एक अच्छा डोमेन नाम कैसे चुनें? How to Choose a Good Domain Name in Hindi।

Date:

इस के लेख मे एक अच्छा डोमेन नाम कैसे चुनें? (How To Choose a Good Domain name), वेबसाइट का नाम करण कैसे और क्या रखें और डोमेन नाम कितने प्रकार एवं डोमेन का मतलब क्या होता है, डोमेन नाम कैसा होना चाहिए की जानकारी बताने वाले हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

Domain Name Kaise Chune। Domain Naam Kaisr Selection Kare। Best Domain Name Find Kaise Kare। Domain Name Kaisa Hona chahiye। Domain Name Kitne Word Ka Hona Chahiye। डोमेन नाम क्या रखे। डोमेन नाम कितने अक्षर का होना चाहिए?। Domain Kaise Banaye।

दोस्तों हम आपको बताना चाहेंगे कि Niche के हिसाब से डोमेन सिलेक्ट नही कर पाने की वजह से ही लगभग 50 पर्सेंट लोग Blogging के फील्ड में सक्सेस नही हो पाते हैं। यादि आपका डोमेन अच्छा नही है तो आपके आर्टिकल अच्छे होने के बावजूद भी आपकी हार्ड वर्किंग हिसाब से आपको परिणाम नही मिलेगा।

खासतौर से जो न्यू ब्लॉगर होते है वो बहुत जल्दीबाजी में पूरी इंफॉर्मेशन लिए बगैर Domain Name खरीद कर Post अपलोड करना प्रारंभ कर देते है और जब उनको करेक्ट डोमेन सिलेक्शन का मालूम होता है तब तक बहुत विलंब हो जाता है फिर वो अपने फेलियर के वजह से हताश होकर यही सोचते है की उनका Blogging में कैरियर नही बन सकता है।

दोस्तों आज हम आपके हताश और डिमोटिवेट होने के कारण को दूर करके आपको अपने वेबसाइट के लिए एक अच्छा डोमेन कैसे चुना जाता है और अच्छा डोमेन क्या होता है आदि के बारे में इनफॉरमेशन प्रदान करेंगे।

Domain क्या होता है?

Domain वह यूनिक नाम है जो इंटरनेट पर किसी वेबसाइट की पहचान करता है। यह बिंदुओं (dot) द्वारा अलग किए गए कैरेक्टर की एक स्ट्रिंग है और इसमें आमतौर पर .com, .org, या .net जैसे Top Level Domain (TLD) शामिल होते हैं।

Domain Name का उपयोग वेबसाइट तक पहुंचने के लिए किया जाता है और यूजर्स साइट पर जाने के लिए इसे अपने वेब ब्राउज़र के एड्रेस बार में टाइप करते हैं। उदाहरण के लिए URL “https://www.google.com” में “google.com” Domain Name है।

Domain का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जिसमें पर्सनल वेबसाइट, कमर्शियल वेबसाइट, ई-कॉमर्स साइट, ब्लॉग और बहुत कुछ शामिल हैं। इनका उपयोग ईमेल एड्रेस के लिए भी किया जा सकता है और डोमेन नाम ईमेल पते में @ sign के बाद दिखाई देता है।

Related – सॉफ्टवेयर क्या है, कितने प्रकार के होते हैं? – Software Kya Hai

Domain का उपयोग किस लिए किया जाता है?

इंटरनेट पर किसी वेबसाइट की पहचान या उसे रैंक करने के लिए डोमेन का उपयोग किया जाता है। जब कोई आपके डोमेन नाम को अपने वेब ब्राउज़र में टाइप करता है तो यह उन्हें आपकी वेबसाइट के सर्वर पर निर्देशित करता है जहां वेबसाइट स्टोर होती है।

डोमेन महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे आपकी ब्रांड पहचान और ऑनलाइन उपस्थिति स्थापित करने में मदद करते हैं। इसके अतिरिक्त एक कस्टम डोमेन होने से आपकी वेबसाइट की सर्च इंजन रैंकिंग में सुधार करने और इसे यूजर्स के लिए अधिक विश्वसनीय बनाने में मदद मिल सकती है।

डोमेन का उपयोग ईमेल पते के लिए भी किया जा सकता है। उदाहरण के लिए यदि आपका डोमेन “example.com” है, तो आप अपने बिजनेस के लिए “info@example.com” या “support@example.com” जैसे ईमेल एड्रेस बना सकते हैं। 

