्रूफ जैकेट क्या है, किसका बना होता है

4. Hard Disk Drive (HDD)

हार्ड डिस्क ड्राइव (Hard Disk Drive – HDD) कंप्यूटर में डेटा संग्रहण के लिए एक प्रमुख आकर्षण संग्रहण डिवाइस है। HDD कंप्यूटर में जानकारी संग्रहित करने के लिए ब्रिटेन स्थित तरीका का उपयोग करता है जिसमें डेटा को मैग्नेटिक डिस्क्स पर संग्रहित किया जाता है।

Hard Disk Drive (HDD) के कार्य

हार्ड डिस्क ड्राइव (Hard Disk Drive – HDD) के मुख्य कार्य निम्नलिखित होते हैं:

  • डेटा संग्रहण: HDD का मुख्य कार्य डेटा को संग्रहित करना है। यह डेटा को फाइलों और फोल्डर्स के रूप में ब्रिटेन पर मैग्नेटिक डिस्क्स पर संग्रहित करता है।
  • डेटा पठने और लिखने की स्थिति को प्रबंधित करना: HDD कंप्यूटर की विभिन्न ऑपरेशन्स (जैसे कि डेटा पठने और डेटा लिखने) के लिए डेटा की पठने और लिखने की स्थितियों को प्रबंधित करता है।
  • डेटा को सेक्टरों और ट्रैक्स में विभाजित करना: HDD डेटा को संग्रहित करने के लिए विभिन्न सेक्टरों और ट्रैक्स में विभाजित करता है ताकि उपयोगकर्ता कबीर तक सही जगह से डेटा को प्राप्त कर सके।
  • डेटा प्रोसेसिंग का समर्थन: HDD कंप्यूटर के विभिन्न कार्यों के लिए डेटा प्रोसेसिंग का समर्थन करता है, जैसे कि एप्लिकेशन चलाना, फ़ाइलों को खोलना, डेटाबेस के साथ काम करना, और डेटा को प्राप्त करना।
  • बड़े संग्रहण क्षमता: HDD आमतौर पर बड़े संग्रहण क्षमता वाले होते हैं, इसलिए आप बड़े फ़ाइलों, वीडियो, ऑडियो, और अन्य महत्वपूर्ण डेटा को संग्रहित कर सकते हैं।
  • स्थायी संग्रहण: HDD कंप्यूटर को बंद करने पर भी डेटा को स्थायी रूप से संग्रहित कर सकता है, इसका मतलब है कि जब आप कंप्यूटर को बंद करते हैं, तो डेटा खो नहीं जाता है।
  • ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ़्टवेयर संग्रहण: HDD पर ऑपरेटिंग सिस्टम, एप्लिकेशन, और सॉफ़्टवेयर संग्रहित होते हैं, जो कंप्यूटर के कार्य को संचालित करते हैं और उपय

5. Graphics Processing Unit (GPU)

ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग यूनिट (Graphics Processing Unit – GPU) कंप्यूटर हार्डवेयर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो ग्राफ़िक्स और वीडियो के संबंधित कार्यों को संचालित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। GPU का मुख्य कार्य ग्राफ़िक्स और वीडियो प्रोसेसिंग को तेजी से और तात्काल रूप से करना है।

ग्राफ़िक्स प्रोसेसिंग यूनिट (GPU) के कार्य हैं

  • ग्राफ़िक्स रेंडरिंग: GPU ग्राफ़िक्स रेंडरिंग के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिससे कंप्यूटर वीडियो गेम्स, 3D ग्राफ़िक्स, और अन्य ग्राफ़िक्स आवश्यकताओं को प्राप्त कर सकता है।
  • वीडियो डेकोडिंग और एन्कोडिंग: GPU वीडियो फ़ाइलों के डेकोडिंग और एन्कोडिंग के कार्यों को संचालित करता है, जिससे वीडियो स्ट्रीमिंग, वीडियो संपादन, और वीडियो कॉलिंग जैसे कार्यों को सुविधाजनक बनाता है।
  • माल्टीमीडिया और ग्राफ़िक्स कार्य: GPU वेब ब्राउज़िंग, ऑडियो और वीडियो प्लेबैक, और फ़ोटो एडिटिंग जैसे मल्टीमीडिया और ग्राफ़िक्स कार्यों को तेजी से प्रोसेस करता है।
  • मशीन लर्निंग और डीप लर्निंग: GPU का उपयोग मशीन लर्निंग और डीप लर्निंग कार्यों को संचालित करने के लिए भी किया जाता है, क्योंकि यह कार्यों को तेजी से प्रोसेस करने में मदद करता है।

