HTTP Full Form in Hindi – एचटीटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है?

Date:

एचटीटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है: दोस्तों क्या आप जानते हो एचटीटीपी का फुल फॉर्म यानि पूरा नाम क्या होता है अगर आप HTTP (H.T.T.P.) KA FULL FORM IN HINDI AND ENGLISH में जानना चाहते हों तो आप एक सही आर्टिकल पर आएं हैं।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

आज हम आपको HTTP Full Form in Hindi: एचटीटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है? (What is the full form of HTTP?) के बारे में सही जानकारी देने वाले हैं ताकि आपको फुल फॉर्म ऑफ एचटीटीपी (Full Form of HTTP In Hindi) के बारे में पता चल सके।

HTTP Full Form in Hindi – एचटीटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है?

HTTP ka Full Form – “Hyper Text Transfer Protocol” होता है। एचटीटीपी (HTTP) को हिंदी में “हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफ़र प्रोटोकॉल” कहा जाता है।

एच (H) – हाइपर (Hyper)

टी (T) – टेक्स्ट (Text)

टी (T) – ट्रांसफ़र (Transfer)

पी (P) – प्रोटोकॉल (Protocol)

HTTP Full Form in English

HTTP Full Form – “Hyper Text Transfer Protocol” होता है।

H – Hyper

T – Text

T – Transfer

P – Protocol

USB Full Form in Hindi & English – क्या है यूएसबी का फुल फॉर्म

HTTP क्या है? (What is HTTP in Hindi)

HTTP का पूरा नाम होता है “हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफ़र प्रोटोकॉल (Hyper Text Transfer Protocol)”। HTTP एक एप्लिकेशन प्रोटोकॉल होता है, जिसमें आमतौर पर वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) पर वितरित डेटा फ़ाइल सिस्टम और मल्टीमीडिया संचार को स्थानांतरित करने के लिए दिशानिर्देशों की एक सूची होती है।

यह वर्ल्ड वाइड वेब की मूल संरचना है, जिसमें डेटा संचार शामिल होता है। HTTP वेब ब्राउज़र संचार को बढ़ाता है जो लोगों को इंटरनेट पर जानकारी तक पहुंचने की अनुमति देता है, और इसका उपयोग अधिकांश वेबसाइट्स में किसी भी लिंक या फ़ाइल तक पहुंचने के लिए होता है।

HTTP को क्लाइंट-सर्वर कंप्यूटिंग मॉडल के भीतर एक अनुरोध-प्रतिक्रिया प्रोटोकॉल के रूप में बनाया गया है, और इसे एप्लिकेशन लेयर प्रोटोकॉल के रूप में इंटरनेट प्रोटोकॉल सूट के आधार पर डिज़ाइन किया गया है।

ATM Full Form in Hindi – एटीएम का फुल फॉर्म क्या होता है?

HTTP कैसे काम करता है? (Working of HTTP in Hindi)

HTTP सर्वर क्लाइंट संचालन मॉडल (Server Client Communication) पर काम करता है, यानि कि यह क्लाइंट कंप्यूटर (Client Computer) और वेब सर्वर (Web Server) के बीच संचालन स्थापित करने के लिए उपयोग होता है।

HTTP एप्लीकेशन लेयर प्रोटोकॉल (Application Layer Protocol) पर काम करता है। जब कोई उपयोगकर्ता वेब ब्राउज़र को खोलकर वेबसाइट का URL टाइप करता है, तो इसका अनुरोध इंटरनेट के माध्यम से वेब सर्वर (Web Server) में भेजा जाता है, और सर्वर उपयोगकर्ता के द्वारा किए गए अनुरोध के डेटा को क्लाइंट को भेज देता है।

OTP Full Form in Hindi – ओटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है?

