Mpin क्या है, एमपिन कैसे बनाएं? – What is MPIN in Hindi

Date:

इस आर्टिकल में एमपिन क्या है, एमपिन कैसे बनाएं? (What is mpin, how to create mpin in Hindi?) के बारे में बताएंगे ताकि आपको Mpin Kya Hota Hai, Mpin Kaise Banaye, Mpin Kaise Istemal, Use Kare के बारे में विस्तृत जानकारी देने वाले हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

दोस्तों आजकल जमाना डिजिटल का बनता जा रहा है हर कोई ऑनलाइन सुविधा चाहता है वह चाहे खरीदारी हो या फिर लेन-देन का मामला हो। आप में से बहुत से लोग ऑनलाइन खरीदारी या ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते होंगे। यह काफी सुविधापूर्वक माना जाता है। आप में से बहुत से लोग एटीएम का भी प्रयोग पैसे का लेनदेन के लिए करते होंगे। जब आप एटीएम से पैसे निकालते हैं तब आपको एक पिन डालना होता है तब जाकर पैसा एटीएम से बाहर आता है।

ठीक उसी प्रकार जब आप मोबाइल बैंकिंग या ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको एक पिन की जरूरत पड़ती है जो की ट्रांजैक्शन के समय आपको डालना होता है। आपको ऑनलाइन पेमेंट एप जैसे पेटीएम,फोनपे, गूगल पे आदि से ट्रांजैक्शन करने के लिए पिन की जरूरत होती है लेकिन मोबाइल बैंकिंग के लिए हमें Mpin की जरूरत पड़ती है। आज हम बात करेंगे और Mpin के बारे में और इसे कैसे जनरेट किया जाता है इसको लेकर भी चर्चा करेंगे।

MPIN क्या होता है? – What is Mpin in Hindi

MPIN ज्यादातर 4 या 6 अंकों का संख्यात्मक कोड होता है जिसका उपयोग मोबाइल बैंकिंग लेनदेन को सुचारू रूप से करने के लिए किया जाता है। एमपिन लेन-देन को प्रमाणित करने का एक सुरक्षित तरीका है क्योंकि यह केवल यूजर्स को पता होता है। जिस तरह से आप अपने फोन की OTP किसी अनजान व्यक्ति को नहीं बताते हैं ठीक उसी प्रकार Mpin भी शेयर नहीं किया जाता है।

MPIN का उपयोग विभिन्न मोबाइल बैंकिंग लेनदेन जैसे फंड ट्रांसफर, बिल पेमेंट और बैलेंस इंक्वायरी के लिए किया जाता है। एमपिन का उपयोग करने के लिए यूजर्स को अपने बैंक के साथ मोबाइल बैंकिंग सेवाओं के लिए रजिस्ट्रेशन करना होगा और एक एमपिन बनाना होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद यूजर्स को एमपिन के साथ एक SMS प्राप्त होगा।

एक बार एमपिन बन जाने के बाद यूजर्स को हर बार मोबाइल बैंकिंग या ऑनलाइन ट्रांजैक्शन लेनदेन शुरू करने पर इसे रिकॉर्ड करना होगा।  एमपिन यह सुनिश्चित करता है कि लेनदेन यूजर्स द्वारा ऑथराइज है और यह यूजर्स के बैंक खाते तक अनधिकृत पहुंच को रोकने के लिए सुरक्षा की एक अतिरिक्त कवच प्रदान करता है।

यदि यूजर्स अपना एमपिन भूल जाते हैं तो वे बैंक के गाइडलाइंस का पालन करके इसे रीसेट कर सकते हैं। यूजर्स को अपने खाते का डिटेल प्रदान करना होगा और अपने डेबिट कार्ड डिटेल या बैंक द्वारा प्रदान की गई अन्य ऑथेंटिकेशन मैथड का उपयोग करके स्वयं को प्रमाणित करना होगा।

Related – सॉफ्टवेयर क्या है, कितने प्रकार के होते हैं? – Software Kya Hai

MPIN की परिभाषा क्या है? – Mpin Meaning in Hindi

MPIN एक यूनिक कोड है जिसका उपयोग मोबाइल बैंकिंग लेनदेन को स्पष्ट करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए यदि कोई यूजर्स अपने मोबाइल फोन का उपयोग करके अपने बैंक खाते से पैसों को ट्रांसफर करना चाहता है तो उन्हें लेनदेन को अधिकृत करने के लिए अपना एमपिन दर्ज करने के लिए कहा जाएगा। यूजर्स एमपिन दर्ज करेगा और लेनदेन तभी प्रोसेस्ड होगा जब एमपिन सही होगा।

MPIN का फुल फॉर्म क्या है? – Mpin Full Form in Hindi

MPIN का फुल फॉर्म मोबाइल पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर (Mobile Personal Identification Number) होता है और इसको हिंदी में मोबाइल व्यक्तिगत पहचान संख्या के नाम से जानते है।