मोबाइल का आविष्कार किसने किया था और कब 

6. Solid State Drive (SSD)

सॉलिड स्टेट ड्राइव (Solid State Drive – SSD) एक प्रकार की फ़्लैश मेमोरी आधारित स्टोरेज डिवाइस है जिसका उपयोग कंप्यूटर और डिजिटल डिवाइस्स में डेटा संग्रहण के लिए किया जाता है। इसकी मुख्य विशेषता है कि यह मैकेनिकल चालने वाले पारंपरिक हार्ड डिस्क ड्राइव (HDD) की तरह कोई चालने वाले हिस्से नहीं रखता है, और इसमें विशेष डिजिटल मेमोरी चिप्स का उपयोग होता है।

Solid State Drive (SSD) के कार्य

सॉलिड स्टेट ड्राइव (Solid State Drive – SSD) के मुख्य कार्य निम्नलिखित होते हैं:

  • डेटा संग्रहण: SSD का मुख्य कार्य डेटा को संग्रहित करना है। यह डेटा को फ़्लैश मेमोरी चिप्स पर संग्रहित करता है, जिसमें इलेक्ट्रॉनिक कॉम्पोनेंट्स का उपयोग होता है, जो डेटा को तात्काल रूप से पठने और लिखने के लिए ब्रिटेन करते हैं।
  • तेज़ डेटा पठने और लिखने की गति: SSD डेटा पठने और लिखने के लिए बहुत तेज़ और तात्काल रूप से काम करता है, इसलिए कंप्यूटर और डिजिटल डिवाइस्स को तेज़ और स्मूथ बनाता है।
  • डेटा प्रोसेसिंग का समर्थन: SSD कंप्यूटर के विभिन्न कार्यों के लिए डेटा प्रोसेसिंग का समर्थन करता है, जैसे कि एप्लिकेशन चलाना, फ़ाइलों को खोलना, डेटाबेस के साथ काम करना, और डेटा को प्राप्त करना।
  • लाइफ स्पैन और टैंडरनेस: SSD अक्सर एक दिनांक के बाद भी जिंदा रह सकते हैं, क्योंकि इसमें कोई मैकेनिकल हिस्सा नहीं होता है, जिससे उनकी टैंडरनेस और लाइफ स्पैन बढ़ जाती है।
  • ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ़्टवेयर संग्रहण: SSD पर ऑपरेटिंग सिस्टम, एप्लिकेशन, और सॉफ़्टवेयर संग्रहित होते हैं, जो कंप्यूटर के कार्य को संचालित करते हैं और उपयोगकर्ताओं को सुविधा प्रदान करते हैं।
  • मोबाइल डिवाइस्स में उपयोग: SSD का उपयोग लैपटॉप्स, टैबलेट्स, स्मार्टफोन्स, और अन्य मोबाइल डिवाइस्स में भी किया जाता है, क्योंकि यह लाइटवेट और ऊर्जा कुशली रूप से काम करता है।

7. Power Supply Unit (PSU)

पॉवर सप्लाई यूनिट (Power Supply Unit – PSU) कंप्यूटर और डिजिटल डिवाइस्स के लिए एक महत्वपूर्ण हार्डवेयर कंपोनेंट होता है जो इन उपकरणों को ऊर्जा प्रदान करता है। PSU का मुख्य कार्य विभिन्न वोल्टेज और आम्पियर स्तरों पर स्थिर और उचित तरीके से विद्युत शक्ति उपलब्ध कराना है ताकि सभी कंपोनेंट्स सही तरीके से काम कर सकें।