HTTP के कितने प्रकार होते हैं? (Types of HTTP in Hindi)

HTTP मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं।

1. HTTP/1.1: यह पुरानी संस्करण की तुलना में अधिक प्रयुक्त होता था। यह एक कनेक्शन-स्थायी (connection-oriented) प्रोटोकॉल था, जिसमें प्रत्येक अनुरोध के लिए एक नया कनेक्शन स्थापित किया जाता था।

2. HTTP/2: इसका डिज़ाइन भारी या विशेषतः जटिल सामग्री के साथ साइट्स के लोडिंग को तेज़ करने के लिए किया गया था। यह एक अर्ध-कनेक्शन (half-duplex) प्रोटोकॉल है, जिसमें एक कनेक्शन पर एक साथ अनेक अनुरोध हो सकते हैं।

3. HTTPS: HTTPS (HTTP सुरक्षित) एक सुरक्षित संस्करण है जो सर्वर और ब्राउज़र के बीच एक्रिप्शन (encryption) का उपयोग करता है। इससे डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित होती है, जिससे गोपनीयता सुरक्षित रहती है और किसी भी अनैतिक प्रक्रिया से बचा जा सकता है।

HTTP की विशेषताएं (Features of HTTP)

HTTP की तीन मूल विशेषताएँ हैं जो HTTP को एक सरल और शक्तिशाली प्रोटोकॉल बनाती हैं:

HTTP कनेक्शन-रहित (HTTP is Connectionless)

HTTP क्लाइंट, जिसे ब्राउज़र भी कहा जाता है, HTTP रिक्वेस्ट की शुरुआत करता है और जब एक रिक्वेस्ट पूरा हो जाता है, तो क्लाइंट प्रोसेस का इंतजार करता है। सर्वर रिक्वेस्ट को प्रोसेस करता है और एक प्रतिक्रिया (Response) भेजता है, इसके बाद क्लाइंट कनेक्शन को डिस्कनेक्ट करता है। इसलिए, क्लाइंट और सर्वर वर्तमान रिक्वेस्ट और प्रतिक्रिया के दौरान एक दूसरे के बारे में जानते हैं। नए कनेक्शन पर आगे रिक्वेस्ट किए जाते हैं, जैसे कि क्लाइंट और सर्वर एक नए होते हैं।

HTTP स्वतंत्र मीडिया (HTTP is Media Independent)

इसका मतलब है कि HTTP के माध्यम से किसी भी प्रकार का डेटा भेजा जा सकता है, जब तक कि क्लाइंट और सर्वर दोनों को यह पता हो कि डेटा कंटेंट को कैसे संबोधित करना है। क्लाइंट के साथ, योग्य MIME (Multipurpose Internet Mail Extensions) प्रयोग करके सर्वर को आवश्यक कंटेंट प्रकार को निर्धारित करने की आवश्यकता होती है।

HTTP स्टेटलेस (HTTP is Stateless)

HTTP एक स्टेटलेस प्रोटोकॉल है, क्योंकि सर्वर और क्लाइंट केवल वर्तमान अनुरोध के दौरान ही एक-दूसरे को पहचानते हैं, और फिर वे एक-दूसरे को भूल जाते हैं। इस प्रोटोकॉल की प्रकृति के कारण, न तो क्लाइंट और न ही ब्राउज़र वेब पेजों पर विभिन्न अनुरोधों के बीच जानकारी को संग्रह कर सकते हैं।

HTTP के फायदे क्या है? (Advantages of HTTP In Hindi)

कनेक्शन की दर कम होने के कारण, मेमोरी और सीपीयू का उपयोग कम होता है। कनेक्शन के प्रारंभिक चरण में हैंडशेकिंग की जरूरत होती है, लेकिन इसके बाद, बाद के अनुरोधों के लिए हैंडशेकिंग की आवश्यकता नहीं होती, जिससे आगे की प्रक्रिया में देरी कम होती है। कनेक्शन को बिना बंद किए बिना ही त्रुटि पता चल जाती है। हम HTTP को अन्य प्रोटोकॉलों और नेटवर्क के साथ भी इंप्लीमेंट कर सकते हैं। HTTP आधारित वेब पेज, कंप्यूटर और इंटरनेट कैश में स्टोर होते हैं, जिसके कारण इन्हें आसानी से पहुंचा जा सकता है। HTTP प्लेटफ़ॉर्म-इंडिपेंडेंट प्रोटोकॉल है और इसके लिए runtime-support की आवश्यकता होती है।