Related – GPS कैसे काम करता है? What is GPS and how does it work in Hindi

MPIN कैसे बनाये? – How To Create MPIN in Hindi

यदि आप मोबाइल बैंकिंग के लिए एमपी बनाना चाहते हैं तो आपको नीचे दिए गए कुछ स्टेप्स को फॉलो करना होगा।

  • प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से अपने बैंक का मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन डाउनलोड करें और इसे अपने मोबाइल डिवाइस पर इंस्टॉल करें।
  • App खोलें और नया अकाउंट बनाने के लिए रजिस्टर या साइन अप बटन पर क्लिक करें।
  • आवश्यक डिटेल जैसे अपना नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल एड्रेस और अन्य पर्सनल जानकारी भरें।
  • अपने अकाउंट के लिए एक लॉगिन पासवर्ड सेट करें और इसे दोबारा दर्ज करके इसकी पुष्टि करें।
  • इसके बाद आपको एक एमपिन बनाने के लिए कहा जाएगा। ऐसा 4 या 6 digit संख्यात्मक कोड चुनें जिसे याद रखना आपके लिए आसान हो लेकिन दूसरों के लिए अनुमान लगाना कठिन हो। अपनी जन्मतिथि, फ़ोन नंबर या किसी अन्य आसानी से पहचाने जाने योग्य जानकारी को अपने एमपिन के रूप में उपयोग न करें।
  • अपने एमपिन को दोबारा सेव करके पुष्टि करें।
  • एक बार जब आप अपना एमपिन बना लेंगे तो इसे मोबाइल बैंकिंग ऐप में सेव हो जाएगा और भविष्य के सभी लेनदेन के लिए उपयोग किया जाएगा।
  • आप मोबाइल बैंकिंग ऐप के सेटिंग्स या प्रोफाइल सेक्शन में जाकर कभी भी अपना एमपिन बदल सकते हैं।
  • अपने एमपिन को प्राइवेटली रखना याद रखें और इसे कभी भी किसी और के साथ शेयर न करें।

इन स्टेप्स का पालन करके आप आसानी से मोबाइल बैंकिंग के लिए एक एमपिन बना सकते हैं और कहीं से भी कभी भी अपने बैंक खाते तक सुरक्षित और सुविधाजनक पहुंच का आनंद ले सकते हैं।

Related – IP Address क्या होता है, आईपी एड्रेस कैसे पता करे? -What is IP Address in Hindi

MPIN का उपयोग क्या है? – Mpin Ke Upyog

जैसा कि हमने आपको MPIN क्या होता है और उसकी परिभाषा क्या होती है इसके बारे में बताया अब हम बात करते हैं इसके उपयोग के बारे में। एमपिन का उपयोग महत्वपूर्ण है क्योंकि यह मोबाइल बैंकिंग प्रक्रिया में सुरक्षा की एक अतिरिक्त लेयर प्रदान करता है। यह यूजर्स के बैंक खाते तक गलत तरीके से पहुंच को रोकने में मदद करता है और यह सुनिश्चित करता है कि केवल लीगल यूजर्स ही लेनदेन तक पहुंच सकता है और पूरा कर सकता है। यह आज की दुनिया में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जहां साइबर क्राइम बढ़ रहा है और हैकर्स हमेशा लोगों की फाइनेंशियल जानकारी तक पहुंच हासिल करने के तरीकों की तलाश में रहते हैं।

एमपिन का उपयोग करने के लिए यूजर्स को पहले अपने बैंक के साथ मोबाइल बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के दौरान यूजर्स को एक यूनिक एमपिन बनाने के लिए प्रेरित किया जाएगा जिसका उपयोग वे लेनदेन को ऑथराइज करने के लिए करेंगे। एक बार एमपिन बन जाने के बाद,इसे बैंक द्वारा सुरक्षित रूप से संग्रहीत किया जाता है और केवल यूजर्स ही इसका उपयोग कर सकता है।

MPIN का उपयोग अन्य प्रकार के मोबाइल लेनदेन जैसे बिल पेमेंट, फंड ट्रांसफर और बैलेंस पूछताछ के लिए भी किया जाता है। इसके अलावा, MPIN का उपयोग यूजर्स के मोबाइल बैंकिंग पासवर्ड को रीसेट करने या उनके अकाउंट को अनलॉक करने के लिए किया जा सकता है यदि यह कई असफल लॉगिन प्रयासों के कारण लॉक हो गया है।

जब यूजर्स लेनदेन करना चाहता है, तो उन्हें लेनदेन को अधिकृत करने के लिए अपना एमपिन दर्ज करने के लिए कहा जाएगा। यूजर्स एमपिन दर्ज करेगा और लेनदेन तभी प्रोसेस होगा जब एमपिन कोड सही होगा। यदि एमपिन गलत है, तो लेनदेन रुक जाएगा और यूजर्स को सही एमपिन दर्ज करने के लिए फिर से बोला जाएगा।