PSU के मुख्य कार्य

  • विद्युत शक्ति प्रदान करना: PSU का मुख्य कार्य विद्युत शक्ति प्रदान करना होता है। यह विभिन्न स्तरों पर DC (डायरेक्ट करंट) और AC (एल्टरनेटिंग करंट) विद्युत शक्ति को समझकर उपकरणों को उचित तरीके से बिजली प्रदान करता है।
  • ओवरलोड प्रोटेक्शन: PSU ओवरलोड प्रोटेक्शन प्रदान करता है, जिससे यदि कंप्यूटर के किसी कंपोनेंट के द्वारा अधिक बिजली की मांग होती है, तो यह स्वचालित रूप से बंद हो सकता है ताकि उपकरणों को हानि नहीं पहुंचे।
  • विद्युत शक्ति के स्तर को नियंत्रित करना: PSU यूजर के आवश्यकताओं के आधार पर विद्युत शक्ति के स्तर को नियंत्रित करने की क्षमता रखता है, जिससे ऊर्जा संचयन और कंप्यूटर की सुरक्षा में मदद मिलती है।
  • सभी कंप्यूटर कंपोनेंट्स को ऊर्जा प्रदान करना: PSU कंप्यूटर की मद्दत करता है ताकि यह विभिन्न कंपोनेंट्स को उचित विद्युत शक्ति प्रदान कर सके, जैसे कि मदरबोर्ड, CPU, GPU, हार्ड डिस्क ड्राइव, और अन्य पेरिफेरल्स।
  • कूलिंग: कुछ PSU मॉडल्स में इंटीग्रेटेड कूलिंग फ़ैन्स होते हैं जो PSU को ठंडा रखने में मदद करते हैं ताकि यह अच्छी तरह से काम कर सके।

PSU का चयन कंप्यूटर की शक्ति आवश्यकताओं के आधार पर किया जाता है, और इसे यथावत विद्युत शक्ति स्तर प्रदान करने के लिए कंप्यूटर के अनुसार बढ़ावा दिया जाता है।

सैटेलाइट क्या है, कैसे उड़ता है? What is Satellite in Hindi

8. Computer Case

कंप्यूटर केस (Computer Case), जिसे कई बार कंप्यूटर टावर या चेसिस के रूप में भी जाना जाता है, एक हार्डवेयर कंपोनेंट है जो कंप्यूटर के अंदरीय घड़ियों को सुरक्षित रखने और संरचित करने के लिए डिज़ाइन किया जाता है।

कंप्यूटर केस के मुख्य कार्य

  • कंप्यूटर के कंपोनेंट्स को संरचित रखना: कंप्यूटर केस कंप्यूटर के सभी मुख्य कंपोनेंट्स को सुरक्षित रखने और संरचित करने के लिए डिज़ाइन किया जाता है, जैसे कि मदरबोर्ड, CPU, GPU, RAM, हार्ड डिस्क ड्राइव, और पावर सप्लाई।
  • हार्डवेयर कंपोनेंट्स की ठंडक देना: कंप्यूटर केस वेंटिलेशन (हवा निकासी और हवा प्रवाह) को बढ़ावा देता है ताकि कंप्यूटर के कंपोनेंट्स ठंडे रहें, जिससे उनका उचित कामकाज और टाहलने में मदद मिलती है।
  • केबल मैनेजमेंट: कंप्यूटर केस काबल्स और वायर्स को संरचित और छिपाने के लिए जगह प्रदान करता है, जिससे कंप्यूटर का बाहरी दृश्य सा
    फी बचा रहता है और कंप्यूटर कंपोनेंट्स के बीच विद्युत संचरण में मदद मिलती है।
  • एसेसिबिलिटी: कंप्यूटर केस के डिज़ाइन को इस तरीके से किया जाता है कि उपयोगकर्ता आसानी से कंप्यूटर कंपोनेंट्स को एक्सेस कर सकें, जैसे कि हार्डवेयर को अपग्रेड करने के लिए या कंपोनेंट्स को स्वचालित रूप से निकालने और स्थापित करने के लिए।
  • सुरक्षा: कंप्यूटर केस उपयोगकर्ता के कंप्यूटर को धोखाधड़ी और ध्वस्ति से बचाने में मदद करता है, ताकि बाहरी आक्रमणों और उपयोगकर्ता द्वारा नहीं जा सकता है।