HTTP के नुकसान क्या है? (Disadvantages of HTTP In Hindi)

HTTP कम power की आवश्यकता होती है जब बात communication स्थापित करने और डेटा स्थानांतरित करने की होती है। HTTP कम सुरक्षित होता है, क्योंकि यह किसी भी एन्क्रिप्शन विधि का उपयोग नहीं करता। कोई गोपनीयता नहीं होती क्योंकि कोई भी मैसेज या कंटेंट को देख सकता है और उसमें मॉडिफाई भी कर सकता है। क्लाइंट तब तक कनेक्शन बंद नहीं करता है जब तक कि उसे सर्वर से पूरा डेटा प्राप्त नहीं हो जाता, इसलिए सर्वर को डेटा पूरा होने की प्रतीक्षा करनी पड़ती है और इस समय के दौरान सर्वर अन्य क्लाइंट के लिए उपलब्ध नहीं हो सकता।

HTTP से जुड़े कुछ प्रमुख जानकारियां

  • HTTP का उपयोग कंप्यूटर सिस्टमों और सर्वर के बीच डेटा को आसानी से ट्रांसफर करने में मदद करता है। यह सिस्टम इंटरनेट पर संचयित जानकारी को साझा करने के लिए एक आम भाषा का काम करता है, जिससे विश्वव्यापी संचार को संभव बनाता है।
  • यह एक खुला प्रोटोकॉल है, जिसका मतलब है कि इसे कोई भी व्यक्ति अपने सिस्टम में उपयोग कर सकता है और इसे विकसित और सुधारा जा सकता है।
  • एक सार्वजनिक और खुले प्रोटोकॉल के रूप में, HTTP इंटरनेट पर विभिन्न वेबसाइटों, एप्लिकेशन और सेवाओं के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और इंटरनेट संचार को अगले स्तर पर ले जाकर इसमें सुधार जारी रखता है।

निष्कर्ष –

वैसे हमें लगता है कि अब आपको एचटीटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है या एचटीटीपी क्या होता है एवं एचटीटीपी का पूरा नाम क्या है हिंदी और इंग्लिश में आपको अच्छे से समझ में आ गया होगा अगर आपके मन में एचटीटीपी का फुल फॉर्म इन हिंदी में क्या होता है से संबंधित कोई प्रश्न हो तो हमें आप कमेंट कर सकते हैं।

HTTP Full Form in Hindi आर्टिकल को अपने सभी परिचित लोगों को शेयर करें ताकि उनका भी एचटीटीपी के बारे में नॉलेज बढ़े और उनका एचटीटीपी का फुल फॉर्म क्या होता है के बारे में सही जानकारी मिले।

keshav Barkule
keshav Barkulehttps://hindimeindia.com
Mera Naam keshav B. Barkule। Mein Hindimeindia.com Blog Ka Owner Hun। Hindi Me india Blog Par Technology, Software, Internet, Computer, Blogging, Earn Money Online Evam Education Se Related Latest Information Dete Hai.

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

How to free make money online – ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं.

ऑनलाइन पैसे कमाने के कई तरीके हैं। यहां कुछ...

Front End Developer – कैसे बने इन 2024.

2024 में फ्रंट एंड डेवलपर कैसे बनें Front End Developer...

Email ID कैसे बनाये.

ईमेल आईडी बनाने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन...

SEO कैसे करे और अपने ब्लॉग की ट्रैफिक बढ़ाये?

एक beginning जो नया नया blogging कर रहा है...