Related – IP Address क्या होता है, आईपी एड्रेस कैसे पता करे? -What is IP Address in Hindi

एक सबसे अच्छा डोमेन नाम कैसे चुनें? । How to Choose a Good Domain Name in Hindi

अपनी वेबसाइट के लिए बेस्ट डोमेन चुनना एक महत्वपूर्ण निर्णय है जो आपकी ऑनलाइन उपस्थिति और ब्रांड पहचान को प्रभावित कर सकता है। डोमेन चुनते समय विचार करने योग्य कुछ फैक्टर्स यहां दिए गए हैं:

  • आपका डोमेन नाम आपके ब्रांड को रिफ्लेक्ट करना चाहिए और यादगार होना चाहिए। यह छोटा और आकर्षक होना चाहिए।
  • आपके डोमेन नाम में रिलेवेंट Keywords शामिल करने से आपकी वेबसाइट की सर्च इंजन रैंकिंग में सुधार करने में मदद मिल सकती है।
  • आपके द्वारा चुना गया TLD आपकी वेबसाइट की क्रेडिबिलिटी और विजिबिलिटी को भी प्रभावित कर सकता है। फेमस टीएलडी में .com, .org, .net और .co.uk या .ca जैसे  टीएलडी शामिल हैं।
  • डोमेन नाम चुनने से पहले,इसकी उपलब्धता की जांच करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह पहले से ही किसी और द्वारा रजिस्टर्ड नहीं किया गया है। आप उपलब्ध डोमेन खोजने के लिए GoDaddy या Namecheap जैसी डोमेन रजिस्ट्रार वेबसाइटों का उपयोग कर सकते हैं।
  • यह सुनिश्चित करें कि आपका चुना हुआ डोमेन नाम किसी ट्रेडमार्क या कॉपीराइट का उल्लंघन नहीं करता है।  
  • डोमेन नाम चुनते समय अपने बिजनेस या वेबसाइट की भविष्य की उन्नति पर विचार करें। यदि आप भविष्य में अपनी ऑफरिंग का विस्तार करते हैं तो हो सकता है कि आप स्वयं को किसी स्पेशल स्थान तक सीमित रखने से बचना चाहें।

Related – Top 10 search engines in the world in Hindi । दुनिया के शीर्ष 10 खोज इंजन

देश के अनुसार Domain Select

देश के अनुसार डोमेन चुनना उन बिजनेस के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है जो किसी विशेष ज्योग्राफिक स्थान को लक्षित करना चाहते हैं या विशेष दर्शकों को पूरा करना चाहते हैं। देश के अनुसार डोमेन चुनते समय विचार करने के लिए यहां कुछ स्टेप दिए गए हैं:

  • कंट्री स्पेसिफिक डोमेन पर रिसर्च करें: प्रत्येक देश का अपना Domain Extension होता है,जैसे USA के लिए .us, Canada के लिए .ca, United Kingdom के लिए .co.uk, आदि। देश के अनुसार ही डोमेन को चुने।
  • अपनी वेबसाइट के उद्देश्य पर विचार करें : अपनी वेबसाइट के उद्देश्य के बारे में सोचें और यह उस देश से कैसे संबंधित है जिसे आप लक्षित करना चाहते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप किसी स्पेसिफिक देश में प्रोडक्ट या सर्विस बेच रहे हैं तो इस तरह का डोमेन एक्सटेंशन का उपयोग करने से लोकल ग्राहकों के साथ credibility और मान बढ़ाने में मदद मिल सकती है।
  • उपलब्धता की जांच करें : एक बार जब आप उस Country Specific डोमेन एक्सटेंशन की पहचान कर लें जिसका आप उपयोग करना चाहते हैं, तो यह देखने के लिए जांचें कि क्या यह उपलब्ध है। 
  • यदि आप किसी विशिष्ट देश को टारगेट कर रहे हैं तो भाषा और सांस्कृतिक अंतर पर विचार करना महत्वपूर्ण है।  
  • विभिन्न देशों में डोमेन नाम और वेबसाइटों से संबंधित अलग अलग कानून और नियम हैं। सुनिश्चित करें कि देश-विशिष्ट डोमेन चुनते और उपयोग करते समय आप लोकल कानूनों और रेगुलेशन का पालन कर रहे हैं।