कंप्यूटर केस की आकार, डिज़ाइन, और फीचर्स विभिन्न हो सकते हैं, और वे अपनी आवश्यकताओं और कंप्यूटर की स्पेसिफिकेशन्स के आधार पर चयन किए जा सकते हैं।

9. Power Supply Unit (PSU)

पॉवर सप्लाई यूनिट (Power Supply Unit – PSU) कंप्यूटर और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिए एक महत्वपूर्ण हार्डवेयर कंपोनेंट होता है जो विद्युत शक्ति को संग्रहित करता है और विभिन्न कंपोनेंट्स को इसे आवश्यक तरीके से प्रदान करता है। PSU कंप्यूटर के लिए बिजली का स्रोत होता है और यह विद्युत शक्ति को विभिन्न वोल्टेज और आम्पियर स्तरों पर डिलीवर करता है, जिससे कंप्यूटर के सभी कंपोनेंट्स को संचालित करने के लिए उचित शक्ति प्रदान की जाती है।

PSU के मुख्य कार्य

  • विद्युत शक्ति प्रदान करना: PSU का मुख्य कार्य विद्युत शक्ति को संग्रहित करना और विभिन्न स्तरों पर DC (डायरेक्ट करंट) और AC (एल्टरनेटिंग करंट) विद्युत शक्ति को डिलीवर करना है।
  • ओवरलोड प्रोटेक्शन: PSU ओवरलोड प्रोटेक्शन प्रदान करता है, जिससे यदि कंप्यूटर के किसी कंपोनेंट के द्वारा अधिक बिजली की मांग होती है, तो यह स्वचालित रूप से बंद हो सकता है ताकि उपकरणों को हानि नहीं पहुंचे।
  • विद्युत शक्ति के स्तर को नियंत्रित करना: PSU यूजर के आवश्यकताओं के आधार पर विद्युत शक्ति के स्तर को नियंत्रित करने की क्षमता रखता है, जिससे ऊर्जा संचयन और कंप्यूटर की सुरक्षा में मदद मिलती है।
  • सभी कंप्यूटर कंपोनेंट्स को ऊर्जा प्रदान करना: PSU कंप्यूटर के सभी मुख्य कंपोनेंट्स को उचित विद्युत शक्ति प्रदान करता है, जैसे कि मदरबोर्ड, CPU, GPU, हार्ड डिस्क ड्राइव, और पावर सप्लाई।
  • कूलिंग: कुछ PSU मॉडल्स में इंटीग्रेटेड कूलिंग फ़ैन्स होते हैं जो PSU को ठंडा रखने में मदद करते हैं ताकि यह अच्छी तरह से काम कर सके।

PSU का चयन कंप्यूटर की शक्ति आवश्यकताओं के आधार पर किया जाता है, और इसे यथावत विद्युत शक्ति स्तर प्रदान करने के लिए कंप्यूटर के अनुसार बढ़ावा दिया जाता है।

10. Keyboard

कीबोर्ड (Keyboard) एक प्रकार का प्राथमिक इनपुट डिवाइस होता है जिसे कंप्यूटर, लैपटॉप, टैबलेट, और अन्य डिजिटल डिवाइस्स के साथ उपयोग किया जाता है। यह कंप्यूटर पर टेक्स्ट, नंबर्स, और अन्य डेटा को इनपुट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