MPIN के फायदे क्या है? – Benifits Of Mpin in Hindi

  • अनधिकृत पहुंच को रोकता है : एमपिन यूजर्स के बैंक खाते में अनधिकृत पहुंच को रोकने में मदद करता है और यह सुनिश्चित करता है कि केवल अधिकृत यूजर्स ही लेनदेन तक पहुंच सकता है और पूरा कर सकता है। इससे धोखाधड़ी का जोखिम कम हो जाता है और यूजर्स की फाइनेंशियल इंफॉर्मेशन  की सुरक्षा सुनिश्चित हो जाती है।
  • सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत जोड़ता है: एमपिन मोबाइल बैंकिंग प्रक्रिया में सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत जोड़ता है, जिससे यह अधिक सुरक्षित और विश्वसनीय हो जाती है। यह सुनिश्चित करता है कि केवल अधिकृत यूजर्स ही अपने बैंक खाते तक पहुंच सकता है और ट्रांजैक्शन पूरा कर सकता है।
  • उपयोग में आसान : एमपिन का उपयोग करना आसान है और इसे यूजर्स द्वारा मोबाइल बैंकिंग की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के दौरान बनाया जा सकता है। यूजर्स 4 या तो 6 अंकों का संख्यात्मक कोड सेट कर सकता है जिसे वे आसानी से याद रख सकते हैं और लेनदेन को अधिकृत करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।
  • जल्दी ऑथराइजेशन : एमपिन लेनदेन का जल्दी प्राधिकरण प्रदान करता है, जिससे यूजर्स के लिए चलते-फिरते लेनदेन पूरा करना सुविधाजनक हो जाता है। लेनदेन को जल्दी और आसानी से ऑथराइज करने के लिए यूजर्स अपना एमपिन दर्ज कर सकते हैं।
  • धोखाधड़ी के जोखिम को कम करता है: एमपिन यह सुनिश्चित करके मोबाइल बैंकिंग लेनदेन में धोखाधड़ी के जोखिम को कम करता है कि केवल अधिकृत यूजर्स ही अपने बैंक खाते तक पहुंच सकता है और लेनदेन पूरा कर सकता है। यह अनधिकृत पहुंच और धोखाधड़ी को रोकने के लिए सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत जोड़ता है।
  • यूजर्स के अनुकूल : मोबाइल बैंकिंग ऐप जैसे पेटीएम, फोनपे आदि को यूजर्स के अनुकूल और सहज बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। एमपिन सुविधा प्रमाणीकरण प्रक्रिया को सरल बनाकर और यूजर्स के लिए लेनदेन को पूरा करना आसान बनाकर इसे और भी अधिक यूजर्स-अनुकूल बनाती है।
  • मानसिक शांति प्रदान करता है : एमपिन यूजर्स को उनकी फाइनेंशियल जानकारी की सुरक्षा सुनिश्चित करके मानसिक शांति प्रदान करता है। यूजर्स टेंशन मुक्त हो सकते हैं कि उनका बैंक खाता सुरक्षित है और वे बिना किसी चिंता के लेनदेन पूरा कर सकते हैं।

Related – MPL से Paise कैसे कमाए? How to Earn Money From MPl in Hindi

MPIN के लिए उपयोग किए जाने वाले ट्रांजैक्शन क्या हैं?

निम्न प्रकार के लेन देन के लिए MPIN का उपयोग किया जाता है।

  • मोबाईल बैंकिंग (Mobile Banking)
  • आईवीआर (IVR)
  • UPI App
  • IMPS Transaction ( Immediate Payment Service)
  • एसएमएस बैंकिंग (SMS Banking)
  • यूएसएसडी बैंकिंग (USSD Banking)

PIN और MPIN के बीच अंतर क्या है?

PIN (पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर) एक संख्यात्मक कोड है जिसका उपयोग यूजर्स की आइडेंटिटी प्रमाणित करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग आमतौर पर एटीएम लेनदेन, डेबिट कार्ड लेनदेन और ऑनलाइन बैंकिंग के लिए किया जाता है। पिन आमतौर पर 4 अंकों का कोड होता है जिसे यूजर्स द्वारा अपने खाते तक पहुंचने या लेनदेन पूरा करने के लिए दर्ज किया जाता है।

दूसरी ओर MPIN है एक समान संख्यात्मक कोड है जिसका उपयोग विशेष रूप से मोबाइल बैंकिंग ऐप्स के लिए किया जाता है। एक पिन के विपरीत,जिसका उपयोग विभिन्न बैंकिंग सेवाओं के लिए किया जा सकता है, एक एमपिन मोबाइल बैंकिंग ऐप्स के लिए विशिष्ट है।

पिन और एमपिन के बीच मुख्य अंतर उनका उद्देश्य और उपयोग है। एक पिन का उपयोग विभिन्न बैंकिंग सेवाओं के लिए किया जाता है और इसका उपयोग कई डिवाइसेज पर किया जा सकता है,जबकि एक एमपिन का उपयोग विशेष रूप से मोबाइल बैंकिंग ऐप्स के लिए किया जाता है। 

MPIN और TPIN में क्या अंतर है?