भाषा के अनुसार Domain Select

भाषा के अनुसार डोमेन चुनना उन बिज़नेस के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है जो एक विशेष लिंग्विस्टिक ऑडियंस को टारगेट करना चाहते हैं।  भाषा के अनुसार Domain सिलेक्ट करने के लिए यहां कुछ स्टेप दिए गए हैं:

  • कुछ देशों में कई भाषाएँ बोली जाती हैं और प्रत्येक भाषा के लिए विशेष Domain Extension हो सकते हैं।  उदाहरण के लिए, स्विट्जरलैंड में .ch (स्विस) और .fr (फ़्रेंच) डोमेन एक्सटेंशन हैं।  
  • अपनी वेबसाइट के उद्देश्य के बारे में सोचें और यह उस भाषा से कैसे संबंधित है जिसे आप टारगेट करना चाहते हैं।  
  • एक बार जब आप उस लैंग्वेज स्पेसिफिक डोमेन एक्सटेंशन की पहचान कर लें जिसका आप उपयोग करना चाहते हैं, तो यह देखने के लिए जांचें कि क्या यह उपलब्ध है। आप इसे डोमेन रजिस्ट्रार के माध्यम से या डोमेन सर्च टूल का उपयोग करके कर सकते हैं।
  • यदि आप किसी विशेष भाषा को टारगेट कर रहे हैं तो अपनी वेबसाइट के कंटेंट या ब्लॉग का उस भाषा में ट्रांसलेट करना महत्वपूर्ण है। यह सुनिश्चित करता है कि आपकी वेबसाइट आपके टारगेट दर्शकों के लिए सुलभ और समझने योग्य है।
  • यदि आप किसी विशिष्ट भाषा को टारगेट कर रहे हैं तो सांस्कृतिक अंतरों पर विचार करना महत्वपूर्ण है।  सुनिश्चित करें कि आपकी वेबसाइट की कंटेंट कल्चरल नॉर्म्स और प्रायोरिटी को ध्यान में रखती है।
  • कई देशों में डोमेन नाम और वेबसाइटों से संबंधित अलग अलग रूल्स और रेगुलेशन हैं। 

Related – Processor क्या है, कैसे काम करता है? What is Processor in Hindi

कैटेगरी के अनुसार Domain Select

Category के अनुसार डोमेन चुनना उन बिजनेस के लिए भी महत्वपूर्ण हो सकता है जो किसी विशिष्ट इंडस्ट्री या क्षेत्र को टारगेट करना चाहते हैं। 

  • कुछ इंडस्ट्री में विशिष्ट डोमेन एक्सटेंशन होते हैं जो आमतौर पर उपयोग किए जाते हैं। उदाहरण के लिए .org Extension का उपयोग आमतौर पर गैर-लाभकारी संगठनों के लिए किया जाता है, जबकि .edu Extension का उपयोग शैक्षणिक संस्थानों के लिए किया जाता है। अपने इंडस्ट्री या क्षेत्र के लिए उपलब्ध विभिन्न डोमेन एक्सटेंशन पर रिसर्च करें।
  • अपनी वेबसाइट के उद्देश्य के बारे में सोचें और यह आपके इंडस्ट्री या क्षेत्र से कैसे संबंधित है। उदाहरण के लिए, यदि आप स्वास्थ्य सेवा इंडस्ट्री में हैं तो .healthcare या .medical जैसे डोमेन एक्सटेंशन का उपयोग करने से आपको लाभ मिलेगा।
  • एक बार जब आप उस डोमेन एक्सटेंशन की पहचान कर लें जिसका आप उपयोग करना चाहते हैंbतो यह देखने के लिए जांचें कि क्या यह उपलब्ध है।  
  • एक ऐसा डोमेन नाम चुनें जो आपके इंडस्ट्री या क्षेत्र के लिए अनुकूल हो।  यह सर्च इंजन रिजल्ट्स में आपकी वेबसाइट की दृश्यता को बेहतर बनाने में मदद कर सकता हैं
  • आपका डोमेन नाम भी आपकी ब्रांडिंग प्लांस का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हो सकता है। ऐसा डोमेन नाम चुनें जो यादगार हो, स्पेलिंग और उच्चारण में आसान हो और आपके ब्रांड की पहचान को दर्शाता हो।
  • कैटेगरी के अनुसार डोमेन चुनते समय, SEO और वेबसाइट डिजाइन के लिए बेस्ट प्रक्टिसिस का पालन करना महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आपकी वेबसाइट सर्च इंजनों के लिए अनुकूलित है और पॉजिटिव यूजर्स अनुभव प्रदान करने के लिए डिज़ाइन की गई है।