कीबोर्ड के मुख्य फ़ीचर्स

  1. कीबोर्ड की कुंजियाँ: कीबोर्ड पर अक्सर अल्फाबेट्स, नंबर्स, स्पेशल चरेक्टर्स, और फ़ंक्शन कुंजियों की कुंजियाँ होती हैं जो उपयोगकर्ता कंप्यूटर पर टेक्स्ट और अन्य डेटा इनपुट करने में मदद करती हैं।
  2. नंबर पैड: कुछ कीबोर्ड्स में एक अलग नंबर पैड होता है जिसे नंबर्स को इनपुट करने के लिए उपयोग किया जा सकता है।
  3. फ़ंक्शन कुंजियाँ: कुछ कुंजियाँ विशेष कार्यों के लिए होती हैं, जैसे कि फ़ाइलों को सेव करना, प्रिंट करना, या स्क्रीनशॉट लेना।
  4. मल्टीमीडिय कुंजियाँ: मॉडर्न कीबोर्ड्स में अक्सर मल्टीमीडिय कंट्रोल कुंजियाँ भी होती हैं, जो ऑडियो और वीडियो चलाने और नियंत्रित करने में मदद करती हैं।
  5. वायरलेस कीबोर्ड: कुछ कीबोर्ड्स वायरलेस होते हैं, जिन्हें बिना केबल के इस्तेमाल किया जा सकता है, और वे एक रिसीवर के माध्यम से कंप्यूटर से जुड़ते हैं।
  6. गेमिंग कीबोर्ड: कुछ कीबोर्ड्स गेमिंग के लिए डिज़ाइन किए जाते हैं जो गेमर्स को खेलने में अधिक तेज़ी और प्रेसिजन प्रदान करते हैं।

सॉफ्टवेयर क्या है, कितने प्रकार के होते हैं? – Software Kya Hai

11. Mouse

माउस (Mouse) एक प्रकार का हैंडहेल्ड इनपुट डिवाइस होता है जिसका उपयोग कंप्यूटर और अन्य डिजिटल डिवाइस्स के साथ किया जाता है। माउस का मुख्य कार्य कंप्यूटर पर स्क्रीन परिपर्ण विभिन्न कार्यों को नेविगेट करने और इनपुट करने के लिए होता है, जैसे कि कर्सर को चलाना, फ़ाइलों को खोलना, टेक्स्ट सिलेक्ट करना, और क्लिक करना।

माउस के मुख्य फीचर्स

  • डिस्क्रीट क्लिक की क्षमता: माउस के दो बटन होते हैं, जो विभिन्न कार्यों के लिए क्लिक किए जा सकते हैं, जैसे कि लेफ्ट क्लिक और राइट क्लिक।
  • स्क्रॉल व्हील: कुछ माउस मॉडल्स में स्क्रॉल व्हील होता है, जिससे यूज़र स्क्रीन पर ऊपर-नीचे स्क्रॉल कर सकता है।
  • वायरलेस और वायर्ड माउस: माउस वायरलेस (बिना केबल के) और वायर्ड (केबल के साथ) दोनों तरीकों से उपलब्ध होते हैं।
  • गेमिंग माउस: गेमिंग के लिए डिज़ाइन किए गए माउस्स्स विशेष रूप से गेमर्स के लिए होते हैं, जिनमें एक्सट्रा फीचर्स और डिज़ाइन प्रेसिजन के लिए होते हैं।
  • ऑप्टिकल और लेज़र सेंसर: माउस के नीचे एक ऑप्टिकल या लेज़र सेंसर होता है जो माउस की गति को ट्रैक करने में मदद करता है।
  • एर्गोनोमिक डिज़ाइन: कुछ माउस डिज़ाइन एर्गोनोमिक होते हैं ताकि उपयोगकर्ता के हाथों को सही से समर्थित कर सकें और हाथ की थकान को कम करें।

माउस कंप्यूटर नेविगेशन और इनपुट के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण है, और यह विभिन्न कामकाज को सुविधाजनक और आसान बनाता है।

12. Optical Drive

ऑप्टिकल ड्राइव (Optical Drive) एक प्रकार का हार्डवेयर कंपोनेंट होता है जिसका उपयोग डिस्क मीडिया जैसे कि CD, DVD, और Blu-ray डिस्क्स के पठने और डेटा को पठने के लिए किया जाता है। इसका मुख्य कार्य डिस्क पर संग्रहित डेटा, एन्क्रिप्टेड मीडिया, गेम्स, सॉफ़्टवेयर, और अन्य मल्टीमीडिय फ़ाइल्स को पठने और लिखने के लिए होता है।