TPIN (टेलीफोनिक पर्सनल आइडेंटिफिकेशन नंबर) और एमपिन (मोबाइल पर्सनल आइडेंटिफिकेशन नंबर) दोनों का उपयोग बैंकिंग और वित्तीय लेनदेन में प्रमाणीकरण उद्देश्यों के लिए किया जाता है। TPIN एक चार से छह अंकों का नंबर होता है जिसका उपयोग बैंकिंग लेनदेन करते समय फोन पर कस्टमर की पहचान प्रमाणित करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग केवल टेलीफोनिक लेनदेन के लिए किया जाता है और इसका उपयोग ऑनलाइन या मोबाइल लेनदेन के लिए नहीं किया जा सकता है।

TPIN आमतौर पर बैंक द्वारा जेनरेट किए जाते हैं और ग्राहक के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेजे जाते हैं। ग्राहक को टीपिन याद रखना होगा और जब भी वे टेलीफोनिक लेनदेन करेंगे तो इसका उपयोग करना होगा।

Related – साइबर अपराध/क्राइम क्या हैंं, बचाव के उपाय और प्रकार क्या हैंं? What is Cyber Crime in Hindi 

टीपिन और एमपिन के बीच मुख्य अंतर हैं:

  • उपयोग : टीपिन का उपयोग केवल टेलीफोनिक लेनदेन के लिए किया जाता है, जबकि एमपिन का उपयोग मोबाइल और इंटरनेट बैंकिंग लेनदेन के लिए किया जाता है।
  • प्लेटफ़ॉर्म : TPIN का उपयोग फ़ोन पर किया जाता है, जबकि MPIN का उपयोग मोबाइल फ़ोन या कंप्यूटर पर किया जाता है।
  • सुरक्षा : टीपिन और एमपिन दोनों बैंकिंग लेनदेन के लिए सुरक्षा प्रदान करते हैं, लेकिन एमपिन को अधिक सुरक्षित माना जाता है क्योंकि इसका उपयोग ऑनलाइन और मोबाइल लेनदेन के लिए किया जाता है जो धोखाधड़ी के प्रति अधिक कारगर होते हैं।

USSD के तहत MPIN कैसे जारी करते है?

यहां USSD के तहत एमपिन जारी करने के बारे में एक सामान्य स्टेप वाइस गाइडलाइन दी गई है:

  • MPIN रिसीव करने वाले यूजर्स को सर्वप्रथम अपने Mobile से जो Number बैंक खाता के साथ Link हो उससे USSD कोड *99# dial करें। फिर MPIN ऑप्शन चुने।
  • जैसे ही आपके account पर USSD सर्विस चालू होती है उसके बाद Bank से link करे।
  • इसके बाद आपके रिलेवेंट बैंक का IFSC Code के शुरू के 4 digit और Bank कौन सी है उस Bank के नाम के 3 letter टाइप करे और send के ऑप्शन पर क्लिक करे।
  • उसके बाद next step में 7 नंबर लिखकर send करे।
  • 1 नंबर को सलेक्ट करके सेंड करे अपनी इच्छानुसार MPIN का निर्माण करे और सबमिट के बटन पर क्लिक करके MPIN जेनरेट करने के लिए जाए।
  • अब आपको कुछ इंस्ट्रक्शन दिए जायेंगे जिनको ध्यानपूर्वक पढ़े और 2 नंबर type करके send पर क्लिक करे फिर आपका MPIN बदल जायेगा।
  • अंतिम चरण में आपको अपने पुराने MPIN को save कर New MPIN लिखकर submit कर दे।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सटीक प्रक्रिया बैंक और उनकी यूएसएसडी सेवा के आधार पर भिन्न हो सकती है। यूएसएसडी के तहत एमपिन जारी करने के तरीके के बारे में विशिष्ट निर्देशों के लिए अपने बैंक से जांच करना उचित है।

निष्कर्ष –

आशा करते हैं कि आपको या आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा और Mpin से जुड़ी तमाम जानकारी आपको प्राप्त हो गई होगी। हमने इस आर्टिकल के जरिए आपको Mpin क्या होता है इसके क्या लाभ हैं, यह कहां उपयोग होता है और इसको कैसे बनाया जाता है आदि के बारे में जानकारी प्रदान की है।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...