चर्चित या फेमस Domain Copy

Domain बनाने से पहले एक चीज ध्यान देने योग्य है की कोई भी फेमस Website के Domain Name को Copy ना करें,आपके ऐसा करने पर आपकी Websites Google की नजरो में अच्छी Website नही मानी जाएगी, फेमस वेबसाइट जैसे कि Neilpatel ji की Website, News वाली Website जैसे कि Aaj tak, India Times Today,Ndtv आदि Moneycontrol,Paisabazaar.com आदि अपना खुद का एक New Domain Name बनाएं।

किसी फेमस या लोकप्रिय Domain Name का चयन करना फायदेमंद और नुकसानदेह दोनों हो सकता है। हालाँकि यह आपके ब्रांड की पहचान और विश्वसनीयता को तुरंत बढ़ा सकता है,लेकिन इसे प्राप्त करना और अधिक लागत के साथ प्राप्त करना अधिक चुनौतीपूर्ण भी हो सकता है।  इसके अलावा यदि डोमेन का उपयोग past में किसी अन्य कंपनी द्वारा किया गया है तो इसकी नेगेटिव प्रतिष्ठा या इतिहास जुड़ा हो सकता है जो आपके ब्रांड पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। किसी प्रसिद्ध या लोकप्रिय डोमेन नाम को अपनाने से पहले संभावित लाभों और कमियों को तौलना महत्वपूर्ण है।

शॉर्ट Domain Name

शॉर्ट डोमेन नाम आम तौर पर केवल कुछ अक्षरों या शब्दों से बने होते हैं, जिससे उन्हें याद रखना और वेब ब्राउज़र में टाइप करना आसान हो जाता है। व्यवसायों और व्यक्तियों द्वारा समान रूप से उनकी अत्यधिक मांग की जाती है,क्योंकि वे किसी ब्रांड या वेबसाइट के लिए एक प्रोफेशनल और पॉलिश इमेज प्रदान कर सकते हैं।

Short Domain नाम का एक मुख्य लाभ यह है कि इसकी ब्रांडिंग और मार्केटिंग करना आसान हो सकता है। एक छोटा नाम अधिक यादगार होता है और आपके वेबसाइट या ब्लॉगिंग का एक मजबूत ऑनलाइन उपस्थिति स्थापित करने में मदद कर सकता है। इसके अतिरिक्त शॉर्ट डोमेन नाम अक्सर देखने में अधिक आकर्षक होते हैं और इन्हें बिजनेस कार्ड, विज्ञापनों और अन्य मार्केटिंग कंटेंट में फिट करना आसान हो सकता है।

Short डोमेन नामों के साथ एक और संभावित समस्या यह है कि वे Long नामों की तुलना में कम वर्णनात्मक हो सकते हैं। इससे संभावित ग्राहकों के लिए यह समझना कठिन हो सकता है कि वेबसाइट या ब्रांड क्या है। ऐसे में एक शॉर्ट नाम चुनना महत्वपूर्ण है जो आपके बिजनेस के लिए अभी भी प्रासंगिक और सार्थक हो।

शीर्ष स्तरीय डोमेन (Top Level Domain)

एक टॉप लेवल डोमेन (TLD) किसी डोमेन नाम का अंतिम भाग होता है, जैसे .com, .org, या .net। यह Domain Name System (DNS) में टॉप लेवल है और इसका उपयोग वेबसाइटों को उनके उद्देश्य या भौगोलिक स्थान के आधार पर वर्गीकृत करने के लिए किया जाता है। TLD के दो मुख्य प्रकार हैं: जनरल टीएलडी (GTLD) और कंट्री कोड टीएलडी (CCTLD)। GTLD  के कुछ उदाहरणों में .com, .net, .org और .edu शामिल हैं, जबकि CCTLD में यूनाइटेड किंगडम के लिए .uk, कनाडा के लिए .ca और ऑस्ट्रेलिया के लिए .au शामिल हैं। टीएलडी का चुनाव किसी वेबसाइट के सर्च इंजन अनुकूलन (SEO) पर प्रभाव डाल सकता है और वेबसाइट को ज्यादा रैंकिंग और अधिकार की धारणा को भी प्रभावित कर सकता है।

Domain Name क्या होना चाहिए?