ऑप्टिकल ड्राइव के कार्य

  • CD ड्राइव: CD ड्राइव एक प्रकार की ऑप्टिकल ड्राइव होती है जिसका उपयोग CD डिस्क पठने और लिखने के लिए किया जाता है।
  • DVD ड्राइव: DVD ड्राइव DVD डिस्क्स को पठने और लिखने के लिए होती है और यह CD ड्राइव की तुलना में अधिक डेटा स्टोर कर सकती है।
  • Blu-ray ड्राइव: Blu-ray ड्राइव Blu-ray डिस्क्स को पठने और लिखने के लिए होती है और यह उच्च गुणवत्ता वाली वीडियो और ऑडियो स्टोर कर सकती है।

ऑप्टिकल ड्राइव्स आवश्यकताओं के हिसाब से आकार, स्पीड, और स्टैंडर्ड्स के हिसाब से विभिन्न हो सकती हैं। ये ड्राइव्स कंप्यूटर, लैपटॉप, गेमिंग कंसोल्स, और अन्य डिजिटल उपकरणों में आते हैं और उपयोगकर्ताओं को डिस्क्स से डेटा को प्राप्त करने और संग्रहित करने का अवसर प्रदान करते हैं।

13. Network Card

नेटवर्क कार्ड (Network Card), जिसे नेटवर्क एडाप्टर या नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड भी कहा जाता है, एक हार्डवेयर कंपोनेंट होता है जो कंप्यूटर को नेटवर्क के साथ कनेक्ट करने में मदद करता है। इसका मुख्य कार्य होता है डेटा को नेटवर्क पर भेजने और प्राप्त करने का।

नेटवर्क कार्ड के प्रमुख कार्य

  • नेटवर्क कनेक्टिविटी: नेटवर्क कार्ड कंप्यूटर को नेटवर्क केबल या वायरलेस कनेक्टिविटी के साथ जोड़ता है ताकि कंप्यूटर नेटवर्क से कनेक्ट हो सके।
  • डेटा पैकेट्स का इंटरप्रिटेशन: नेटवर्क कार्ड डेटा पैकेट्स को सही तरीके से समझता है और उन्हें कंप्यूटर के लिए उपयोग करने के लिए प्रोसेस करता है।
  • MAC एड्रेस प्रबंधन: नेटवर्क कार्ड के पास एक अद्वितीय एमएसी (Media Access Control) एड्रेस होता है जो नेटवर्क पर यूनिक आईडेंटिफ़ायर के रूप में कार्य करता है।
  • डेटा पैकेट्स की बाउफ़रिंग: नेटवर्क कार्ड डेटा पैकेट्स को बाउफ़र कर सकता है ताकि कंप्यूटर उन्हें व्यवस्थित रूप से प्राप्त कर सके।
  • नेटवर्क सुरक्षा: नेटवर्क कार्ड नेटवर्क सुरक्षा प्रोटोकॉल्स का पालन करके नेटवर्क सुरक्षा को सुनिश्चित कर सकता है, जैसे कि फ़ायरवॉल और एन्क्रिप्शन।

नेटवर्क कार्ड कंप्यूटर को इंटरनेट, लोकल नेटवर्क, वायरलेस नेटवर्क, और अन्य नेटवर्कों से कनेक्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और नेटवर्किंग के विभिन्न पहलुओं को संचालित करने में मदद करता है।

14. Sound Card

कंप्यूटर साउंड कार्ड (Computer Sound Card) एक हार्डवेयर कंपोनेंट होता है जो कंप्यूटर में ऑडियो सिग्नल्स को प्रोसेस करता है और ऑडियो उपकरणों के साथ संचालन करने की क्षमता प्रदान करता है। यह कंप्यूटर से आवाज को इनपुट और आवाज को आउटपुट करने के लिए जिम्मेदार होता है।

साउंड कार्ड के मुख्य कार्य

  • आवाज प्रोसेसिंग: साउंड कार्ड कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न किए गए आवाज सिग्नल्स को प्रोसेस करता है ताकि वे सुनाई दे सकें।
  • ऑडियो इनपुट: साउंड कार्ड विभिन्न ऑडियो स्रोतों से ऑडियो सिग्नल्स को प्राप्त कर सकता है, जैसे कि माइक्रोफ़ोन या लाइन-इन डिवाइस।
  • ऑडियो आउटपुट: यह कार्ड कंप्यूटर से विभिन्न आवाजीय उपकरणों, जैसे कि स्पीकर्स या हेडफ़ोन्स, के साथ जुड़े रहता है ताकि उपयोगकर्ता आवाज सुन सके।
  • ऑडियो रेकॉर्डिंग: साउंड कार्ड कंप्यूटर से आवाज को रिकॉर्ड करने की क्षमता प्रदान करता है, जिसे आवाज वॉयस रिकॉर्डिंग कहा जाता है।
  • संगीत और मल्टीमीडिय प्लेबैक: साउंड कार्ड कंप्यूटर पर संगीत और वीडियो प्लेबैक को संचालित करने में मदद करता है, जिससे उपयोगकर्ता ऑडियो और वीडियो का आनंद ले सकता है।

साउंड कार्ड कंप्यूटर की मल्टीमीडिय फ़ंक्शन को बेहतर बनाता है और उपयोगकर्ताओं को ऑडियो और वीडियो का आनंद लेने में मदद करता है। इसके अलावा, कुछ कंप्यूटर्स में बिल्ट-इन साउंड कार्ड होती है।

15. Speakers

कंप्यूटर स्पीकर्स (Computer Speakers) एक प्रकार के आवाज़ीय उपकरण होते हैं जो कंप्यूटर द्वारा प्रस्तुत की जाने वाली आवाज़ को सुनने के लिए उपयोग किए जाते हैं। ये स्पीकर्स कंप्यूटर के साथ जुड़े रहते हैं और वीडियो गेम्स, फ़िल्में, संगीत, वीडियो कॉलिंग, और अन्य मल्टीमीडिय अनुभवों को आवाज़ के साथ देते हैं।

कंप्यूटर स्पीकर्स के कार्य

  • स्टीरियो और सराउंड साउंड: कंप्यूटर स्पीकर्स आमतौर पर स्टीरियो आवाज़ को सपोर्ट करती हैं, जिससे वाद्य और गायन का अधिक आनंद लिया जा सकता है। कुछ उच्च-गुणवत्ता के स्पीकर्स सराउंड साउंड भी प्रदान कर सकते हैं जो वीडियो और गेमिंग के लिए उपयोगी होता है।
  • आवाज़ की गुणवत्ता: अच्छे स्पीकर्स बेहतर आवाज़ की गुणवत्ता प्रदान करेंगे, जो बेहतर सुनने का अनुभव देते हैं।
  • बास और ट्रेबल कंट्रोल: कुछ स्पीकर्स में बास और ट्रेबल को नियंत्रित करने के लिए नॉब्स या बटन्स होते हैं, जिससे आवाज़ की गुणवत्ता को अनुकूलित किया जा सकता है।
  • जैक्स और कनेक्शन्स: कंप्यूटर स्पीकर्स को कंप्यूटर से जुड़ने के लिए आमतौर पर 3.5 मिमी ऑडियो जैक्स का उपयोग करके किया जाता है। वे भी अन्य साउंड स्रोतों से जुड़ा सकते हैं, जैसे कि स्मार्टफ़ोन या टैबलेट।

कंप्यूटर स्पीकर्स उपयोगकर्ताओं को ऑडियो अनुभव का आनंद लेने में मदद करते हैं और कंप्यूटर और मल्टीमीडिय का इस्तेमाल बेहतर बनाते हैं।

Conclusion –

लेट में हमने आपको कंप्यूटर के सभी मुख्य पार्ट्स के नाम और उनके कार्यों के बारे में बताया है ताकि आपको कंप्यूटर के बाहरी और आंतरिक पार्ट्स के बारे में अच्छे से नॉलेज हो जाए। अगर आपको कंप्यूटर के सभी मुख्य 50 पाठ के नाम और उनके कार्य से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट भेज सकते हैं ताकि हम आपको और अच्छे से समझाने का प्रयास करेंगे।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...