Domain Name का चयन वेबसाइट के उद्देश्य और ब्रांडिंग के आधार पर किया जाना चाहिए।  इसे याद रखना आसान होना चाहिए, वेबसाइट के कंटेंट के लिए प्रासंगिक होना चाहिए और विशेष रूप से इसमें ऐसे Keyword शामिल होने चाहिए जो वेबसाइट के विषय से संबंधित हों। 

Domain Name सावधानी से चुना जाना चाहिए क्योंकि यह वेबसाइट की ऑनलाइन पहचान है। उदाहरण के लिए यदि वेबसाइट ट्रैवल के बारे में है,तो डोमेन नाम “traveladventures.com” या “wanderlustworld.com” जैसा कुछ हो सकता है। ये नाम याद रखने में आसान हैं और स्पष्ट रूप से दर्शाते हैं कि वेबसाइट किस बारे में है।

Domain Name के प्रकार

डोमेन नाम कई प्रकार के होते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • टॉप लेवल डोमेन (TLD): ये डोमेन नाम का सबसे सामान्य प्रकार हैं और इसमें .com, .org और .net जैसे Extension शामिल हैं। TLD को इंटरनेट असाइन्ड नंबर अथॉरिटी (IANA) द्वारा प्रबंधित किया जाता है और डोमेन नाम रजिस्ट्रार के माध्यम से रजिस्ट्रेशन के लिए उपलब्ध हैं।
  • कंट्री कोड टॉप लेवल डोमेन (CCTLD): ये डोमेन एक्सटेंशन हैं जो किसी विशेष देश या क्षेत्र के लिए विशिष्ट हैं। उदाहरणों में यूनाइटेड किंगडम के लिए .uk और चीन के लिए .cn शामिल हैं।
  • जेनेरिक टॉप लेवल डोमेन (GTLD) : ये नए टीएलडी हैं जिन्हें डोमेन नामों में ज्यादा प्रकार और विकल्प प्रदान करने के लिए 2012 में पेश किया गया था।  उदाहरणों में .ब्लॉग, .शॉप, और .app शामिल हैं।
  • सेकंड लेवल डोमेन : ये डोमेन नाम का वह भाग है जो TLD से पहले आता है।  उदाहरण के लिए, डोमेन नाम “example.com” में “example” Second Level का डोमेन है।
  • सब डोमेन : ये डोमेन नाम के अतिरिक्त भाग होते हैं जो दूसरे लेवल के डोमेन से पहले आते हैं। उदाहरण के लिए, डोमेन नाम “blog.example.com” में “ब्लॉग” Subdomain है।
  • इंटरनेशनलाइज्ड डोमेन नाम (IDN) : ये ऐसे डोमेन नाम हैं जो Non-ascii Characters का उपयोग करते हैं, जैसे उच्चारण अक्षर या Non latin स्क्रिप्ट के वर्ण। IDN वेबसाइटों को उन डोमेन नामों का उपयोग करने की अनुमति देता है जो उनके लोकल दर्शकों के लिए अधिक योग्य हैं।

Domain Name के उदाहरण 

•  Google.com 

•  Facebook.com 

•  Amazon.com  

•  Twitter.com 

•  LinkedIn.com 

•  YouTube.com 

•  Instagram.com 

•  Reddit.com 

•  Wikipedia.org  

•  Dropbox.com

निष्कर्ष –

आशा करते हैं कि आपको या आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा एक अच्छा डोमेन क्या होता, एक अच्छे डोमेन कैसे चुने ,उसके लाभ, उसके प्रकार और उससे जुड़े उदाहरण। आपने इससे जुड़ी तमाम जानकारियां को अच्छे से जुटा लिया होगा। यदि आपको अपने ब्लॉगिंग करियर पर ध्यान देना है तो आपको एक अच्छा डोमेन चुनने की आवश्यकता होती है।

बेस्ट डोमेन नेम कैसे चुने या बनाए लेख को आप अपने सभी सोशल मीडिया ऐप पर शेयर करें ताकि उनको भी पता चले कि एक अच्छा डोमेन नाम कहां से और कैसे सिलेक्शन करे।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...